• Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • In Varanasi, The IAS Officer, Who Is Taking Charge Of The Observer, Deteriorated, Wife Was Sent By Helicopter From Kannauj.

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

वाराणसी / कन्नौज11 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक

एमएलसी चुनाव में ऑब्जर्वर आईएएस अजय सिंह की तबियत अचानक की बिगड़ गई जिसके बाद उन्हें यहां के शुभम अस्पताल में भर्ती कराया गया है।

  • अजय सिंह की IAS पत्नी नीना शर्मा कन्नौज में थी ड्यूटी, भेजा गया वाराणसी
  • तबियत खराब होने की वजह से उन्हें एयर एंबुलेंस से दिल्ली भेजने में हो रही परेशानी

MLC चुनाव में ऑब्जर्वर की ज़िम्मेदारी निभा रहे IAS अधिकारी अजय सिंह की वाराणसी में तबीयत बिगड़ गई। यह खबर आगरा में ऑब्जर्वर की जिम्मेदारी निभा रहीं उनकी IAS पत्नी को मिली तो वो कार से रवाना हो गईं। लेकिन सड़क से वहां तक पहुंचने में देरी को देखते हुए योगी सरकार ने उन्हें हेलीकॉप्टर की मदद दी। कन्नौज से उन्हें हेलीकॉप्टर से वाराणसी रवाना किया गया। दोपहर करीब डेढ़ बजे वह बनारस पहुंच भी गईं।

बताया जा रहा है IAS अफसर अजय सिंह की MLC चुनाव के दौरान वाराणसी में ऑब्जर्वर के रूप में डयूटी लगी है। उनकी पत्नी नीना शर्मा भी IAS हैं, उनकी ड्यूटी आगरा में ऑब्जर्वर के रूप में लगी है। बताया जा रहा है कि शुक्रवार की सुबह वाराणसी में ऑब्जर्वर अजय सिंह की तबीयत बिगड़ गई। मतगणना डयूटी के दौरान ही उन्हें दिल का दौरा पड़ा। उन्हें वहां के अस्पताल में भर्ती कराया गया। इसकी जानकारी जब आगरा में डयूटी कर रहीं उनकी पत्नी को मिली तो वो वहां से कार से वाराणसी जाने के लिए रवाना हो गईं।

शुभम अस्पताल में भर्ती कराया गया

आनन-फानन उन्हें मकबूल आलम रोड स्थित शुभम अस्पताल में एडमिट कराया गया है। चिकित्सकों के अनुसार हार्टअटैक आया है। एडीएम प्रशासन रणविजय सिंह ने बताया कि स्थिति क्रिटिकल है। सर्किट हाउस में अचानक तबीयत खराब हो गई। अभी शुभम अस्पताल में भर्ती हैं। आब्जर्वर अजय कुमार को दिल्ली ले जाने की तैयारी है। कुछ टेस्ट होने हैं, जिसके बाद एयर एंबुलेंस से दिल्ली ले जाया जा सकता है। एयरपोर्ट अथॉरिटी से बात भी अफसरों की हो रही है। इस बीच उनकी पत्‍‌नी नीना शर्मा शुभम हॉस्पिटल पहुंच गईं हैं।

शासन ने मुहैया कराया हेलीकॉप्टर
सड़क के रास्ते वाराणसी पहुंचने में समय लगने के कारण उन्होंने शासन तक अपनी फरियाद पहुंचाई। शासन स्तर से उन्हें मदद देने की पहल की गई और उनके लिए एक हेलीकॉप्टर की व्यवस्था की गई। इस दौरान वो एक्सप्रेस-वे होते हुए कन्नौज तक पहुंच चुकी थीं। उन्हें कन्नौज के पुलिस लाइन जाने के लिए कहा गया। हेलीकॉप्टर को लखनऊ से कन्नौज भेजा गया। यहां आए हेलीकॉप्टर से उन्हें यहां से वाराणसी रवाना कर दिया गया।

इस दौरान जिला प्रशासन सक्रिय रहा। डीएम राकेश मिश्र खुद अफसरों के साथ पुलिस लाइन पहुंचकर व्यवस्था संभालने में जुटे रहे। उन्होंने बताया के उन्हें शासन स्तर से पूरी जानकारी दी गई और उन्होंने पुलिस लाइन पहुंच कर व्यवस्था संभाली।



Source link

By Raj

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *