Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

अलीगढ़8 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक
भारतीय किसान यूनियन (BKU) के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत ने मंगलवार को अलीगढ़ के टप्पल में किसानों को संबोधित किया। - Dainik Bhaskar

भारतीय किसान यूनियन (BKU) के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत ने मंगलवार को अलीगढ़ के टप्पल में किसानों को संबोधित किया।

  • राकेश टिकैट ने कहा- जगह-जगह देख रहा हूं ग्राउंड रिपोर्ट, लंबा चलेगा किसानों का धरना
  • बोले- बंगाल में किसानों से कहकर आया कि भाजपा मांगे एक मुट्ठी चावल तो बदले में MSP मांगो

नए कृषि कानूनों के खिलाफ दिल्ली की सीमाओं पर किसानों का बीते 110 दिनों धरना चल रहा है। किसान नेता सरकार के खिलाफ जगह-जगह घूमकर किसानों को लामबंद कर रहे हैं। इसी कड़ी में मंगलवार को भारतीय किसान यूनियन (BKU) के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत ने अलीगढ़ के टप्पल में थे। इस दौरान राकेश टिकैत ने कहा कि मैं यहां ग्राउंड रिपोर्ट देखने पहुंचा हूं। यह क्षेत्र आलू, सरसों व गेहूं के किसानों का है।

टिकैत ने कहा, ‘मैंने किसानों से पूछा है कि क्या MSP पर गेहूं की खरीद हो रही है? अगर MSP पर उपज की खरीद नहीं होगी तो किसान फसलों समेत ट्रैक्टर ट्राली व गाड़ियां पुलिस स्टेशन व तहसील में ले जाकर खड़ी कर दें। यदि पुलिस परेशान करे तो गाड़ियां SDM-DM के यहां ले जाकर खड़ी करें। उन्होंने तंज कसते हुए कह कि खरीद न हो तो दिल्ली धरने पर आ जाएं। वहां संसद पर एक नई मंडी खुली हैं। अडाणी का वहां पर काउंटर खुला है। संभव है कि वहां किसानों को अच्छा भाव मिल जाए।

पश्चिम बंगाल के किसान एक मुट्ठी चावल के बदले मांगें MSP
राकेश टिकैत ने कहा कि वर्तमान केंद्र सरकार किसान विरोधी है। सरकार के तीन कृषि कानूनों के खिलाफ पूरे देश में पंचायतें चल रही हैं। भाजपा पश्चिम बंगाल में लोगों से एक मुट्ठी चावल मांग रही है। हमने वहां जाकर किसानों कहा कि ये आपसे एक मुट्ठी चावल मांग रहे हैं तो आप उनसे इसका MSP मांगो।

बॉर्डर पर पक्के मकान बनेंगे, चाहे कितने भी दर्ज हो केस
बॉर्डर पर पक्के मकान बनाने पर किसानों पर केस दर्ज हो रहे हैं? इस सवाल के जवाब में राकेश टिकैत ने कहा कि सरकार ने हमारी नहीं सुनी। कब तक मांग पूरी होगी? इसका भी कुछ पता नहीं है। इसीलिए बॉर्डर पर पक्के मकान बन रहे हैं। जिससे किसान सुरक्षित तरीके से रह सके। सरकार तो हमें 22 जनवरी से मिल नहीं रही है। सरकार को बड़ी कंपनियां चला रही हैं।

खबरें और भी हैं…



Source link

By Raj

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *