• Hindi News
  • Sports
  • Cricket
  • India Vs England Analysis Of Team India Victory In 3rd Test Match Axar Ashwin And Rohit Played Big Role

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

अहमदाबादएक घंटा पहले

भारतीय टीम ने तीसरे टेस्ट मैच में दो दिन के अंदर इंग्लैंड को 10 विकेट से हरा दिया। इसके साथ ही भारत चार टेस्ट मैचों की सीरीज में 2-1 से आगे हो गया है। इस डे-नाइट टेस्ट में तेज गेंदबाजों का बोलबाला रहने की उम्मीद थी लेकिन छा गए स्पिनर। भारतीय स्पिनर्स के दमदार प्रदर्शन सहित 5 ऐसे फैक्टर रहे जो इस मैच में भारतीय जीत की वजह बने।

1. अक्षर पटेल ने लिए मैच में 11 विकेट
इस मैच में विराट कोहली टॉस हार गए थे। टर्निंग ट्रैक पर टॉस हारने का मतलब मैच हारना माना जाता है। लेकिन, हमारे स्पिनर्स अक्षर पटेल और रविचंद्रन अश्विन ने ऐसा नहीं होने दिया। इन दोनों ने मोटेरा की मुश्किल पिच पर इंग्लैंड के बल्लेबाजों को बिल्कुल ही नहीं टिकने दिया। इंग्लैंड के 20 विकेट में से 18 विकेट इन दोनों ने लिए। अक्षर ने 11 और अश्विन ने 7 विकेट लिए। तीसरे स्पिनर वॉशिंगटन सुंदर ने एक विकेट लिया।

2. रोहित शर्मा की लाजवाब बल्लेबाजी

रोहित शर्मा लगातार दूसरे टेस्ट मैच में दोनों टीम को मिलाकर बेस्ट बैट्समैन साबित हुए। जिस टेस्ट में कोई भी टीम एक पारी में 200 रनों के पार नहीं जा सकी उसमें उसमें रोहित ने अकेले 91 रन बना दिए। उन्होंने पहली पारी में 66 और दूसरी पारी में नाबाद 25 रन बनाए। यानी उन्होंने भारत के 46% रन अकेले बना दिए। रोहित की बैटिंग दोनों टीमों की बैटिंग लाइनअप में मुख्य अंतर साबित हुई।

3. स्किड करती पिंक बॉल
डे-नाइट टेस्ट के लिए बॉल पर पिंक कलर का लैकर दो से तीन बार चढ़ाया जाता है। इससे गेंद काफी शाइनी हो जाती है। यह आम तौर पर तेज गेंदबाजों की मददगार होती है लेकिन इस टेस्ट में यह स्पिनर्स का हथियार बन गई। लैकर अधिक होने से गेंद टर्न होने की जगह स्किड कर रही थी और बल्लेबाज सीधी गेंदों पर विकेट दे रहे थे। स्किड करती गेंद इंग्लैंड के बल्लेबाजों के लिए ज्यादा बड़ी मुसीबत साबित हुई।

4. इंग्लैंड का गलत टीम सिलेक्शन, फेल रहे फास्ट बॉलर्स
इंग्लैंड की टीम इस मैच में सिर्फ एक विशेषज्ञ स्पिनर जैक लीच के साथ उतरी। रूट ने पार्ट टाइम स्पिनर के रूप में शानदार प्रदर्शन किया। लेकिन, अगर इंग्लिश टीम के पास दूसरा स्पेशलिस्ट स्पिनर होता तो मुमकिन है यह मैच काफी कांटे की टक्कर वाला साबित होता। इंग्लैंड के तीन तेज गेंदबाजों और एक फास्ट बॉलिंग ऑलराउंडर मिलकर इस मैच में सिर्फ 27 ओवर की गेंदबाजी की और एक भी विकेट नहीं ले सके।

5. इंग्लैंड ने टॉस और अच्छी शुरुआत का एडवांटेज गंवाया
यह सही है कि तीसरे टेस्ट मैच की पिच को बहुत अच्छा नहीं कहा जा सकता है, लेकिन यह भारतीय जीत की मुख्य वजह नहीं थी। टर्निंग ट्रैक पर इंग्लैंड ने टॉस जीता था और एडवांटेज उसके पास था। इंग्लैंड को अच्छी शुरुआत भी मिली और एक समय उसका स्कोर दो विकेट पर 72 रन था। यहां से इंग्लैंड की पारी बिखर गई।

खबरें और भी हैं…



Source link

By Raj

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *