बांदा32 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

यह फोटो बांदा की है। यहां एक बच्चे की गला दबाकर हत्या कर दी गई। उसका शव गांव के बाहर धान के पुआल में छिपाकर रखा गया था।

  • बिसंडा थाना क्षेत्र के चौसड़ गांव की वारदात
  • पुलिस ने गांव के एक दंपती को हिरासत में लेकर पूछताछ शुरू की

उत्तर प्रदेश के बांदा जिले में एक 8 साल के बच्चे की अपहरण के बाद हत्या का मामला सामने आया है। बच्चे का शव उसके घर से 100 मीटर की दूरी पर तालाब किनारे धान के पुआल में छिपाया गया था। इस केस में पुलिस की लापरवाही भी सामने आई है। आरोप है कि सोमवार को ही बच्चे के लापता होने के बाद पुलिस को सूचित किया गया था। अपहरण की आशंका भी जताई गई थी। लेकिन, पुलिस सक्रिय नहीं हुई। शव मिलने के बाद आज पुलिस ने एक दंपती को हिरासत में लेकर पूछताछ शुरू की है।

देर रात गांव पहुंचे सीओ-थानेदार

यह घटना बिसंडा थाना क्षेत्र के चौसड़ गांव की है। गांव निवासी राजेश कुशवाहा प्राइवेट स्कूल में टीचर हैं। उनका 8 साल का इकलौता बेटा प्रिंस कुशवाहा कक्षा चार का छात्र था। वह सोमवार सुबह घर के बाहर खेल रहा था। लेकिन, करीब 10 बजे अचानक गुम हो गया। परिजन ने गांव व आसपास तलाश की। दोपहर तक जब उसका कुछ पता नहीं चला तो परिजन ने ओरन चौकी से लेकर बिसंडा थाने तक बेटे के साथ अनहोनी की आशंका जताते हुए सूचना दी। लेकिन, पुलिस ने कोई पहल नहीं की। देर रात मामला कुछ नेताओं तक पहुंचा तो सीओ आनंद कुमार पांडेय और थानाध्यक्ष नीरेंद्र प्रताप सिंह गांव पहुंचे और छानबीन की। लेकिन, रात में प्रिंस का कोई सुराग हाथ नहीं लगा।

पिता ने कहा- पुलिस सक्रियता दिखाती तो बेटे की नहीं जाती जान

मंगलवार सुबह चाचा राकेश ने गांव के बाहर तालाब किनारे प्रिंस की चप्पलें देखी। इसके बाद आसपास तलाश शुरू हुई तो उसका शव धान के पुआल से बरामद हुआ। पिता राजेश कुशवाहा का कहना है कि अगर पुलिस सक्रियता दिखाती तो उनके बेटे की जान बच सकती थी। क्योंकि उनके बेटे को गांव में ही कहीं अपहरण करके रखा गया था। लेकिन समय से पुलिस फोर्स के सक्रिय न होने के कारण यह घटना घटित हुई है। सूचना पाकर मौके पर पुलिस अधीक्षक भी पहुंचे हैं। परिवार सहित पूरे गांव में शोक की लहर है। शव का पंचनामा कर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया है।



Source link

By Raj

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *