Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

झांसी27 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक
छात्र हुकुमेंद्र व कृतिका।- फाइल फोटो - Dainik Bhaskar

छात्र हुकुमेंद्र व कृतिका।- फाइल फोटो

  • शुक्रवार की दोपहर आरोपी मंथन ने क्लासरूम में हुकुमेंद्र को गोली मारने के बाद कृतिका की उसके घर जाकर की थी हत्या
  • हालत बिगड़ने पर झांसी मेडिकल कॉलेज से हुकुमेंद्र को दिल्ली रेफर किया गया था, जबकि छात्रा की तत्काल हुई थी मौत

झांसी में स्थित बुंदेलखंड डिग्री कॉलेज में हुए गोलीकांड में घायल छात्र हुकुमेंद्र सिंह की शनिवार को दिल्ली में इलाज के दौरान मौत हो गई। उसे झांसी मेडिकल कॉलेज से दिल्ली रेफर किया गया था। वह मथुरा के जटवारी गांव का रहने वाला था। उधर, पुलिस ने पूछताछ के बाद आरोपी मंथन सिंह सेंगर को जेल भेज दिया है। जांच में सामने आया है कि हुकुमेंद्र व कृतिका को गोली मारने के बाद मंथन भी खुद को मारना चाहता था। लेकिन उससे पहले दबोच लिया गया था।

ब्लैक बोर्ड पर दिल बनाया, लिखा मंथन फिनिश

दरअसल, मथुरा जिले के थाना शेरगढ़ के जटवारी गांव निवासी हुकुमेंद्र सिंह बुंदेलखंड डिग्री कॉलेज में मनोविज्ञान विषय से पोस्ट ग्रेजुएशन कर रहा था। वह अंतिम वर्ष का छात्र था। शुक्रवार की दोपहर वह अपने क्लासरूमें बैठकर पढ़ रहा था। उस वक्त क्लासरूम में छह छात्र थे। इसी बीच मध्य प्रदेश के निवाड़ी जिले का रहने वाला छात्र मंथन सिंह सेंगर क्लासरूम में पहुंचा। उसने ब्लैक बोर्ड पर एक दिल बनाया। इसके बाद लिखा कि मंथन फिनिश और छात्रों के पीछे जाकर बैठ गया। कुछ देर बाद उसने तमंचा निकालकर हुकुमेंद्र के सिर में गोली मार दी। इसके बाद मौके से फरार हो गया।

इस वारदात को अंजाम देने के बाद आरोपी मंथन कॉलेज से कुछ दूरी पर स्थित मिशन कंपाउंड में रहने वाली छात्रा कृतिका के घर पहुंचा। कृतिका घर के बाहर बैठी थी। आरोपी मंथन ने वहां उसे भी गोली मार दी। मंथन ने भागने की कोशिश की, लेकिन आसपास के लोगों ने उसे पकड़ लिया। गुस्साए लोगों ने रस्सी से हाथ पैर बांधकर उसे जमकर पीटा गया। मौके पर पहुंची पुलिस ने उसे अपनी गिरफ्त में लिया। कृतिका को मेडिकल कॉलेज ले जाया गया। लेकिन, उसकी मौत हो गई थी।

आरोपी मंथन सिंह सेंगर।

आरोपी मंथन सिंह सेंगर।

हुकुमेंद्र से कृतिका की नजदीकियां बर्दाश्त नहीं थी

पुलिस के अनुसार, कृतिका मंथन और हुकुमेंद्र की दोस्त थी। लेकिन बीते कुछ दिनों से वह हुकुमेंद्र के ज्यादा नजदीक आ गई थी। यह बात मंथन को नागवार गुजर रही थी। उसने दोनों को अलग अलग रहने की हिदायत दी थी। दोनों नहीं माने तो मंथन ने दोनों को गोली मारने के बाद खुदकुशी करने का प्लान बनाया था। लेकिन लोगों ने उसे पकड़कर पुलिस के हवाले कर दिया। उसकी पिस्टल भी छीन ली थी।



Source link

By Raj

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *