ipl


मुजफ्फरनगर/बागपतएक घंटा पहले

मुजफ्फरनगर में गुरुवार को आयोजित महापंचायत में लाठी लहराते रालोद उपाध्यक्ष जयंत चौधरी।

  • धारा 144 लागू होने के बाद भी शहर के जीआईसी मैदान में पंचायत का किया आयोजन
  • पंचायत में हरियाणा के नेता दीपेंद्र हुड्डा, इमरान मसूद, हरेंद्र मलिक जैसे नेता हुए शामिल

राष्ट्रीय लोकदल (रालोद) ने हाथरस कांड के बहाने नई राजनीतिक जमीन तलाशने के लिए गुरुवार को पश्चिमी उत्तर प्रदेश के मुजफ्फरनगर शहर के जीआईसी मैदान में महापंचायत की। जिले में धारा 144 प्रभावी होने के बावजूद ट्रैक्टर-ट्राली, बस व अन्य वाहनों से यूपी, राजस्थान व हरियाणा के तमाम कार्यकर्ता पंचायत में शामिल हुए। इस महापंचायत को सपा-कांग्रेस के अलावा भारतीय किसान यूनियन व 36 खाप मुखियाओं का समर्थन मिला। इस दौरान जयंत चौधरी ने अपने ऊपर हुए लाठीचार्ज को किसानों की अस्मिता व उनके गौरव से जोड़ा और मंच से लाठी लहराई। जवाब में भीड़ में शामिल कार्यकर्ताओं ने भी लाठी लहराकर उनका अभिवादन किया।

महापंचायत में जुटी भीड़।

महापंचायत में जुटी भीड़।

जयंत चौधरी ने कहा- योगी सरकार में बहन-बेटियां सुरक्षित नहीं

रालोद उपाध्यक्ष जयंत चौधरी ने कहा कि, भाजपा सरकार में किसानों और मजदूरों की आवाज को दबाया जा रहा है। इस सरकार में हमारी बहन-बेटी सुरक्षित नहीं हैं। हाथरस में हमारी बहन के साथ दरिंदगी के बाद हत्या हुई। हम लोग वहां पीड़ित परिवार का दुख बांटने गए तो हम पर लाठीचार्ज कराया गया। ये लोकतंत्र की हत्या नहीं तो और क्या है?

जयंत चौधरी ने कहा कि केंद्र सरकार ने किसानों के खिलाफ संसद में कृषि बिल पास कर दिया, लेकिन इस बिल से किसानों को कोई फायदा नहीं होने वाला है। बिल से पहले किसानों का गन्ना भुगतान कराया जाता, जिसकी किसानों को बहुत आवश्यकता है। किसान भूखा मर रहा है। बीज खरीदने को पैसे नहीं हैं। बच्चो की पढ़ाई के लिए पैसे नहीं हैं। ऊपर से ये कृषि बिल। इससे साफ जाहिर होता है कि योगी ओर मोदी किसानों को तबाह ओर बर्बाद कर देना चाहते हैं।

मंच पर रालोद-कांग्रेस-सपा के नेता एक साथ दिखे

जयंत चौधरी के साथ मंच पर हरियाणा के कांग्रेस नेता दीपेंद्र हुड्डा, सहारनपुर से कांग्रेस नेता इमरान मसूद, पूर्व मंत्री हरेंद्र मलिक, कांग्रेस प्रदेश उपाध्यक्ष पंकज मलिक, बालियान खाप के चौधरी और भारतीय किसान यूनियन के अध्यक्ष चौधरी नरेश टिकैत, समाजवादी पार्टी के जिला अध्यक्ष प्रमोद त्यागी के अलावा रालोद के कई बड़े नेता मौजूद रहे। मंच से जयंत चौधरी ने हाथों में लाठी लेकर अपने समर्थकों का अभिवादन किया।

साथ आए मगर चुनाव में गठबंधन की जरूरत नहीं

इस लोकतंत्र पंचायत को समर्थन तो सर्व दल ने दिया, लेकिन जब कांग्रेस नेता इमरान मसूद ओर दीपेंद्र हुड्डा से पूछा गया कि क्या आने वाले 2022 के चुनाव में रालोद-कांग्रेस और सपा का गठबंधन होगा तो उनका कहना था कि कांग्रेस एक बड़ी पार्टी है, उसे किसी के साथ गठबंधन की जरूरत नहीं है। आज हमने किसानों के हक के लिए आवाज उठाई है। साथ ही योगी सरकार में जिस तरह अपराध बढ़ रहा है और मजलूम लोगो के हक में आवाज उठाने वालों पर लाठीचार्ज किया जा रहा है वो लोकतंत्र की हत्या है। इसीलिए हम आज जयंत चौधरी पर हुए लाठीचार्ज की निंदा करते हैं।

सुरक्षा व्यवस्था के रहे कड़े इंतजाम।

सुरक्षा व्यवस्था के रहे कड़े इंतजाम।

पंचायत में जमकर चले चप्पल-जूते

पंचायत में जयंत चौधरी मंच से अपने समर्थकों की भारी भीड़ देखकर उनका अभिवादन कर रहे थे। तभी मंच के नीचे बैठे समर्थकों में जमकर हाथापाई शुरू हो गयी और देखते ही देखते एक युवक ने अपना जूता निकलकर दूसरे युवक को पीटना शुरू कर दिया। पंचायत में आई भीड़ ने जमकर धक्कामुक्की करते हुए मंच के बराबर में लगे साउंड को तोड़ डाला। हालांकि जयंत चौधरी ने मंच से समर्थकों को बामुश्किल शांत किया।



Source link

By Raj

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *