Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

अहमदाबाद35 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

दोनों टीमों ने इस टेस्ट में कुल मिलाकर 140.2 ओवर खेलीं। यह 1935 के बाद से सबसे कम ओवर में खत्म होने वाला टेस्ट है। वहीं, दोनों टीमों ने कुल मिलाकर 842 गेंदें खेलीं। यह सबसे कम बॉल में खत्म होने वाला टेस्ट भी है। इससे पहले ऑस्ट्रेलिया और न्यूजीलैंड ने 1945/46 में कुल मिलाकर 872 गेंदें खेली थीं। यानी वर्ल्ड वॉर-2 के बाद से इस टेस्ट में सबसे कम गेंदें खेली गईं। यह 5 दिन के मैच का मजा लेने आए दर्शकों के लिए बेहद निराशानजनक रहा।

ओवर के लिहाज से ओवरऑल 7वां सबसे छोटा टेस्ट
यह वर्ल्ड वॉर-2 के बाद से सबसे छोटा टेस्ट है। 1935 के बाद से अब तक 2000 से ज्यादा टेस्ट खेले जा चुके हैं। इसमें यह सबसे छोटा टेस्ट रहा। यह वर्ल्ड वॉर-2 के बाद से ओवर के लिहाज से सबसे छोटा टेस्ट है। ओवर के लिहाज से यह ओवरऑल 7वां सबसे छोटा टेस्ट रहा। इनमें से 3 टेस्ट 1880 के दशक में खेले गए थे। जबकि, बाकी टेस्ट 1935 से पहले के हैं।

इंग्लैंड के 12 टेस्ट दो दिन में खत्म हो चुके
दुनिया के सबसे बड़े क्रिकेट स्टेडियम में भारत की 3 स्पिनर्स वाली रणनीति कामयाब रही। टीम इंडिया ने इंग्लैंड को 2 दिन में ही 10 विकेट से शिकस्त दी। 144 साल के इतिहास में 22वीं बार कोई टेस्ट 2 दिन में खत्म हुआ है। इंग्लैंड के 12 टेस्ट दो दिन में खत्म हो चुके हैं।

भारत का दूसरा टेस्ट जो 2 दिन में खत्म हुआ
भारत का यह दूसरा टेस्ट है, जो दो दिन में खत्म हुआ है। इससे पहले भारत ने 2018 में अफगानिस्तान को बेंगलुरु टेस्ट में 2 दिन में हराया था। एशिया में यह तीसरी बार है जब दो दिन में टेस्ट खत्म हुआ। इससे पहले 2002/03 सीजन में ऑस्ट्रेलिया ने पाकिस्तान को शारजाह में 2 दिन में हराया था।

खबरें और भी हैं…



Source link

By Raj

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *