जयपुर31 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक
  • इंडियन क्रिकेटर्स एसोसिएशन : झालानी और बिजावत ही हैं हमारे प्रतिनिधि राजस्थान क्रिकेट एसोसिएशन : झालानी एकेडमी चलाते हैं, माथुर को भी हटाया

राजस्थान क्रिकेट संघ में प्लेयर्स प्रतिनिधि को लेकर ऊहापोह की स्थिति है। शुरू में आरसीए ने विनोद माथुर और गंगोत्री चौहान को प्लेयर्स प्रतिनिधि बनाया था। लेकिन अब इन्हें भी मीटिंग में नहीं बुलाया जाता। दूसरी तरफ इंडियन क्रिकेट एसोसिएशन (आईसीए) ने रोहित झालानी और सोनिया बिजावत को आरसीए में अपना प्लेयर्स प्रतिनिधि नियुक्त कर दिया। लेकिन आरसीए इन दोनों को कभी भी मीटिंग में नहीं बुलाता। इसको लेकर अब आरसीए और आईसीए में तनातनी बढ़ गई है। कानून के मुताबिक आरसीए की कोई भी मीटिंग प्लेयर्स प्रतिनिधि के बिना वैध नहीं है।

जस्टिस झाला बोले- 13 को दूंगा मेल का जवाब
इस संबंध में आईसीए के सचिव हितेश मजूमदार ने कुछ समय पहले आरसीए के एथिक्स ऑफीसर जस्टिस आरसीएस झाला को एक मेल भी भेजा था। जिसका जवाब आज तक नहीं मिला है। इस बारे में हमने जब जस्टिस झाला से पूछा तो उन्होंने कहा, हां, मेल आया था। अभी जवाब नहीं दिया है। क्या आरसीए से इस बारे में कोई चर्चा हुई, पूछने पर उन्होंने कहा, नहीं कोई चर्चा नहीं हुई, 13 अक्टूबर को मीटिंग है उसके बाद जवाब दूंगा।

आईसीए सचिव मजूमदार से जब फोन पर बात की तो उन्होंने कहा, अभी मैं सिर्फ इतना कह सकता हू कि आरसीए में हमारे प्रतिनिधि रोहित झालानी और सोनिया बिजावत हैं। इस संबंध में हमने आरसीए को भी कई मेल किए हैं और जस्टिस झाला को भी मेल किया। आरसीए के सचिव महेंद्र शर्मा ने बताया कि इस समय आरसीए में कोई भी प्लेयर्स प्रतिनिधि नहीं है।

कॉन्फ्लिक्ट ऑफ इंटरेस्ट के कारण हमने विनोद माथुर और गंगोत्री चौहान को भी मीटिंग में बुलाना बंद कर दिया था। विनोद माथुर एकेडमी से जुड़े हैं। गंगोत्री सेलेक्टर हैं। इसी तरह से रोहित झालानी भी एकेडमी रन करते हैं। इसकी जानकारी हम आईसीए को भी दे चुके हैं।

एक सुझाव यह भी आईसीए के प्रतिनिधि की देखरेख में हों चुनाव
आरसीए के उपाध्यक्ष अमीन पठान की ओर से एक सुझाव आया। उन्होंने कहा, आईसीए किसी क्रिकेट संघ में अपनी मर्जी से प्लेयर्स प्रतिनिधि कैसे नियुक्त कर सकती है। इससे बेहतर तो यह है कि आरसीए में क्रिकेटर्स प्रतिनिधि चुनने के लिए चुनाव हों या सर्वसम्मति से नियुक्त हों। बेहतर है कि आईसीए का प्रतिनिधि आए, आरसीए का प्रतिनिधि भी हो और उनके सामने ही रणजी खेले पूर्व प्लेयर्स आपसी सहमति या चुनाव के माध्यम से आरसीए में अपना प्रतिनिधि चुनें।



Source link

By Raj

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *