• Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Saifai Medical College Referee Ambulance Driver Roaming The Streets Of Agra For 3 Hours, Woman Dies Due To Lack Of Treatment

आगराएक घंटा पहले

  • कॉपी लिंक

यूपी के आगरा में एक मरीज की मौत इसलिए हो गई क्योंकि एंबुलेंस का चालक उसको सैफई ले जाने की बजाए आगरा की सड़कों पर ही घुमाकर गुमराह करता रहा।

  • परिजनों के हंगामे के बाद मौके पर पहुंची पुलिस ने शांत कराया मामला
  • एंबुलेंस का चालक तीन घंटे तक मरीज को इधर उधर घुमाता रहा

उत्तर प्रदेश के आगरा में एंबुलेंस चालक की लापरवाही का मामला सामने आया है। बताया जा रहा है कि चालक मरीज को लेकर आगरा की सड़कों पर तीन घंटे तक चक्कर काटता रहा। इसी दौरान महिला की मौत हो गई। महिला को आगरा से सैफई मेडिकल कॉलेज लिए रेफर किया गया था। परिजन उसे इलाज के लिए आगरा लेकर आए थे। बाद में जानकारी मिलने पर परिजनों ने हंगामा कर दिया जिसके बाद मौके पर पहुंची पुलिस ने मामले को शांत कराया।

जानकारी के अनुसार- मैनपुरी के असियोली में रहने वाले कुलदीप की पत्नी पूनम को पांच दिन पहले डिलेवरी के लिए आगरा के सर्वोदय अस्पताल में भर्ती कराया था। दो दिन पहले पूनम ने एक बच्चे को जन्म दिया लेकिन जन्म के बाद ही उसकी मौत हो गई। इसके बाद पूनम की तबियत भी बिगड़ने लगी तो बुधवार को सर्वोदय अस्पताल के डाक्टरों ने सैफई मेडिकल कालेज के लिये रेफर कर दिया।

मरीज को आगरा ले जाने के लिए दस हजार में की थी एंबुलेंस
परिजनों ने 10 हजार रुपये में एंबुलेंस कर लिया।एम्ब्युलेंस ने तीमारदारों से 10 हजार रुपए पहले ही ले लिए और करीब 12 बजे महिला को एंबुलेंस द्वारा परिवारीजन सैफई के लिए रवाना हो गए। लेकिन एंबुलेंस चालक ने मरीज की जिंदगी से बड़ा खिलवाड़ करते हुए सैफई जाने के बजाय आगरा लखनऊ एक्सप्रेस वे पर घुमाते हुए वापस आगरा ले आया और करीब तीन घंटे तक वह आगरा की सड़कों पर ही एंबुलेंस को दौड़ाता रहा।

परिजनों को इस बारे में तब जानकारी हुई जब उन्होंने महात्मा गांधी मार्ग पर खुद को पाया परिवार वालों का गुस्सा भड़क गया। जब चालक से पूछा कि जाना तो सैफई था लेकिन तीन घंटे तक यु ही घुमाते रहने के बाद भी अभी हम आगरा में ही है। इतने में मरीज महिला की तबियत बिगड़ने लगी और कुछ ही देर में महिला की मौत हो गयी। महिला की मौत होते ही चालक एम्बुलेंस छोड़कर भागने लगा तो परिवार वालों ने उसे पकड़ लिया।

पुलिस ने परिजनों को कराया शांत

उधर महिला की मौत से परिवार के लोगों में चीख पुकार मच गयी।सूचना पर पुलिस भी मौके पर पहुंच गई और एंबुलेंस चालक को हिरासत में लेकर थाना लोहामंडी ले गयी।आगरा कालेज के सामने काफी देर तक मची चीख पुकार के बाद पुलिस ने परिजनों को समझा बुझा दिया और एक कागज़ पर यह लिखवा लिया कि हम किसी भी तरह की कोई कार्रवाई नहीं चाहते हैं और न पोस्टमार्टम। बाद में रोते-बिलखते सभी परिवारीजन दूसरी एंबुलेंस में महिला के शव को रखकर मैनपुरी के लिए रवाना हो गए।

0



Source link

By Raj

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *