Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

मेरठ21 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

शहीद अनिल तोमर का पार्थिव शरीर श्रीनगर से आज गांव लाया जाएगा। जहां उनका राजकीय और सैन्य सम्मान के साथ अंतिम संस्कार किया जाएगा।

  • सिसौली गांव के रहने वाले थे अनिल कुमार तोमर, 44वीं राष्ट्रीय राइफल्स में थी तैनाती
  • शनिवार को मुठभेड़ में हुए थे घायल, सोमवार को अस्पताल में ली अंतिम सांस

उत्तर प्रदेश के मेरठ जिले का एक जवान जम्मू-कश्मीर के शोपियां में आतंकियों से मुकाबला करते हुए शहीद हो गया। शहादत की खबर मिलते ही परिवार व गांव में शोक की लहर दौड़ गई है। आज शाम तक शहीद जवान का पार्थिव शरीर उनके पैतृक गांव लाया जाएगा। जहां उनका सैनिक सम्मान के साथ अंतिम संस्कार किया जाएगा।

मुख्यमंत्री योगी ने जवान के शौर्य और वीरता को नमन करते हुए भावभीनी श्रद्धांजलि अर्पित की है। साथ ही परिवारजनों को 50 लाख रुपए की मदद और एक सदस्य को सरकारी नौकरी, जिले की एक सड़क का नामकरण शहीद के नाम पर करने की घोषणा की है।

आतंकियों के छिपे होने की मिली थी खबर

गांव सिसौली निवासी अनिल कुमार तोमर भारतीय थलसेना की 44वीं राष्ट्रीय राइफल्स में बतौर घातक प्लाटून हवलदार के पद पर तैनात थे। बीते शनिवार को दक्षिण कश्मीर के शोपियां जिले के कनीगाम गांव में आतंकवादियों के छिपे होने की खबर मिलने पर एक ऑपरेशन चलाया गया था। इसी बीच आतंकवादियों और सैनिकों की मुठभेड़ हो गई। आतंकियों की ओर से की गई फायरिंग में हवलदार अनिल कुमार गंभीर रूप से जख्मी हो गए थे। उन्हें इलाज के लिए श्रीनगर स्थित 92 बेस अस्पताल भेजा गया था। जहां इलाज के दौरान उन्होंने सोमवार की सुबह अंतिम सांस ली।

आज अंतिम संस्कार होगा, लोग पहुंच रहे घर
शहीद अनिल तोमर का पार्थिव शरीर श्रीनगर से आज गांव लाया जाएगा। जहां उनका राजकीय और सैन्य सम्मान के साथ अंतिम संस्कार किया जाएगा। अनिल तोमर के शहीद होने की सूचना से परिजनों में कोहराम मचा है। गांव के लोग उनके आवास पर एकत्र हो रहे हैं।



Source link

By Raj

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *