• Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Police And Villagers Came Face to face With The Restoration Of Ambedkar’s Statue, Many Serious Allegations Against Police, Siege Of Kotwali

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

बाराबंकी2 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक

मृर्ति के जिर्णोधार को लेकर बाराबंकी में ग्रामीण और पुलिस के बीच जमकर हंगामा हुआ।

  • मर्ति के उपर छतरी लगाने के लिए परमिशन की जरुरत नहीं
  • गांव में प्रधानी की राजनीति को लेकर मूर्ति के बहाने की गई कार्रवाई

उत्तर प्रदेश के बाराबंकी जिले में रविवार को बाबा साहब भीमराव अंबेडकर की मूर्ति के जिर्णोधार को लेकर ग्रामीण और पुलिस आमने सामने आ गए। बताया जा रहा है कि ग्रामीण गांव में लगी अंबेडकर की मूर्ति के ऊपर छतरी लगाकर आसपास साफ-सफाई का काम करना चाहते थे। लेकिन पुलिस ने मौके पर पहुंचकर ग्रामीणों को ऐसा करने से रोक दिया। वहीं ग्रामीणों का आरोप है कि पुलिस और कुछ अराजक तत्वों ने गांव की महिला से छेड़खानी की और कई लोगों को पकड़कर कोतवाली ले आए हैं। गांव की महिलाओं ने इसी के विरोध में कोतवाली का घेराव किया और घंटों जमकर हंगामा किया। जानकारी के अनुसार, मामला बाराबंकी की नगर कोतवाली क्षेत्र के असैनी गांव का है। वहां ग्रामीण गांव में लगी अंबेडकर की मूर्ति का जिर्णोधार कराना चाह रहे थे। ग्रामीण मूर्ति के ऊपर छतरी बनाने के साथ ही आसपास साफ-सफाई करवाना चाहते थे। लेकिन पुलिस को जब इस बात की जानकारी हुई तो वह मौके पर पहुंची और ग्रामीणों को ऐसा करने से रोका।

मूर्ति तो सिर्फ बहाना, प्रधानी का चुनाव है निशाना
वहीं मौके पर पहुंचे दलित चिंतक सुरेश पांडेय ने बताया कि 25 साल पहले गांव में अंबेडकर की मूर्ति लगाई गई थी। गांव वाले मूर्ति के ऊपर छतरी बनाना चाहते थे। उन्होंने कहा कि नई मूर्ति लगाने के लिए इजाजत लेने की जरूरत होती है। लेकिन छतरी के लिए इजाजत की जरूरत नहीं होती। गांव में प्रधानी की राजनीति को लेकर मूर्ति के बहाने इस तरह की कार्रवाई कराई गई है।

इस मामले में चार लोगों के खिलाफ इस मामले में एफआईआर दर्ज की गई है जबकि पुलवासी गौतम नाम के एक शख्स को रात 1 बजे पकड़कर ले आये हैं। साथ ही पुलिस के साथ कुछ अराजक तत्व भी मौजूद थे। जिन्होंने पुलवासी गौतम की पत्नी लक्ष्मी गौतम के साथ छेड़खानी की है। हम सभी इस मामले में सख्त कार्रवाई चाहते हैं।



Source link

By Raj

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *