Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

गोरखपुरएक घंटा पहले

  • कॉपी लिंक

गोरखपुर में विमल मांटेसरी गर्ल्स डिग्री कॉलेज के बाहर प्रदर्शन करते छात्र।

  • शोध पात्रता परीक्षा के लिए यूनिवर्सिटी ने बनाए थे तीन केंद्र
  • 5 हजार बच्चों ने किया था अप्लाई, अब कब होगी परीक्षा, कुछ पता नहीं

उत्तर प्रदेश के गोरखपुर में रविवार को दीनदयाल उपाध्याय गोरखपुर विश्वविद्यालय द्वारा आयोजित शोध पात्रता परीक्षा (RET) अव्यवस्था के चलते हंगामे की भेंट चढ़ गई। परीक्षा के दौरान विमल मांटेसरी गर्ल्स डिग्री कॉलेज में तकनीकी खामी के बाद छात्र भड़क उठे और जमकर हंगामा किया। परीक्षार्थियों के विरोध को देखकर विश्वविद्यालय प्रशासन ने पांच चरणों की परीक्षा को रद्द कर दिया है। रद्द हुई परीक्षा का आयोजन कब होगा, इस बाबत विश्वविद्यालय प्रशासन ने कोई सूचना नहीं दी है।

5 चरणों में चल रही परीक्षा

दरअसल, गोरखपुर विश्वविद्यालय की तरफ से RET परीक्षा 10 जनवरी को पांच चरणों में आयोजित की गई। इसमें 5 हजार छात्रों ने आवेदन किया है। इसके लिए जिले में तीन सेंटर बनाए गए थे। तीनों सेंटरों पर पहले चरण की परीक्षा सुबह 9 बजे से 10:30 बजे तक, दूसरे चरण में 11:30 बजे से दोपहर एक बजे तक, तीसरे चरण में 2 बजे से 3:30 बजे तक, चौथे चरण की शाम 4:30 बजे से 6 बजे तक और पांचवें चरण की परीक्षा शाम सात बजे से 8:30 बजे तक आयोजित की गई है।

हंगामे के चलते सभी चरणों की परीक्षा रद्द

दो सेंटरों पर परीक्षा शांतिपूर्वक चल रही थी, लेकिन विमल मांटेसरी महाविद्यालय में नेटवर्क की दिक्कत के बाद परीक्षार्थी हंगामा करने लगे। वहीं, कई परीक्षार्थियों ने परीक्षा केंद्र के बाहर खड़े होकर मोबाइल से परीक्षा दी। लेकिन वे भी असमंजस में रहे कि उनकी परीक्षा स्वीकार की जाएगी या नहीं। कुछ छात्र परीक्षा के संयोजक प्रो. अजय कुमार सिंह के पास पहुंचे। यहां पर संयोजक से छात्रों की जमकर बहस हुई। सूचना पाकर पहुंची पुलिस ने प्रदर्शनकारियों को शांत कराया। इस दौरान छात्रों ने पुलिस पर अभद्रता का आरोप लगाया है।

छात्रों ने कहा- यूनिवर्सिटी ने थोपी अपनी मनमानी

  • प्रतिभा नाम की एक परीक्षार्थी ने कहा कि हमें सेंटर पर परीक्षा देने को कहा गया था। जो छात्र घर से परीक्षा दे रहे हैं वे तो दे रहे हैं। यदि विवि प्रशासन के पास व्यवस्था नहीं थी तो कुछ समय बाद परीक्षा कराता। लेकिन केवल अपनी हठधर्मिता और जमीनी हकीकत से बेपरवाही में छात्रों के ऊपर अपनी मनमानी थोपी गई है।
  • हिंदी विषय से आवेदन करने वाले पवन कुमार और प्रतिमा ने बताया कि उन्होंने साइबर कैफे से आवेदन किया था। कैफे संचालक ने कम से कम 50 छात्रों का आवेदन किया। उसने आवेदन पत्र में अपनी ईमेल आईडी भर दी। इस वजह से अब तक लॉगिन आईडी व पासवर्ड ही नहीं मिला है।
  • राजनीति विज्ञान विषय से आवेदन करने वाले सतीश चंद्र और नितेश कुमार ने बताया कि दो दिन से मॉक टेस्ट की कोशिश कर रहा हूं। लेकिन कनेक्ट नहीं हो रहा है। हर बार लॉगिन आईडी व पासवर्ड गलत बता रहा है।



Source link

By Raj

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *