• Hindi News
  • Sports
  • Wrestler Vinesh Phogat Wins Gold Medal In The Women’s 53 Kg At The Outstanding Ukrainian Wrestlers And Coaches Memorial Event

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

कीव8 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक
विनेश पहले ही 53 किग्रा वर्ग में टोक्यो ओलिंपिक के लिए क्वालिफाई कर चुकी हैं।​​​​​​​​​​​ वे ओलिंपिक के लिए क्वालिफाई करने वाली भारत की इकलौती वुमन रेसलर हैं। (फाइल फोटो) - Dainik Bhaskar

विनेश पहले ही 53 किग्रा वर्ग में टोक्यो ओलिंपिक के लिए क्वालिफाई कर चुकी हैं।​​​​​​​​​​​ वे ओलिंपिक के लिए क्वालिफाई करने वाली भारत की इकलौती वुमन रेसलर हैं। (फाइल फोटो)

यूक्रेन की राजधानी कीव में चल रहे XXIV आउटस्टैंडिंग यूक्रेनियन रेसलर्स और कोचेस मेमोरियल में भारत की दिग्गज रेसलर विनेश फोगाट ने गोल्ड मेडल जीता है। उन्होंने रविवार को 53 किग्रा वर्ग में 2017 की वर्ल्ड चैम्पियन और वर्ल्ड नंबर-7 बेलारूस की वेनेसा कलाजिंसकाया को 10-8 से हरा दिया। विनेश एक साल बाद कोई इंटरनेशनल टूर्नामेंट खेल रही थीं।

टोक्यो ओलिंपिक के लिए पहले ही क्वालिफाई कर चुकीं
विनेश ने शनिवार को सेमीफाइनल में रोमानिया की एना ए को 2-0 से हराया था। राउंड ऑफ-16 में लूलिया लिओर्डा और क्वार्टरफाइनल में कैट्सियारिना पिचकोसकाया को हराया था। वे नवंबर, 2020 से यूरोप में ट्रेनिंग कर रही हैं। लॉकडाउन में विनेश हरियाणा में अपने गांव में प्रैक्टिस कर रही थीं। जबकि, उनके कोच वोलर एकोस हंगरी से वर्चुअली विनेश के रुटीन का ध्यान रखते थे।

2 कॉमनवेल्थ गेम्स और 1 एशियम गेम्स में गोल्ड जीत चुकीं
इस साल की शुरुआत में वे बुडापेस्ट में फिर से अपने कोच से जुड़ गई थीं। विनेश पोलैंड में कुछ टॉप रेसलर्स के साथ ट्रेनिंग कर रही थीं। अब वे रोम जाएंगी। वहां 4 से 7 मार्च तक होने वाले सीजन के पहले रैंकिंग टूर्नामेंट में हिस्सा लेंगी। विनेश ने कॉमनवेल्थ गेम्स (2014,2018) में 2 और एशियन गेम्स (2018) में 1 गोल्ड मेडल जीता है।

जिस पैर में फ्रैक्चर से विनेश को छोड़नी पड़ी बाउट, उसी को लोहे जैसा बनाया
विनेश को 2016 के रियो ओलिंपिक में पैर में फ्रैक्चर होने से बीच में बाउट छोड़नी पड़ी थी। वे 6 महीने बिस्तर पर रहीं। एक्सरसाइज नहीं कर सकती थीं इसलिए खुद को दिमागी रूप से मजबूत करती रहीं। मेहनत कर उन्होंने 2018 में कॉमनवेल्थ और एशियाड में गोल्ड जीते। 2019 में वर्ल्ड सीनियर चैम्पियनशिप में ब्रॉन्ज मेडल जीत टोक्यो ओलिंपिक का टिकट पक्का किया। विशेषज्ञों ने पैर बचाकर खेलने की सलाह दी, पर विनेश ने लेग अटैक को अपनी मजबूती बनाई। वर्ल्ड चैंपियनशिप में भी अंक बटोरने में लेग अटैक का सबसे ज्यादा उपयोग किया।

4 पहलवानों ने अब तक ओलिंपिक कोटा हासिल किया
विनेश पहले ही 53 किग्रा वर्ग में टोक्यो ओलिंपिक के लिए क्वालिफाई कर चुकी हैं।​​​​ वे ओलिंपिक के लिए क्वालिफाई करने वाली भारत की इकलौती वुमन रेसलर हैं। जबकि पुरुषों में बजरंग पूनिया, दीपक पूनिया और रवि दहिया ने अपने- अपने वेट कैट गिरी में कोटा हासिल किया है। हालांकि भारतीय पहलवानों के पास ओलिंपिक कोटा हासिल करने के लिए अभी दो मौके हैं। अगले साल कजाखस्तान में 9 से 11 अप्रैल तक एशियन क्वालिफायर और बुल्गारिया में 6 से 9 मई तक वर्ल्ड क्वालिफायर होना है।

विनेश को मिला खेल रत्न
विनेश फोगाट को पिछले साल ही राजीव गांधी खेल रत्न से सम्मानित किया गया। उनके साथ क्रिकेटर रोहित शर्मा, टेबल टेनिस प्लेयर मोनिका बत्रा, पैरा-एथलीट मारियप्पन थंगावेलु और महिला हॉकी टीम की कप्तान रानी रामपाल को भी यह सम्मान मिला था। विनेश कोरोना पॉजिटिव भी हुई थीं।

खबरें और भी हैं…



Source link

By Raj

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *