• Hindi News
  • Sports
  • Cricket
  • Rishabh Pant Batting Performance Updated: Pant Coach Taarak Sinha Interview To Dainik Bhaskar

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

अहमदाबाद2 घंटे पहलेलेखक: राजकिशोर

  • कॉपी लिंक

इंग्लैंड के खिलाफ टेस्ट सीरीज में ऋषभ पंत की बल्लेबाजी और विकेट कीपिंग की काफी तारीफ की जा रही है। चौथे टेस्ट में पंत ने अपनी शतकीय पारी से मैच भारत की झोली में डाल दिया। इससे पहले ऑस्ट्रेलिया दौरे पर भी उन्होंने बेहतरीन बल्लेबाजी की थी। पंत के लगातार अच्छे प्रदर्शन से उनके कोच तारक सिन्हा भी काफी खुश हैं। उन्होंने भास्कर के साथ विशेष बातचीत में कहा कि पंत ने अपने प्रदर्शन से आलोचकों को करारा जवाब दिया है। अभी उनके करियर की शुरुआत हुई है, आने वाले समय में वे कई रिकॉर्ड अपने नाम करेंगे। वे तीनों फॉर्मेट के बेहतरीन खिलाड़ी हैं और खुद को जरूर साबित करेंगे।

पंत की तकनीक में कोई खराबी नहीं
तारक सिन्हा कहा, ‘मैं शुरू से कह रहा हूं कि पंत की तकनीक में कोई खराबी नहीं है। टीम में जगह पक्की न होने के चलते उनका ध्यान लगातार भटक रहा था। वे फोकस नहीं कर पा रहे थे। लेकिन, जब उन्होंने ऑस्ट्रेलिया में बल्ले से खुद को साबित कर दिया, तो उनके अंदर आत्मविश्वास की बढ़ोतरी हुई। उन्हें टीम में अपना स्थान पक्का लगने लगा। वे ऑस्ट्रेलिया दौरे के बाद एकेडमी आए था। खेल के कई पहलुओं पर मेरी उनसे लंबी बातचीत हुई। मैंने पंत से अपना ध्यान खेल पर केंद्रित करने के लिए कहा था। उन्होंने ऐसा ही किया और अब परिणाम सबके सामने हैं। मुझे पूरी उम्मीद है कि वे आने वाले समय में तीनों फॉर्मेट में टीम इंडिया के स्थायी सदस्य होंगे।’

टीम की जरूरत के मुताबिक बल्लेबाजी करना सीख गए हैं

उन्होंने आगे कहा,’पंत अब यह सीख गया है कि अच्छी गेंद को सम्मान देते हुए उसे छोड़ना है और खराब गेंद का इंतजार करना है और उस पर शॉट खेलना है। इंग्लैंड के खिलाफ पूरी सीरीज में उन्होंने समझदारी भरी बल्लेबाजी की। पंत जान गए हैं कि टीम की जरूरत के हिसाब से किस तरह बल्लेबाजी करनी है। अंतिम टेस्ट में उनकी शतकीय पारी इसका सबसे बड़ा उदाहरण है। ऑस्ट्रेलिया में भी उन्होंने टीम की जरूरत के मुताबिक तेज और धीरज भरी दोनों तरह की बल्लेबाजी की थी।’

इंग्लैंड के खिलाफ दो हाफ सेंचुरी के साथ एक सेंचुरी बनाई
इंग्लैंड के खिलाफ घरेलू सीरीज में पंत ने अपनी बल्लेबाजी से सबको प्रभावित किया। उन्होंने चार मैचों की 6 पारियों में 270 रन बनाए। इसमें एक शतक के साथ दो हाफ सेंचुरी भी शामिल है। पहले टेस्ट की पहली पारी में 91 रन बनाए। जबकि दूसरी पारी में 11 रन की पारी खेली थी। जबकि दूसरे मैच में पहली पारी में नाबाद 58 रन की पारी खेली। उनके लिए तीसरा टेस्ट मैच अच्छा नहीं रहा था लेकिन आखिरी मैच में उन्होंने 101 रन की बेहतरीन पारी खेली।

विकेट के पीछे बेहतर प्रदर्शन

ऑस्ट्रेलिया दौरे पर पंत की कीपिंग की आलोचना की गई थी। लेकिन घरेलू सीरीज में पंत ने विकेट के पीछे बेहतरीन कैच पकड़ने के साथ ही कई खिलाड़ियों को फुर्ती के साथ स्टंप कर पवेलियन भेजा। उन्होंने इस सीरीज में 8 कैच और 5 स्टंप किए। सीरीज के आखिरी तीन टेस्ट मैचों में उन्होंने स्पिनर्स और तेज गेंदबाज दोनों के खिलाफ शानदार कीपिंग की।

खबरें और भी हैं…



Source link

By Raj

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *