अयोध्या8 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक

यह फोटो अयोध्या की है। दीपोत्सव कार्यक्रम में राम की पैड़ी को सजाया जा रहा है।

  • अयोध्या में इस बार वर्चुअल तरीके से मनाया जाएगा दीपोत्सव
  • प्रदेश में सत्ता में आने के बाद योगी सरकार ने दीपोत्सव कार्यक्रम की शुरुआत की थी

अयोध्या में जश्न का माहौल है। हो भी क्यों नहीं। मान्यताओं के अनुसार, रावण वध करने के बाद प्रभु राम के अयोध्या लौटने की खुशी में चारों ओर दीपोत्सव की तैयारी चल रही है। वैसे से तो यह चौथा दीपोत्सव है। लेकिन सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद राम जन्मभूमि पर मंदिर निर्माण शुरु होने के बाद यह पहला दीपोत्सव कार्यक्रम है। इस बार खुशी की बात है कि इतने वर्षों बाद राम भक्त जन्मभूमि पर वर्चुअल तरीके से ही सही खुशियों के दीप जला सकेंगे। 14 नवंबर को दीपोत्सव कार्यक्रम मनाया जाएगा।

दीपोत्सव कार्यक्रम के लिए पूरी अयोध्या इसकी तैयारियों में जुटी है। रामनगरी की सीमा में घुसते ही तोरणद्वारों का क्रम जारी हो जा रहा है। सड़कों के किनारों पर बैरिकेडिंग हो रही है। अधिकांश तोरणद्वारों की सजावट रामायण के प्रसंगों के अनुसार की जा रही है। इनमें से कुछ तो अलग-अलग तरह के फूलों से सजाए जाएंगे। पूरे कार्यक्रम की ड्रोन से मैपिंग की जाएगी।

अफसरों ने तैयारियों का लिया जायजा।

अफसरों ने तैयारियों का लिया जायजा।

पूरे कार्यक्रम में दिखेगी एकरूपता

दीपोत्सव के दौरान अयोध्या रौशनी से नहा उठे, इसके लिए हर खंभे, हर पुल, गली, मोहल्ले, चौराहों, घाटों और मन्दिरों की भव्य लाइटिंग की जा रही है। दीपोत्सव के दिन जहां-जहां कार्यक्रम (लक्ष्मण, सीता सहित प्रभु श्रीराम का आगमन, भरत से मिलने की जगह, राजतिलक और राम की पैड़ी आदि) होने हैं, उनकी सजावट को नायाब बनाने की तैयारी है। इस बात का हरसंभव प्रयास होगा कि दीपोत्सव के दिन दोपहर तीन से रात के आठ बजे तक चलने वाले सभी कार्यक्रमों में एकरूपता दिखे। इस क्रम में मुख्य कार्यक्रम स्थलों के बैकग्राउंड एक रंग में होंगे। तिलकोत्सव, राजतिलक,सरयू आरती के दौरान वेदपाठी ब्राह्मण अवसर के अनुसार जब मंत्रपाठ करेंगे तो पूरे अयोध्या में सिर्फ वही धुन सुनाई देगी। मंदिरों, मठों और अन्य धर्मस्थल के प्रबंधकों से प्रशासन इसमें सहयोग की अपील करेगा। पूरे कार्यक्रम का बड़ी-बड़ी स्क्रीन, स्क्रीन लगे वाहनों से सजीव प्रसारण होगा। तकनीक के जरिए देश-दुनिया के रामभक्त इस खुशी में शामिल हो सकेंगे।

दीप प्रज्जवलन में लगेंगे आठ हजार स्वयंसेवक

योगी सरकार का अयोध्या में यह चौथा दीपोत्सव है। बाकी आयोजनों की तरह इसमें भी 5.51 लाख दीपक प्रज्जवलित कर एक नया रिकॉर्ड बनाने की तैयारी है। इन दीपकों को जलाने में करीब आठ हजार स्वयंसेवकों (एनसीसी, एनएसएस, स्काउट और स्वयंसेवी संस्थाओं के लोगों) की मदद ली जाएगी।महानगर के अलग-अलग वार्डों में दीपक जलाने और साज-सज्जा भी कराई जाएगी। पूरे कार्यक्रम की ड्रोन के जरिए मैपिंग होगी। जिस वार्ड की सजावट सबसे खूबसूरत होगी उसे शासन और प्रशासन पुरस्कृत भी करने की सोच रहा है।

घाटों पर रंग बिरंगी लाइटें लगेंगी। अफसरों ने इस दौरान सोशल डिस्टेंसिंग का खास ध्यान रखने का निर्देश दिया है।

घाटों पर रंग बिरंगी लाइटें लगेंगी। अफसरों ने इस दौरान सोशल डिस्टेंसिंग का खास ध्यान रखने का निर्देश दिया है।

जरूरी होगा कोरोना के प्रोटोकाल का अनुपालन

प्राथमिकता गाय के गोबर और माटी से बनने वाले दीयों के प्रज्जवलन की होगी। माटी कला बोर्ड दीपोत्सव के लिए 1.5 दीपक निश्शुल्क मुहैया कराएगा। दीपोत्सव की तैयारियों का जायजा लेने के लिए रविवार को अपर मुख्य सचिव सूचना नवनीत सहगल, अपर मुख्य सचिव गृह अवनीश कुमार अवस्थी, प्रमुख सचिव पर्यटन मुकेश मेश्राम सहित शासन और प्रशासन के वरिष्ठ अधिकारियों ने अयोध्या का दौरा किया। इस दौरान प्रदेश और खासकर अयोध्या जिले के लोगों से अपील की कि वह इस पूरे आयोजन को बेमिसाल बनाने में सहयोग करें। हर आयोजन के दौरान कोरोना के प्रोटोकाल मास्क और दो गज दूरी का पालन अनिवार्य होगा।



Source link

By Raj

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *