Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

सुल्तानपुर15 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक

सुल्तानपुर शहर में अब कोई भूखा नहीं सोएगा। जिले के सिख समाज ने इसका बीड़ा उठाते हुए अब 10 रुपए में भरपेट भोजन देने की घोषणा अपने प्रथम गुरु श्री गुरुनानक देव के प्रकाशोत्सव पर किया है।

  • श्मशान और कब्रिस्तान तक शव ले जाने के लिए मुफ्त में देंगे
  • शिया धर्म गुरू ने सिख समाज के इस नेक काम की किया सराहना

उत्तर प्रदेश के सुल्तानपुर शहर में अब कोई भूखा नहीं सोएगा। जिले के सिख समाज ने इसका बीड़ा उठाते हुए अब 10 रुपए में भरपेट भोजन देने की घोषणा अपने प्रथम गुरु श्री गुरुनानक देव के प्रकाशोत्सव पर किया है। गुरुद्वारा कमेटी ने फैसला किया कि प्रथम गुरु श्री गुरुनानक देव के प्रकाशोत्सव पर शपथ ली जाएगी कि अब शहर में हर दिन 10 रुपए में लोगों को भरपेट खाना दिया जाएगा।

जिले के शहर स्थित पंजाबी कालोनी में स्थापित गुरुद्वारे से जुड़े सुदीप पाल सिंह ने बताया कि वैश्विक महामारी कोरोना वायरस के चलते इस बार गुरुद्वारे की ओर से लोगों के भोजन की व्यवस्था की गई थी। उसी दौरान ये बातें सामने आई कि आज भी बहुत सारे इंसान हैं जो गरीबी में भूखे पेट सो जा रहे। ऐसे में गुरुद्वारा कमेटी ने फैसला किया कि अब शहर में हर दिन 10 रुपए में लोगों को भरपेट खाना दिया जाएगा।

श्मशान और कब्रिस्तान तक शव ले जाने के लिए मुफ्त में देंगे
सुदीप पाल सिंह ने आगे बताया कि शहर में इसके लिए एक से दो जगहें चिंहित की जा रही है, जहां स्टाल लगाकर खाना खिलाने का प्रबंध किया जाएगा। उन्होंने ये भी बताया कि कोरोना काल समाप्त होते ही ये पहल शुरू कर दी जाएगी।

सुदीप बताते हैं कि पिछले दो सालों से जिला अस्पताल में मरीजों और तीमारदारों को हर गुरुवार को फ्री में खाना वितरित किया जा रहा है। एक बार में करीब 250 लोगों को हमारे समाज द्वारा खाना वितरित किया गया। लेकिन इधर कोरोना के चलते उसे बंद किया गया है। उन्होंने इस बात की भी जानकारी दी कि शव को श्मशान या कब्रिस्तान ले जाने के लिए फ्री वाहन भी सिख समाज देगा।

शिया धर्म गुरू ने सिख समाज के इस नेक काम की किया सराहना
वहीं सिख समाज के इस नेक काम की सराहना भी लोगों में शुरू हो गई है। शियाने हैदरे कर्रार वेलफेयर एसोसिएशन सुलतानपुर के संरक्षक एवं शिया धर्म गुरू मौलाना कल्बे हसनैन ख़ावर ने कहा कि सिख भाइयों की ये पहल काबिले तारीफ है। गुरूनानक जी ने ही सबसे पहले हिंदुस्तान में लंगर प्रथा की शुरुआत की। यही वजह है कि आज सिख भाई हर दिन भूखों का पेट भरता है, और गुरुद्वारे में पहुंचने वाला कोई इंसान भूखा नही लौटता।



Source link

By Raj

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *