• Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Lucknow
  • Swadeshi Phone Was Launched By Putting Photo Of PM Modi And CM Yogi, FIR Lodged Against 5 Including Brother Of Minister Of State, Minister Clarified

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

लखनऊ25 दिन पहले

  • कॉपी लिंक
राज्यमंत्री कपिलदेव अग्रवाल के भाई ललित अग्रवाल समेत 5 लोगों पर धोखाधड़ी का मामला दर्ज कर  FIR दर्ज की गई है। - Dainik Bhaskar

राज्यमंत्री कपिलदेव अग्रवाल के भाई ललित अग्रवाल समेत 5 लोगों पर धोखाधड़ी का मामला दर्ज कर FIR दर्ज की गई है।

  • इन ब्लॉक कंपनी के खिलाफ लखनऊ के हजरतगंज कोतवाली में मुकदमा दर्ज
  • स्वदेशी फोन बनाने के नाम पर धोखाधड़ी करने और षड्यंत्र रचने का आरोप

उत्तर प्रदेश के कौशल विकास राज्यमंत्री कपिलदेव अग्रवाल के भाई ललित अग्रवाल के खिलाफ धोखाधड़ी और फर्जीवाड़े के आरोप में हजरतगंज थाने में मुकदमा दर्ज हुआ है। इस मामले में 5 लोगों पर FIR दर्ज की गई है। यूपी में पीएम नरेंद्र मोदी और सीएम योगी आदित्यनाथ के होर्डिंग लगाए गए थे, जिसमें स्वदेशी ब्रान्ड के फोन की लॉन्चिंग दिखाई जा रही थी।

होर्डिंग्स पर फोटो और फोन को इस तरह दर्शाया गया कि ये फोन सरकार की योजना है और पूरी तरह से स्वदेशी है। एफआईआर में मंत्री कपिल देव के भाई के अलावा एक बड़े मीडिया हाउस के जीएम समेत चार नामजद एवं अन्य अज्ञात के खिलाफ धोखाधड़ी तथा षड्यंत्र की धाराओं में मुकदमा दर्ज कर लिया गया है।

जिन पांच के खिलाफ एफआईआर दर्ज हुई है उसमें भारती एडवरटाइजिंग कंपनी का सीईओ- मंत्री का भाई ललित अग्रवाल, दुर्गाप्रसाद त्रिपाठी -कंपनी फाउंडर, शोएब मलिक – कंपनी फाउंडर, नागेंद्र नाथ ललित -मोबाइल मैन्युफैक्चरिंग पार्टनर और सुल्तानपुर का रहने वाला एक शख्स विवेक कुमार शामिल है।

इसकी लॉन्चिंग में सरकार के मंत्री कपिलदेव अग्रवाल और दूसरे मंत्री भी शामिल हुए थे। IN BLOCK नाम के इस फोन को लॉन्च करने के बाद कंपनी का एडवरटाइजिंग का काम मंत्री के भाई ललित अग्रवाल को दे दिया गया, इसके लिए करोड़ों रुपये अदा किए गए। मंत्री के भाई ललित अग्रवाल ने यूपी और उत्तराखंड में होर्डिंग्स लगाकर प्रचार किया, लेकिन ये फोन बाजार में आया ही नहीं. आशंका है कि कंपनी का इरादा सरकार से सस्ती दर पर जमीन और दूसरी सहूलियत लेने का था।

पीएम और सीएम की तस्वीर वाला विवादित होर्डिंग।

पीएम और सीएम की तस्वीर वाला विवादित होर्डिंग।

बताया जा रहा है कि फोन बनाने वाली कंपनी भी संदेह के घेरे में है। कंपनी के सीईओ दुर्गा प्रसाद त्रिपाठी के फेसबुक से पता चलता है कि वो यूपी के सुल्तानपुर जिले का रहने वाला एक सामान्य लड़का है। इसी जिले के रहने वाले विधायक देवमणि त्रिपाठी भी हैं। उन्होंने ना सिर्फ फोन की लॉन्चिंग में शिरकत की बल्कि दुर्गा प्रसाद त्रिपाठी की तारीफ में ट्वीट्स भी किए थे. जब इस मामले में शिकायत प्रधानमंत्री कार्यालय तक पहुंची तो आनन-फानन में लखनऊ के हजरत गंज थाने में मुकदमा दर्ज किया गया है।

करोड़ों रुपए की धोखाधड़ी की योजना थी
होर्डिंग में कौशल विकास मंत्री कपिल देव अग्रवाल के साथ उच्च शिक्षा राज्यमंत्री नीलिमा कटियार, विधायक नीरज बोरा और सुलतानपुर के लंभुआ के विधायक देवमणि द्विवेदी की फोटो लगी थी। पता चला कि कुछ अन्य जिलों में वहां के स्थानीय विधायक की फोटो लगी थी। इन होर्डिंगों को देखकर अंदाजा लग रहा था कि इस मोबाइल को पीएम और सीएम ने ही लांच किया है और यह सरकारी सस्ता फोन है। बताया जाता है कि इसका डीलर बनाने के नाम पर करोड़ों की वसूली का खेल खेलने की योजना थी। जैसे ही यह होर्डिंग लगे तो इसकी जानकारी प्रधानमंत्री कार्यालय तक पहुंची कि उनके फोटो लगाकर पूरे राज्य में यह धोखाधड़ी की जा रही है। इसी के बाद हड़कंप मचा।

2019 में बनी थी कंपनी, लखनऊ में होर्डिंग का किया था काम
1 मई 2019 को बनी इस कंपनी को लिंकडिन पर तलाश करने पर पता चला कि शोएब मलिक और दुर्गा प्रसाद त्रिपाठी इस कंपनी के फाउंडर हैं। यह कंपनी कहां कहां रजिस्टर्ड है इसका विवरण कंपनी सोसाइटी की वेबसाइट पर दिखाई न देना मामले को संदिग्ध बना रहा है। भारती एडवरटाइजिंग कंपनी के सीईओ मंत्री का भाई ललित अग्रवाल ने ही यूपी और उत्तराखंड के लोगों को यह समझाने का ठेका लिया था कि यह स्वदेशी फोन है। लोग पीएम और सीएम का फोटो देखकर झांसे में आ ही जाने थे।



Source link

By Raj

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *