Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

नई दिल्लीएक घंटा पहले

  • कॉपी लिंक
बुमराह 19 टेस्ट में 83 विकेट ले चुके हैं। वहीं, 67 वनडे में उनके नाम 108 विकेट है। 49 टी-20 में बुमराह ने 6.67 की इकोनॉमी से 59 विकेट लिए हैं। (फाइल फोटो) - Dainik Bhaskar

बुमराह 19 टेस्ट में 83 विकेट ले चुके हैं। वहीं, 67 वनडे में उनके नाम 108 विकेट है। 49 टी-20 में बुमराह ने 6.67 की इकोनॉमी से 59 विकेट लिए हैं। (फाइल फोटो)

भारतीय पेस बैटरी का नेतृत्व करने वाले जसप्रीत बुमराह का कभी मजाक उड़ाया जाता था और उनके एक्शन पर शक भी किया जाता था। निर्माण हाई स्कूल के रॉयल क्रिकेट एकेडमी (RCA) के कोच किशोर त्रिवेदी बताते हैं कि एकेडमी में प्रैक्टिस करने वाले लड़के कहते थे कि बुमराह गेंद थ्रो कर रहे हैं। उनका एक्शन ठीक नहीं है। मैं भी हैरान था कि छोटे से रन-अप से बुमराह को कैसे इतना पेस मिल रहा था। हालांकि,अब उन्होंने अपने प्रदर्शन से सबके मुंह पर ताला लगा दिया।

बुमराह का फ्रंट आर्म काफी ऊंचाई तक जाता है
बुमराह की मां उस समय निर्माण हाई स्कूल में टीचर थीं और फिर बाद में वहीं वाइस-प्रिंसिपल बन गईं। किशोर याद करते हैं, “उसका एक्शन असामान्य था, लेकिन मैंने कहा कि वह थ्रो नहीं कर रहे हैं। मैंने लड़कों से कहा कि उन्हें ऐसा इसलिए लगता है, क्योंकि बुमराह का फ्रंट आर्म काफी ऊंचाई तक जाता है।”

बुमराह का नैचुरल एक्शन ही उनका मुख्य हथियार
किशोर कहते हैं, “मैंने बुमराह से कहा कि वह गंभीरता से खेलना शुरू करे, तो मैं उन्हें RCA टीम से टूर्नामेंट्स खेलने के लिए भेजूंगा। अपनी रफ्तार से वह चर्चा में आने लगे। इसके बाद मैंने उनसे कहा कि वह सिलेक्शन के लिए जाएं। मैंने साथ ही उनसे एक्शन नहीं बदलने के लिए भी कहा। यह आपका नैचुरल एक्शन है और यह बदला नहीं जाना चाहिए। यह आपका हथियार है।”

किशोर ने बुमराह की मां को भरोसा दिलाया
बुमराह ने एज ग्रुप क्रिकेट नहीं खेला था। वह अंडर-16 में भी नहीं खेले थे। इसी कारण उनकी मां को उनके क्रिकटर बनने पर शक था, लेकिन किशोर ने उन्हें समझाया कि उनका बेटा काफी आगे जाएगा। इसके बाद बुमराह अपने राज्य गुजरात के लिए अंडर-19 टीम की ट्रायल के लिए गए। यहां भी बुमराह को कुछ लोगों का विरोध झेलना पड़ा और वह भी सिर्फ एक्शन को लेकर। कुछ चयनकर्ता उनके एक्शन को लेकर अलग ही राय रखते थे।

गुजरात के कोच ने पहली बार बुमराह को किया नोटिस
इसके बाद यह फैसला लिया गया कि अगर उनका चयन गुजरात के मुख्य टीम के लिए नहीं होता है, तो उन्हें रिजर्व के तौर पर रखा जाएगा। साल 2013 में बुमराह अपने राज्य के लिए टी-20 सैयद मुश्ताक अली ट्रॉफी में खेलने गए। वहां गुजरात के पूर्व खिलाड़ी और कोच हितेश मजूमदार ने उन्हें देखा।

2013 में पहली बार IPL खेले जसप्रीत बुमराह
टी-20 घरेलू टूर्नामेंट से बुमराह का चयन 2013 IPL के लिए मुंबई इंडियंस टीम में हुआ। अगले सीजन में वह रणजी खेले। और फिर लगातार IPL में खेले। फिर 2 साल बाद 2016 में वह ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ वनडे और टी-20 सीरीज के लिए टीम में शामिल किए गए। इसके बाद उन्होंने कभी पीछे मुड़कर नहीं देखा। बुमराह 19 टेस्ट में 83 विकेट ले चुके हैं। वहीं, 67 वनडे में उनके नाम 108 विकेट है। 49 टी-20 में बुमराह ने 6.67 की इकोनॉमी से 59 विकेट लिए हैं।

खबरें और भी हैं…



Source link

By Raj

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *