• Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Smriti Irani, Who Is Fiercely Angry At The Congress, Said Harassed The Farmers In 70 Years, Today They Are Pretending To Be Friendly

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

मेरठ14 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक

किसान सम्मेलन में शिरकत करने पहुंची केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने किसान आंदोलन पर राजनीति करने के लिए सरकार पर जमकर निशाना साधा।

  • किसान सम्मेलन को संबोधित करते हुए केंद्रीय मंत्री ने राहुल पर साधा निशाना

उत्तर प्रदेश के मेरठ जिले में शुक्रवार को भारतीय जनता पार्टी के किसान सम्मेलन में केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने विपक्ष पर जमकर तंज कसे। किसान सम्मेलन को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि जिन लोगों ने 70 साल में सिर्फ किसानों का उत्पीड़न किया है, वह आज अपनी राजनीति के लिए उनके हित का ढोंग रच रहे हैं।

किसान सम्मेलन को संबोधित करते हुए स्मृति ईरानी ने कांग्रेस को मुख्य रूप से अपने निशाने पर रखा। उन्होंने कहा कि संसद में राहुल गांधी यह नहीं तय कर पाते कि मिर्च का रंग हरा है या लाल, उन्हें खेती की जानकारी कितनी है यह सब किसान भाई जानते हैं। उन्होंने कहा कि भारत के कृषि कानून बिल का विरोध ऐसे लोग कर रहे हैं जिन्हें खेती किसानी की जानकारी नहीं है।

स्मृति ईरानी ने कहा कि राहुल गांधी क्या किसान हैं? सोनिया गांधी क्या किसान हैं? स्मृति ईरानी ने कहा कि अमेठी में 50 साल तक एक ही परिवार राज करता रहा, वहां के किसानों की किसी ने सुध नहीं ली, अब वहां का किसान, खुशहाली की ओर बढ़ रहा है।

भाजपा सरकार ने हमेशा किसानों के हित के लिए किया काम
किसान सम्मेलन में बोलते हुए स्मृति ईरानी ने कहा कि भाजपा सरकार ही है जिसने खेतों में शौच करने के लिए जाने वाली महिलाओं को घर में शौचालय उपलब्ध कराए। आयुष्मान भारत योजना से जोड़ा, किसानों को पेंशन दी, उनके कर्ज माफ किए हैं। इस बार किसान हित में एक लाख 30 हजार करोड़ रुपए का बजट स्वीकृत किया है। कहा कि भाजपा सरकार ने हमेशा किसान हितों को सामने रखते हुए काम किया है। चाहे वह गन्ना भुगतान का मामला रहा हो या फिर कृषि संबंधी अन्य योजनाएं।

एमएसपी पर भ्रमित कर रहा विपक्ष
स्मृ​ति ईरानी ने कहा कि एमएसपी को लेकर किसानों को भ्रमित करने का काम विपक्ष कर रहा है। कहा कि पहले किसान अपनी अपनी उपज जनपद के भीतर ही भेजने को मजबूर होते थे, लेकिन आज पूरे देश में कहीं भी बेरोकटोक ले जा सकते हैं। किसान को अपनी फसल का दाम तय करने का अधिकार भी होगा। इस बिल से किसान को उन्नति के पथ पर आगे बढ़ने का मौका मिलेगा।



Source link

By Raj

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *