Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

मेरठ/ग्रेटर नोएडा/नोएडा21 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक
  • मेरठ में पुलिस ने शहर विधायक समेत कई सपा नेताओं को नजरबंद किया
  • ग्रेटर नोएडा में किसानों ने कलेक्ट्रेट पर किया प्रदर्शन, रागिनी गाया

केंद्र सरकार के तीन नए कृषि कानूनों के खिलाफ सोमवार को पश्चिमी उत्तर प्रदेश में विरोध प्रदर्शन का ज्यादा असर रहा। मेरठ में किसान आंदोलन के समर्थन में कमिश्नरी चौराहे से जिलाधिकारी कार्यालय पर धरना देने जा रहे सपा कार्यकर्ताओं को पुलिस ने रोक दिया। इस दौरान सपा कार्यकर्ताओं ने जबरन जाने का प्रयास किया। जिस पर पुलिस और कार्यकर्ताओं के बीच जमकर धक्का मुक्की हुई। बाद में पुलिस ने यहां से सपा कार्यकर्ताओं को गिरफ्तार कर अस्थाई जेल भेज दिया।

वहीं, नोएडा में BKU भानु गुट के 100 से अधिक किसानों ने राष्ट्रीय अध्यक्ष भानु प्रताप सिंह पर मनमानी का आरोप लगाते हुए अपना इस्तीफा दे दिया। ग्रेटर नोएडा में किसानों ने कलेक्ट्रेट पर रागिनी गाकर अपना विरोध जताया।

शहर विधायक समेत कई नेता नजरबंद

मेरठ में सपा कार्यकर्ताओं ने सोमवार को किसानों के आंदोलन को समर्थन देते हुए जिला मुख्यालयों पर धरना प्रदर्शन करने का ऐलान किया था। इसको देखते हुए पुलिस प्रशासन पहले से ही चौकन्ना था। पुलिस प्रशासन ने सपा के शहर विधायक रफीक अंसारी समेत कई अन्य वरिष्ठ नेताओं को उनके घर पर ही नजरबंद कर दिया।

इस दौरान कुछ कार्यकर्ता कमिश्नरी चौराहे पर पहुंचे और यहां केंद्र सरकार के खिलाफ नारेबाजी करने लगे। यहां से कार्यकर्ता नारेबाजी करते हुए जिलाधिकारी कार्यालय की ओर बढ़ने लगे तो मौके पर मौजूद पुलिस फोर्स ने उन्हें रोक दिया। आगे जाने को लेकर कार्यकर्ताओं और पुलिस के बीच काफी नोकझोंक और धक्कामुक्की हुई।

पुलिस ने यहां से सपा नेता अतुल प्रधान समेत अन्य कई कार्यकर्ताओं को अपनी हिरासत में लेते हुए सरकारी गाड़ी से अस्थायी जेल भेज दिया। सपा कार्यकर्ताओं ने सोमवार को पूरे दिन धरना प्रदर्शन देने की तैयारी की थी। धरना प्रदर्शन को रोकने के लिए आज कमिश्नरी चौराहा स्थित चौधरी चरण सिंह पार्क में भी पुलिस फोर्स तैनात किया गया था। जिले में धारा 144 लागू होने की वजह से बिना अनुमति किसी को धरना-प्रदर्शन की अनुमति नहीं है।

ग्रेटर नोएडा में प्रदर्शन करते किसान संगठनों के पदाधिकारी।

ग्रेटर नोएडा में प्रदर्शन करते किसान संगठनों के पदाधिकारी।

रागिनी गाकर अनोखे अंदाज में जताया विरोध
नए कृषि कानूनों के खिलाफ सोमवार को किसानों ने जिला मुख्यालय पर जोरदार प्रदर्शन किया। इस दौरान किसानों ने रागिनी गाकर अनोखे अंदाज में अपना विरोध जताया। इसके बाद डीएम को ज्ञापन सौंपा। किसानों ने कहा कि, नए कानून किसानों के हित में नहीं है। इसलिए इसे वापस लिया जाए।

BKU से इस्तीफा देने वाले किसान।

BKU से इस्तीफा देने वाले किसान।

BKU भानु गुट में पड़ी फूट, 100 से अधिक किसानों ने दिया इस्तीफा

भारतीय किसान यूनियन (भानु गुट) के राष्ट्रीय अध्यक्ष भानु प्रताप सिंह और प्रदेश अध्यक्ष योगेश प्रताप द्वारा धरना वापस लिए जाने के निर्णय से नाराज 100 से अधिक पदाधिकारियों ने अपना इस्तीफा दे दिया है। राष्ट्रीय महासचिव बेगराज गुर्जर ने कहा कि, तीन नए कृषि अध्यादेश के खिलाफ पूरे देश के किसानों के साथ BKU लड़ाई लड़ रही थी। लेकिन काफिले को दिल्ली के चिल्ला बॉर्डर पर रोक लिया गया।

वहीं, पिछले 12 दिन से चल रहे आंदोलन को राष्ट्रीय अध्यक्ष ने केंद्रीय रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह एवं केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र तोमर से मिलकर धरना खत्म कर दिया। इससे पूरे देश के किसानों की लड़ाई कमजोर हुई है और हम सभी इससे बहुत आहत हैं।



Source link

By Raj

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *