Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

कानपुर14 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक

यह फोटो कानपुर की है। यहां अपने एक साथी की मौत पर आक्रोश जताते लाल इमली मिल के कर्मचारी।

  • 15 दिन में लाल इमली मिल के तीसरे कर्मचारी की मौत, इससे कर्मचारियों में नाराजगी
  • पुलिस ने नाराज कर्मियों को समझा बुझाकर किया शांत, मिल प्रबंधन से भी हुई वार्ता

उत्तर प्रदेश के कानपुर में लाल इमली कपड़ा मिल के सेफ्टी अफसर अनूप सिंह (52 साल) की मौत से गुस्साए परिजनों व कर्मियों ने शुक्रवार को मिल चौराहे पर शव रखकर प्रदर्शन किया। अन्य कर्मियों की तरह अनूप को भी 28 माह से वेतन नहीं मिला था। परिजनों का आरोप है कि वेतन न मिलने व दो दिन पहले उनका तबादला किए जाने से वे काफी तनाव में थे। इसी बीच उनकी तबीयत बिगड़ी और मौत हो गई। मौके पर पहुंचे पुलिस कर्मचारियों ने समझा बुझाकर कर्मियों को शांत किया। करीब ढाई घंटे बाद यातायात बहाल हुआ है।

काम पर निकलने वाले थे मगर बिगड़ गई थी सेहत

काकादेव में रहने वाले अनूप सिंह यादव (52) लाल इमली मिल में सेफ्टी अफसर थे। परिवार में उनके पिता अमर सिंह, पत्नी नीलम, बेटा अखंड प्रताप व बेटी अपूर्व सिंह हैं। सेफ्टी अफसर का दो दिन पूर्व प्रबंधन द्वारा मिल में ही अन्य यूनिट (डिपार्टमेंट) में तबादला करते हुए अतिरिक्त जिम्मेदारी दी गई थी। जबकि मिल में 28 माह से किसी को वेतन नहीं दिया जा रहा था। वेतन न मिलने व लगातार अतिरिक्त जिम्मेदारी देकर उत्पीड़न भरा रवैया प्रबंधन अपना रहा था। जबकि वेतन न मिलने से लगातार अनूप अन्य कर्मचारियों की तरह बच्चों की शिक्षा सहित अन्य खर्चों के बोझ से दबते चले जा रहे थे। इसी के चलते वह सदमे में आ गए और रोजाना की तरह काम पर जाने के दौरान गुरुवार को उनकी तबीयत बिगड़ गई। जिसके बाद परिजन उन्हें अस्पताल ले गए और उनका निधन हो गया।

इससे नाराज मिल यूनियन के कर्मियों ने शुक्रवार को लाल इमली मिल चौराहे पर शव रखकर जाम लगा दिया। मिल प्रबंधन पर उत्पीड़न का आरोप लगाते हुए नारेबाजी शुरु कर दी। प्रदर्शन के चलते चुन्नीगंज से परेड चौराहा की मुख्य सड़क पर जाम लग गया। कर्मचारी यूनियन के पदाधिकारी राजू ठाकुर बताया कि प्रबंधन के अड़ियल रवैये के चलते 28 माह से मिल में कार्यरत कर्मचारियों को वेतन नहीं मिल सका है। इससे कर्मचारियों के परिवार व बच्चों की शिक्षा बाधित हो गई है।

15 दिन में यह तीसरी मौत

वहीं, अजय सिंह ने कहा कि, उत्पीड़न के चलते ही सेफ्टी अफसर अनूप सिंह की तबीयत बिगड़ी और उनकी मौत हुई है। इससे पूर्व में प्रबंधन की कारगुजारियों के चलते ही 15 दिनों में दो कर्मचारियों की भी जान जा चुकी है।

मिल प्रबंधन से की गई बात

प्रदर्शन की सूचना पर पहुंचे कर्नलगंज थाना प्रभारी देवेंद्र विक्रम सिंह ने बताया कि कर्मियों को समझाया बुझाया गया है। मिल प्रबंधन से भी बात की गई है। उन्होंने जल्द समस्या का समाधान करने का आश्वासन दिया है।



Source link

By Raj

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *