Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

नोएडा20 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

नोएडा में चिल्ला बार्डर के पास दिल्ली के जंतर मंतर जाने के लिए अड़े किसान। किसानों के हंगामे को देखते हुए भारी संख्या में पुलिसकर्मियों की तैनाती की गई है।

  • जंतर-मंतर या संसद जाने दे नहीं तो पूरे शहर में चक्का जाम करने की चेतावनी
  • तीस दिनों का राशन लेकर भाकियू (भानू गुट) के नेतृत्व में पहुंचे किसान

नए कृषि कानून के खिलाफ सैकड़ों की संख्या किसान चिल्ला बार्डर पर जमा हो गए। किसानों ने संसद व जन्तर मंतर जाने की मांग की। दिल्ली पुलिस ने बैरिकेट कर किसानों को रोक दिया। किसानों ने पहले दिल्ली नोएडा मार्ग को बाधित किया। इसके बाद नोएडा से दिल्ली मार्ग को बाधित किया। देरशाम तक आधा नोएडा जाम से परेशान दिखा। वहीं मौके का जाएजा लेने व किसानों से बातचीत कर उन्हें समझाने के लिए पुलिस व जिला प्रशासन के आला अधिकारी भी मौके पर पहुंचे किसानों को समझाने का प्रयास किया जा रहा है।

पूर्व नियोजित कार्यक्रम के तहत मंगलवार को भारतीय किसान यूनियन (भानू) के राष्ट्रीय अध्यक्ष भानू प्रताप सिंह के नेतृत्व अलीगढ़, हाथरस, आगरा और गौतमबुद्ध नगर जिले के सैकड़ों किसान नोएडा में चिल्ला बॉर्डर पहुंच गए। शम करीब साढ़े चार बजे किसानों ने चिल्ला बोर्ड पर धरना देना शुरू किया। किसानों ने बॉर्डर पर ट्रैफिक जाम लगा दिया है। मुख्य मार्ग पर अपने ट्रैक्टर ट्रॉली खड़े करके धरना दे रहे हैं।

दिल्ली के जंतर मंतर जाने पर अड़े

किसानों का कहना है कि वह दिल्ली में जंतर मंतर पर जाकर धरना देना चाहते हैं। अगर पुलिस उन्हें नहीं जाने देगी तो यहीं सड़क पर धरना देंगे। जब तक जंतर मंतर पर जाने की इजाजत नहीं मिलेगी, रास्ता नहीं छोड़ेंगे। दूसरी ओर दिल्ली पुलिस ने बैरिकेडिंग कर रखी है। पुलिस का कहना है कि अगर वह बुराड़ी में संत निरंकारी मैदान जाना चाहते हैं तो कोई नहीं रोकेगा, लेकिन जंतर मंतर नहीं जाने दिया जाएगा।

मंगलवार की सुबह गौतमबुद्ध नगर पुलिस को अलीगढ़ और यमुना एक्सप्रेस-वे के किनारे सैकड़ों की संख्या में किसानों के दिल्ली बार्डर पर पहुंचने की सूचना मिली थी। जिसके बाद नोएडा से दिल्ली जाने वाले बार्डर पर चौकसी बढ़ाते हुए उन्हें सील कर दिया गया था। दोपहर में करीब एक बजे गौतमबुद्ध नगर के किसानों की 5 बसें दिल्ली बॉर्डर पर पहुंची। दिल्ली पुलिस और गौतमबुद्ध नगर पुलिस के अधिकारियों ने किसानों को समझा कर वापस भेज दिया था। अब अलीगढ़, आगरा और हाथरस से सैकड़ों किसान ट्रैक्टर ट्रॉली में सवार होकर नोएडा पहुंचे हैं। इन किसानों ने चिल्ला बॉर्डर पर डेरा डाल दिया है।

किसानों ने दी सरकार को चेतावनी।

किसानों ने दी सरकार को चेतावनी।

30 दिन का लेकर पहुंचे राशन
भारतीय किसान यूनियन (भानू) के प्रदेश महासचिव बीसी प्रधान ने कहा कि जब तक काले कानून को वापस नहीं लिया जाता वह यहा से नहीं हटेंगे। किसान ट्रैक्टर ट्राली में 3० दिन का राशन लेकर यहा पहुंचे है। ट्रैक्टरों में सोने की व्यवस्था है उन्होंने अपना डेरा जमा लिया है।

इनपुट मिलने के बाद नहीं रोका
यमुना एक्सप्रेस-वे से होते हुए किसान दिल्ली बार्डर तक पहुंच गए। दिल्ली पुलिस ने आरोप लगाया कि इनपुट मिलने के बाद भी नोएडा पुलिस ने किसानों को पहले क्यो नहीं रोका। जबकि यह पता है कि चिल्ला बार्डर नोएडा दिल्ली का सबसे व्यस्ततम बार्डर है। यहां से प्रतिदिन लाखों की संख्या में वाहन नोएडा से दिल्ली व दिल्ली से नोएडा पहुंचते है।

दिल्ली नोएडा बार्डर पर किसानों ने पैदल मार्च किया जिससे वाहनों की लंबी कतार लग गई।

दिल्ली नोएडा बार्डर पर किसानों ने पैदल मार्च किया जिससे वाहनों की लंबी कतार लग गई।

आधा शहर जाम दिल्ली जाने वाले परेशान
दिल्ली से प्रतिदिन डीएनडी व चिल्ला से लाखों की संख्या में लोग यहां नौकरी करने आते-जाते है। चिल्ला बार्डर सीधे नोएडा-ग्रेटर नोएडा एक्सप्रेस-वे व आगरा एक्सप्रेस-वे को जोड़ता है। यह बार्डर वाया गोलचक्कर डीएससी रोड को जोड़ता है। बताया गया कि शाम तक करीब 5 किलोमीटर का लंबा जाम इन रास्तों पर लग गया। रूट डायवर्जन के बाद भी स्थिति खराब है। जाम से परेशान लोगों ने छोटे-छोटे बार्डर का सहारा लिया लेकिन वह भी जाम की भेट चढ़ गए।



Source link

By Raj

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *