ipl


हाथरसएक घंटा पहलेलेखक: रवि श्रीवास्तव

हाथरस जिले में 14 सितंबर को दरिंदों की हैवानियत का शिकार हुई लड़की ने देर रात 3 बजे दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल में हाथरस गैंगरेप पीड़िता की मौत हो गई। ये चारों आरोपी पकड़े जा चुके हैं।- फाइल फोटो

  • गांव में किसी को आने-जाने नहीं दिया जा रहा है, माहौल तनावपूर्ण, दो कंपनी पीएसी तैनात कर दी गई
  • हाथरस जिले से सटे सभी जिलों की सीमाओं को भी सील कर दिया गया है, निगरानी रखी जा रही
  • सरकार की तरफ से पीड़ित परिवार को 10 लाख रुपए की आर्थिक मदद दी गई

उत्तर प्रदेश के हाथरस जिले में दरिंदों की हैवानियत का शिकार हुई गैंगरेप पीड़ित लड़की की 15 दिन बाद मंगलवार सुबह मौत हो गई। उसे एक दिन पहले ही दिल्ली के सफदरजंग हॉस्पिटल ले जाया गया था। घटना के बाद गांव को छावनी में तब्दील कर दिया गया। चप्पे-चप्पे पर पुलिसबल तैनात है। जिले की सीमाएं भी सील कर दी गईं। गांव में किसी बाहरी व्यक्ति को घुसने तक नहीं दिया जा रहा है। लड़की के साथ 14 सितंबर को वारदात हुई थी। दरिंदों ने उसकी जीभ काट दी थी, रीढ़ की हड्डी तोड़ दी थी। वह खेत में बेहोश मिली थी। पीड़िता इशारों से बात कर पा रही थी।

पुलिस ने शुरुआत में हत्या की कोशिश और एससीएसटी एक्ट के तहत केस दर्ज किया था, लेकिन मामले के तूल पकड़ने पर अब धारा 376 डी बढ़ा दी गई है। मामले में 4 आरोपी भी गिरफ्तार किए गए हैं। गांव का माहौल तनावपूर्ण है। यहां दो कंपनी पीएसी तैनात कर दी गई। जबकि तीन थानों का पुलिसबल भी हालात पर नजर रखे है। सभी बॉर्डर सील कर दिए गए हैं। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने भी कड़ी कार्रवाई के आदेश दिए हैं।

गांव वाले बोले- यहां जातिगत भेद नेताओं के आने से बढ़ा
पीड़िता के गांव से एक किमी दूर बढ़ाना गांव है। वहां के रामहरि पाठक कहते हैं कि मेरी पीड़िता के परिवार से बात हुई थी। हम भी कहते हैं कि किसी की बेटी के साथ ऐसी घटना नहीं हो। आरोपियों को सजा मिले लेकिन दलित और ऊंची जाति के बीच का भेद यहां आए नेताओं ने ही खड़ा कर दिया है। जब घटना हुई तब कोई पूछने तक नहीं आया। उसके बाद यहां के सांसद और उनकी पत्नी आईं थी। पत्नी एससीएसटी आयोग में हैं। बस, इसी के बाद गांव में नेताओं का आना शुरू हो गया। बाद में गांव का माहौल खराब हो गया।

गांव में पहले नहीं देखा ऐसा माहौल
पाठक कहते हैं कि दलित, क्या ब्राह्मण- सभी यहां मिलजुलकर रहते हैं। हम उनकी बच्चियों के कन्यादान करते हैं। इससे पहले ऐसा माहौल नहीं देखा था। मुझे डर है कि कहीं ये दूरियां बढ़ न जाएं। आरोपी तो ठाकुर जाति से बताए जा रहे के सवाल पर पाठक कहते हैं- साहब लड़के नए खून के हैं। दोनों परिवारों में पहले से विवाद चल ही रहा था। दबंगई कोई नहीं करता। सभी खेती-किसानी करने वाले लोग हैं। मैंने सुना है कि लड़की की जुबान काट ली गई है जबकि गांव में चर्चा है कि उठाने पटकने में लड़की की जुबान उसके दांतों के बीच आकर कट गई है।

गैंगरेप मामले में दलित-ठाकुर की राजनीति हो रही
पीड़िता के गांव के रामकुमार कहते हैं कि मामले में राजनीति हो रही है, क्योंकि पहले लड़की ने एक लड़के को ही आरोपी बनाया। बाद में जब राजनीति शुरू हुई तो 4 दिन बाद तीन अन्य लोगों का नाम जोड़ दिया गया। जबकि चारों खेती-मजदूरी करते हैं। उन्होंने कहा कि गांव में ऐसा कोई दबंग नहीं है। जिसका इतना हौसला हो कि किसी का रेप कर कोई मार दे। यह दोनों परिवार आमने-सामने रहते हैं। खेती भी नहीं है दोनों के पास। दूसरे के खेतों में काम करते हैं। फिलहाल, गांव में दलित बनाम ठाकुर के नाम पर राजनीति चल रही है।

घटना के बाद से मौके पर पुलिसबल तैनात किया गया है। यहां बड़ी संख्या में पुलिसकर्मी हालात पर नजर रखे हैं।

घटना के बाद से मौके पर पुलिसबल तैनात किया गया है। यहां बड़ी संख्या में पुलिसकर्मी हालात पर नजर रखे हैं।

बिना पुलिस की अनुमति आने-जाने की छूट नहीं
रामकुमार कहते हैं कि गांव में आए नेताओं की वजह से माहौल बिगाड़ गया है। वे बताते हैं कि गांव के बॉर्डर पर भी पुलिस तैनात है। जहां घटना हुई वहां भी पुलिस लगी है। दोनों पक्षों के घर के सामने भी पुलिसबल है। गांववालों का कहना है कि इससे पहले गांव में इतना पुलिसबल नहीं देखा है। इस समय गांव में कोई बाहरी व्यक्ति बिना पुलिसवालों की मर्जी के अंदर नहीं आ सकता है।

पीड़ित के परिजन को मुआवजा दिया गया
एएसपी हाथरस प्रकाश कुमार ने बताया कि धारा 307 में केस दर्ज था, उसे पीड़िता की मृत्यु के बाद 302 में तरमीम किया जा रहा है। चूंकि एफआईआर में 307 डी धारा भी है, उसके अनुसार पीड़ित परिवार को मुआवजा राशि के तौर पर प्रथम किस्त 4 लाख 12 हजार 500 रुपए दिए जा चुके हैं। हफ्ते भर बाद आज दूसरी किस्त के रूप में 5 लाख 87 हजार 500 रुपए दिए गए। इस तरह 10 लाख रुपए की आर्थिक मदद की गई।

दोनों पक्षों में 19 साल से विवाद चल रहा
एएसपी कुमार ने बताया कि 2001 में पीड़ित परिवार और आरोपी पक्ष के बीच गांव में झगड़ा भी हुआ था, तब मामले में एससीएसटी एक्ट में कार्रवाई की गई थी। वह मामला अब खत्म हो चुका है। पीड़िता का पोस्टमार्टम दिल्ली में ही होगा। वहां भी हमारी पुलिस तैनात है। इसके अलावा एक सीओ, एक सब इंस्पेक्टर, एक पुरुष कांस्टेबल और एक महिला कांस्टेबल दिल्ली गए हैं। उन्होंने बताया कि गांव का माहौल न बिगड़ने पाए इसलिए यहां सुरक्षा बढ़ाई गई है।



Source link

By Raj

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *