प्रयागराज6 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक

फर्जी जन्म प्रमाण पत्र के मामले में हाईकोर्ट ने मंगलवार को पूर्व मंत्री आजम खान, उनकी पत्नी और बेटे को जमानत दे दी है। हालांकि आजम अभी जेल में ही रहेंगे।

  • आदेश के बाद अब्दुल्ला और उनकी मां को तत्काल रिहा किया जाएगा
  • फर्जी जन्म प्रमाण पत्र के चलते अब्दुल्ला की विधायकी रद्द हो चुकी है

समाजवादी पार्टी के नेता और पूर्व मंत्री आज़म खान, उनकी पत्नी और बेटे को हाईकोर्ट से बड़ी राहत मिली है। दरअसल, धोखाधड़ी के मामले में तीनों की जमानत स्वीकार हो गई है।

जमानत का आदेश 1 सितम्बर को अधिवक्ता गोपाल स्वरूप चतुर्वेदी, मोहम्मद खालिद व सय्यद सफदर की बहस के बाद सुरक्षित कर लिया गया था। इस आदेश के बाद तंजीन फातिमा और उनके बेटे अब्दुल्ला को तुरंत रिहा किया जाएगा, जबकि आजम को शिकायतकर्ता का बयान दर्ज होने के बाद रिहा किया जाएगा। न्यायाधीश न्यायमूर्ति सिद्धार्थ ने यह फैसला सुनाया है।

रामपुर के गंज थाने में आकाश सक्सेना ने रिपोर्ट दर्ज कराई थी। आरोप लगाया गया था कि अब्दुल्ला आज़म खान ने नगर निगम रामपुर से दो जन्म प्रमाण पत्र 28 जनवरी 2012 व 21 अप्रैल 2015 को जारी कराया। इसमें अलग-अलग जन्मतिथि अंकित है, एक में उनकी जन्म तिथि 1 जनवरी1993 है, तो दूसरे में 30 सितम्बर 1990 है।

ऐसा उनके द्वारा सरकारी लाभ व चुनाव लड़ने के लिए किया तथा उनके इस धोखाधड़ी में उनके पिता आज़म खान व उनकी मां डॉ तंजीन फातिमा शामिल हैं। इसी जन्म प्रमाणपत्र के आधार पर अब्दुल्ला आज़म खान की विधायकी भी रद्द की जा चुकी है।



Source link

By Raj

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *