Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

3 दिन पहलेलेखक: जयदेव सिंह/राजकिशोर

  • कॉपी लिंक

18 फरवरी को होने वाले IPL ऑक्शन में कुछ पूर्व क्रिकेटर्स के बेटे भी शामिल किए गए हैं। जिनके नामों पर विवाद हो रहा है। कहा जा रहा है कि भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (BCCI) ने इन्हें शामिल करने के लिए कुछ बेहतर खिलाड़ियों से ऑक्शन में शामिल होने का मौका छीन लिया।

सवाल ये है कि क्या सच में BCCI तय करता है कि ऑक्शन में कौन खिलाड़ी शामिल होगा, और कौन नहीं? आखिर IPL ऑक्शन के लिए खिलाड़ी शॉर्टलिस्ट कैसे होते हैं? आइये इसे जानते हैं, लेकिन पहले चार कहानियां जान लीजिए। दो उन खिलाड़ियों की, जिन्हें लिस्ट में शामिल किए जाने पर और दो कहानियां उनकी, जिन्हें शामिल नहीं किए जाने पर विवाद हो गया है।

दो खिलाड़ी, जिनके शामिल होने पर सवाल उठे…

  • दिलीप दोशी के बेटे, जो इंग्लैंड के खिलाड़ी के रूप में ऑक्शन में शामिल होंगे: 42 साल के नयन दोशी पूर्व भारतीय स्पिनर दिलीप दोशी के बेटे हैं। नयन ने 2013 में सौराष्ट्र के लिए अपना आखिरी रणजी मैच खेला था। वहीं, आखिरी टी-20 2011 में खेला था। इस बार के ऑक्शन में वो इंग्लैंड के खिलाड़ी के तौर पर शामिल किए गए हैं। लेफ्ट आर्म स्पिनर नयन ने करियर के 52 टी-20 मैचों में कुल 68 विकेट लिए हैं।
  • सैयद किरमानी के बेटे, जो दो साल से किसी क्लब के लिए भी टी-20 नहीं खेले: 31 साल के सादिक किरमानी पूर्व विकेटकीपर सैयद किरमानी के बेटे हैं। सादिक ने फर्स्ट क्लास क्रिकेट नहीं खेला, ना ही स्टेट लेवल पर कोई टी-20 क्रिकेट खेला है। उन्होंने कर्नाटक के लिए सिर्फ दो लिस्ट-A मैच खेला है, दोनों दिसंबर 2015 में। पिता की तरह ही विकेटकीपर सादिक ने क्लब लेवल पर 2018 में आखिरी टी-20 खेला था। सादिक इस बार IPL ऑक्शन का हिस्सा हैं।

इन दोनों के अलावा सचिन के बेटे अर्जुन तेंदुलकर का नाम भी ऑक्शन की लिस्ट में शामिल है। 21 साल के अर्जुन के नाम पर भी विवाद हो रहा है। हालांकि, अर्जुन इस वक्त क्रिकेट खेल रहे हैं। इसी साल उन्होंने मुंबई के लिए टी-20 में डेब्यू किया है।

दो खिलाड़ी, जिनके शामिल नहीं होने पर सवाल उठे…

  • सैयद मुश्ताक अली ट्रॉफी में सबसे ज्यादा विकेट लेने वाले आशुतोष अमन: बिहार के अमन ने इस साल सैयद मुश्ताक अली ट्रॉफी के छह मैच में 16 विकेट लिए। अमन के बाद बड़ौदा के लुकमान मेरीवाला ने 15 विकेट लिए, लेकिन उन्होंने इसके लिए 8 मैच खेले। 34 साल के अमन ने 2019 में ही बिहार की टीम में वापसी के बाद टी-20 क्रिकेट खेलना शुरू किया है।
  • 5 मैच में 18 छक्के लगाने वाले पुनीत बिष्ट: मेघालय के कप्तान पुनीत बिष्ट ने 146 रन की नाबाद पारी खेली थी। ये मुश्ताक अली ट्रॉफी का सबसे बड़ा स्कोर है। उनका स्ट्राइक रेट 200 से ज्यादा का रहा। टूर्नामेंट में पुनीत से ज्यादा 22 छक्के सिर्फ प्रभसिमर सिंह ने लगाए थे, लेकिन प्रभसिमर ने पुनीत से ज्यादा 7 मैच खेले थे। 34 साल के बिष्ट पहले दिल्ली डेयरडेविल्स टीम का हिस्सा रह चुके हैं।

IPL ऑक्शन के लिए खिलाड़ी शॉर्टलिस्ट कैसे होते हैं?

एक खिलाड़ी किन पड़ावों से होकर ऑक्शन में शामिल होता है। इस बारे में 2009 से 2015 तक IPL खेल चुके विकेटकीपर-बल्लेबाज मनविंदर बिसला ने भास्कर को बताया। पहले बात खिलाड़ियों के रजिस्ट्रेशन की करें तो इसके लिए मोटे तौर पर चार तरह की प्रक्रिया अपनाई जाती है।

  • ऑक्शन में शामिल होने के इच्छुक भारतीय खिलाड़ी अपने स्टेट बोर्ड के जरिए IPL ऑक्शन में रजिस्ट्रेशन करा सकते हैं।
  • IPL की सभी फ्रेंचाइजी टैलेंट सर्च प्रोग्राम चलाती हैं। इसमें से भी चुने गए खिलाड़ी ऑक्शन के लिए अपना रजिस्ट्रेशन करा सकते हैं। भले ही उन्होंने स्टेट लेवल पर कोई क्रिकेट नहीं खेला हो। हालांकि, इन खिलाड़ियों को भी स्टेट बोर्ड के जरिए ही रजिस्ट्रेशन कराना होता है।
  • विदेशी खिलाड़ियों को IPL ऑक्शन में रजिस्ट्रेशन कराने के लिए अपने देश के बोर्ड की ओर से जारी NOC भी देनी होती है।
  • कभी-कभी इंटरनेशनल क्रिकेट नहीं खेले हुए खिलाड़ियों को फ्रेंचाइजी वहां के डोमेस्टिक टूर्नामेंट से चुनती है। उन्हें भी ऑक्शन में रजिस्ट्रेशन करवाना पड़ता है। इस बार के ऑक्शन की बात करें तो कुल 1097 खिलाड़ियों ने ऑक्शन के लिए रजिस्ट्रेशन करवाया है।

रजिस्ट्रेशन के बाद शॉर्टलिस्ट खिलाड़ी ही ऑक्शन का हिस्सा होते हैं

बिसला बताते हैं कि रजिस्ट्रेशन की प्रक्रिया पूरी होने के बाद BCCI खिलाड़ियों की लिस्ट सभी फ्रेंचाइजीज को भेजती है। फ्रेंचाइजी अपनी जरूरत के मुताबिक खिलाड़ियों के नामों की च्वॉइस भेजती हैं। अगर कोई खिलाड़ी किसी भी फ्रेंचाइजी की च्वॉइस में शामिल नहीं होता है, तो उसे फाइनल ऑक्शन लिस्ट से हटा दिया जाता है।

रजिस्टर्ड खिलाड़ियों की लिस्ट के अलावा भी कुछ खिलाड़ियों के नाम फ्रेंचाइजी अपनी तरफ से जोड़ने के लिए सिफारिश कर सकती हैं। अगर खिलाड़ी और उसका बोर्ड तैयार होता है तो उस खिलाड़ी को भी ऑक्शन में शामिल कर लिया जाता है।

इस बार ऑक्शन में शामिल कुल 292 खिलाड़ियों में से न्यूजीलैंड के कोरी एंडरसन, ऑस्ट्रेलिया के शॉन मार्श, साउथ अफ्रीका के मोर्ने मोर्कल जैसे 17 खिलाड़ियों को फ्रेंचाइजीज की सिफारिश के बाद ऑक्शन की लिस्ट में शामिल किया गया है।

सिफारिश का खेल भी चलता है

राजस्थान रॉयल्स और पुणे वॉरियर टीम का हिस्सा रहे एक खिलाड़ी ने नाम नहीं छापने की शर्त पर बताया कि अगर आपका जुगाड़ IPL की किसी टीम के कोच, कैप्टन या मैनेजमेंट से है या फिर स्टेट और BCCI के अधिकारियों से आपके बेहतर संबंध हैं, तो न केवल आपका नाम ऑक्शन लिस्ट में शामिल होता है, बल्कि टीमें खरीदती भी हैं। हालांकि, इस तरह के खिलाड़ियों को मैच खेलने के कम ही मौके मिलते हैं। वे ज्यादातर केवल बेंच पर ही बैठे दिखाई देते हैं।

इस तरह की बातें अक्सर कुछ खिलाड़ियों के लिए कही जाती रही हैं। इस बार सादिक किरमानी, नयन दोशी और सचिन के बेटे अर्जुन तेंदुलकर का नाम लिया जा रहा है। इससे पहले भी कई खिलाड़ियों के चुने जाने पर सवाल उठते रहे हैं।

पूर्व रेल मंत्री और बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री लालू यादव के बेटे तेजस्वी यादव 2008 से 2012 तक दिल्ली डेयरडेविल्स टीम का हिस्सा रहे, लेकिन उन्हें कोई मैच खेलने का मौका नहीं मिला। 2019 में बिजनेसमैन कुमार मंगलम बिड़ला के बेटे आर्यमन बिड़ला राजस्थान रॉयल्स का हिस्सा रहे। उन्हें भी कोई मैच नहीं खेलने को मिला।

हरियाणा के पूर्व मुख्यमंत्री भजन लाल के पोते और कांग्रेस नेता कुलदीप बिश्नोई के बेटे चैतन्य बिश्नोई भी 2018 और 2019 में चेन्नई सुपर किंग्स टीम का हिस्सा रहे। उन्हें भी एक भी मैच खेलने का मौका नहीं मिला।



Source link

By Raj

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *