• Hindi News
  • Sports
  • Cricket
  • Sachin Desert Storm Vs Australia In 1998 143 Runs Innings Helped India To Reach Final Of The Tri Series

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

नई दिल्ली21 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

हर क्रिकेटर के जीवन में कुछ ऐसे मैच आते हैं जो उसके पूरे करियर को परिभाषित करते हैं। आज से 23 साल पहले भारत के दिग्गज बल्लेबाज सचिन तेंदुलकर ने शारजाह में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ ऐसी ही करियर डिफाइनिंग पारी खेली थी। 22 अप्रैल 1998 को सचिन ने रेगिस्तानी तूफानी के बीच 131 गेंदों पर 143 रन बनाए थे। उनकी इस पारी की बदौलत टीम इंडिया ट्राई सीरीज के फाइनल में पहुंची थी। इसी पारी के बाद लोगों में मन में यह विश्वास जगा था कि जब तक सचिन क्रीज पर हैं टीम इंडिया मुकाबले से बाहर नहीं हो सकती।

उस मैच में टीम इंडिया के कप्तान रहे मोहम्मद अजहरुद्दीन एक मैसेज के जरिए मुकाबले की यादें ताजा कीं। हालांकि, इसमें सचिन का जिक्र न करने के कारण वे जमकर ट्रोल भी हुए हैं।

138 रन पर चार विकेट गंवा चुकी थी टीम इंडिया
इस मैच में ऑस्ट्रेलिया ने पहले बल्लेबाजी करते हुए सात विकेट खोकर 284 रन बनाए थे। उन दिनों इतने बड़े स्कोर आम तौर पर चेज नहीं हुआ करते थे। भारत को फाइनल में पहुंचने के लिए कम से कम 254 रनों की जरूरत थी।
भारतीय पारी के दौरान रेगिस्तानी तूफान के कारण करीब 25 मिनट तक मैच रोकना पड़ा। दोबारा जब खेल शुरू हुआ तो फाइनल में पहुंचने के लिए भारत के सामने 46 ओवर में 237 रन की चुनौती थी। टीम इंडिया 138 रन पर चार विकेट गंवा चुकी थी। सौरव गांगुली, नयन मोगिंया, मोहम्मद अजहरुद्दीन और अजय जडेजा आउट होकर पवेलियन लौट चुके थे।

फिर आया सचिन का तूफान
रेगिस्तानी तूफान थमने के बाद सचिन की बैटिंग का तूफान आया। मास्टर-ब्लास्टर ने 9 चौके और 5 छक्के की मदद से 143 रन बनाए। उनकी इस पारी की बदौलत भारत ने 46 ओवर में 5 विकेट पर 250 रन बनाए। वैसे तो भारतीय टीम 26 रन से मैच हार गई लेकिन, फाइनल में जगह पक्की हो गई।

फाइनल में सचिन ने 134 रनों की पारी खेली।

फाइनल में सचिन ने 134 रनों की पारी खेली।

जन्म दिन पर फाइनल में भी जमाया शतक, भारत को खिताब दिलाया
फाइनल में भारत का सामना फिर ऑस्ट्रेलिया से ही हुआ। 24 अप्रैल 1998 को सचिन के जन्म दिन पर हुए इस खिताबी मुकाबले में ऑस्ट्रेलिया ने एक बार फिर पहले बल्लेबाजी की और नौ विकेट पर 272 रन बना दिए। जवाब में सचिन ने फिर शतक जमाया और 131 गेंदों पर 12 चौके और 3 छक्के की मदद से 134 रन बना दिए। भारत ने यह मैच 6 विकेट से जीतकर खिताब अपने नाम कर लिया। यह दो शतकीय पारियां सचिन के करियर की टॉप-5 शतकीय पारियों में शामिल की जाती हैं। साथ ही इन्हें वनडे क्रिकेट के इतिहास की बेहतरीन पारियों में भी शुमार किया जाता है।

खबरें और भी हैं…





Source link

By Raj

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *