मुंबई8 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक

फर्जी टीआरपी केस में अब तक 5 लोगों को गिरफ्तार किया गया है , जिनमें दो मराठी चैनलों के डायरेक्टर भी शामिल हैं।

  • रिपब्लिक ने आरोपों को झूठा बताया, कहा- पुलिस कमिश्नर के खिलाफ मानहानि का केस करेंगे

फेक टीआरपी केस में चैनलों पर शिकंजा कसता जा रहा है। मंगलवार को उत्तर प्रदेश सरकार की सिफारिश पर सीबीआई ने इस मामले में दिल्ली में एफआईआर दर्ज कर ली है। तीन दिन पहले इसी मामले में हजरतगंज कोतवाली में इसको लेकर अज्ञात लोगों के खिलाफ आईपीसी की धारा 468, 465, 463, 420, 409, 406, 120 बी में मुकदमा दर्ज किया गया था। इस पर संज्ञान लेते हुए उत्तर प्रदेश सरकार ने मंगलवार को पूरे मामले की जांच सीबीआई से कराने की सिफारिश की थी, जिसपर सीबीआई ने यह केस दर्ज किया है।

अब तक इस मामले में हुई पांच लोगों की गिरफ्तारी

मुंबई पुलिस ने 8 अक्टूबर को फॉल्स टीआरपी रैकेट का भंडाफोड़ करने का दावा किया था। पुलिस कमिश्नर परमबीर सिंह ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर बताया कि रिपब्लिक टीवी समेत 3 चैनल पैसे देकर टीआरपी खरीदते थे और बढ़वाते थे। इस मामले में अबतक 5 लोगों को गिरफ्तार किया गया है। इन चैनलों से जुड़े लोगों को पूछताछ के लिए बुलाया जा रहा। उधर, रिपब्लिक मीडिया नेटवर्क ने इन आरोपों को झूठा करार दिया।

कमिश्नर ने कहा कि हमें ऐसी सूचना मिली थी कि फेक प्रोपेगैंडा चलाया जा रहा है। इसके बाद क्राइम ब्रांच ने छानबीन की और इस रैकेट का भंडाफोड़ किया। रिपब्लिक के प्रमोटर और डायरेक्टर के खिलाफ जांच की जा रही है। हिरासत में लिए गए लोगों ने यह बात कबूल की है कि ये चैनल पैसे देकर टीआरपी बदलवाते थे।

रोजाना 500 रुपए देने का लगा आरोप

कमिश्नर ने बताया कि जांच के दौरान ऐसे घर मिले हैं, जहां टीआरपी का मीटर लगा होता था। इन घरों के लोगों को पैसे देकर दिनभर एक ही चैनल चलवाया जाता था, ताकि चैनल की टीआरपी बढ़े। उन्होंने यह भी बताया कि कुछ घर तो ऐसे पता चले हैं, जो बंद थे, उसके बावजूद अंदर टीवी चलते थे। एक सवाल के जवाब में कमिश्नर ने यह भी कहा कि इन घर वालों को चैनल या एजेंसी की तरफ से रोजाना 500 रुपए तक दिए जाते थे। मुंबई में पीपुल्स मीटर लगाने का काम हंसा नाम की एजेंसी को दिया हुआ था। इस एजेंसी के कुछ लोगों ने चैनल के साथ मिलकर यह खेल किया। जांच के दौरान हंसा के पूर्व कर्मचारियों ने गोपनीय घरेलू डेटा शेयर किया।

क्या है टीआरपी?

  • टीआरपी यानी टेलीविजन रेटिंग पॉइंट। यह किसी भी टीवी प्रोग्राम की लोकप्रियता और ऑडियंस का नंबर पता करने का तरीका है। किसी शो को कितने लोगों ने देखा, यह टीआरपी से पता चलता है।
  • यदि किसी शो की टीआरपी ज्यादा है तो इसका मतलब है कि लोग उस चैनल या उस शो को पसंद कर रहे हैं। एडवरटाइजर्स को टीआरपी से पता चलता है कि किस शो में एडवरटाइज करना फायदेमंद रहेगा।
  • सरल शब्दों में टीआरपी बताता है कि किस सामाजिक-आर्थिक पृष्ठभूमि के कितने लोग कितनी देर किस चैनल को देख रहे हैं। यह एक घंटे में, एक दिन में या एक हफ्ते का कुछ समय हो सकता है।

चैनलों के लिए टीआरपी का क्या महत्व है?

  • टीआरपी से ही पता चलता है कि किस चैनल को कितने लोग देख रहे हैं। किस शो की लोकप्रियता ज्यादा है। इसी आधार पर वे अपना प्रमोशनल प्लान तैयार करते हैं और एडवर्टाइजमेंट देते हैं।
  • ज्यादा से ज्यादा एडवरटाइज चाहिए तो टीआरपी भी अच्छी होना आवश्यक है। इसकी वजह से ही ज्यादातर चैनल टीआरपी को महत्व देते हैं। जिसे ज्यादा लोग देख रहे हैं, उसे ही प्रमोट करते हैं।



Source link

By Raj

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *