लखनऊएक घंटा पहले

  • कॉपी लिंक

एडीजी लॉ एंड ऑर्डर प्रशांत कुमार।

  • एडीजी कानून व्यवस्था प्रशांत कुमार ने सोमवार शाम लखनऊ में प्रेस कांफ्रेंस की
  • बोले- हाथरस में छह और लखनऊ समेत अन्य जिलों में 13 मामले दर्ज किए गए

उत्तर प्रदेश के एडीजी लॉ एंड ऑर्डर प्रशांत कुमार ने सोमवार शाम हाथरस के कथित गैंगरेप मामले को लेकर प्रेस कांफ्रेंस की। कुमार ने कहा कि हाथरस मामले को लेकर एक साजिश के तहत प्रदेश का माहौल बिगाड़ने की साजिश रची गई है। खुफिया एजेंसियां जांच कर रही हैं। सबूतों के आधार पर कार्रवाई चल रही है। अब तक इस प्रकरण में 19 मामले दर्ज हो चुके हैं। जिनमें तीन मामले राजनीतिक दलों के प्रदर्शन के बाद दर्ज हुए हैं। अब तक पांच लोगों की गिरफ्तारी हो चुकी है।

पीड़ित परिवार को 50 लाख का दिया गया प्रलोभन

एडीजी प्रशांत कुमार ने कहा कि हाथरस मामले में पीड़ित के भाई के बयान के आधार पर चार लोगों को गिरफ्तार कर जेल भेजा चुका है। पूरे प्रकरण की जांच के लिए सीबीआई जांच की सिफारिश की गई है। एसआईटी अलग से जांच कर रही है। परिवार को आर्थिक मदद, नौकरी, मकान देने का ऐलान हुआ। बावजूद इसके सरकार को बदनाम करने के लिए पीड़ित के गांव के आसपास जातीय संघर्ष व सांप्रदायिक दंगा कराने की मंशा से गलत सूचनाएं प्रसारित की जा रही है।

प्रशांत कुमार ने बताया कि, हाथरस में भड़काऊ खबरों को लेकर थाना चंदपा में एक एफआईआर दर्ज की गई है। राजनीतिक दलों के कार्यकर्ताओं ने माहौल खराब करने की कोशिश की है। आम लोगों को भड़काने का काम किया जा रहा है। कुछ लोगों को चिन्हित किया गया है। हालांकि अभी व्यक्ति विशेष पर टिप्पणी करना उचित नहीं है। साक्ष्य इकट्टा किए जा रहे हैं। कुछ लोग एक ऑडियो वायरल कर रहे थे, जिसमें पीड़ित परिवार पर गलत बयान देने और उसके बदले 50 लाख रुपए दिए जाने की बात की जा रही थी। हाथरस में कुल छह मामले अब तक दर्ज हुए हैं।

लखनऊ समेत विभिन्न जनपदों में 13 एफआईआर हुई
एडीजी ने बताया कि, हाथरस घटना को लेकर सोशल मीडिया पर भड़काऊ पोस्ट करने पर जनपद बिजनौर, बुलंदशहर, अयोध्या, हाथरस, लखनऊ कमिश्नरेट में 13 अभियोग दर्ज हुए हैं। एक विवादित पोस्टर लगाने के मामले में हजरतगंज लखनऊ में अभियोग लिखा गया था। जिसमे 2 लोग पकड़े गए हैं।



Source link

By Raj

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *