#MeToo पर अब 17 को फैसला: पूर्व केंद्रीय मंत्री एमजे अकबर के मानहानि केस में फैसला टला; पत्रकार प्रिया रमानी पर बदनाम करने का आरोप


  • Hindi News
  • National
  • Court Verdict In Defamation Case Of Former Union Minister MJ Akbar; Journalist Priya Ramani Accused Of Sexual Harassment

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

नई दिल्ली13 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक
#MeToo कैंपेन के दौरान पत्रकार प्रिया रमानी ने साल 2018 में अकबर पर यौन उत्पीड़न का आरोप लगाया था। - Dainik Bhaskar

#MeToo कैंपेन के दौरान पत्रकार प्रिया रमानी ने साल 2018 में अकबर पर यौन उत्पीड़न का आरोप लगाया था।

पूर्व केंद्रीय मंत्री एमजे अकबर की तरफ से पत्रकार प्रिया रमानी के खिलाफ दायर आपराधिक मानहानि मामले में दिल्ली की राउज एवेन्यू कोर्ट अब 17 फरवरी को फैसला सुनाएगी। कोर्ट ने दोनों पक्षों की दलीलें सुनने के बाद एक फरवरी को अपना फैसला सुरक्षित रख लिया था। आज यानी बुधवार को ही इस मामले में फैसला आना था, लेकिन अब कोर्ट ने 17 फरवरी तक इसे टाल दिया है। प्रिया ने एम जे अकबर के खिलाफ 2018 में #MeToo कैंपेन के तहत यौन उत्पीड़न का आरोप लगाया था, तब अकबर केंद्रीय मंत्री थे। इसके बाद अकबर ने प्रिया के खिलाफ मानहानि का केस दर्ज करा दिया था।

मंत्री पद से देना पड़ा था इस्तीफा
#MeToo कैंपेन के दौरान पत्रकार प्रिया रमानी ने साल 2018 में अकबर पर यौन उत्पीड़न का आरोप लगाया था। इसके बाद अकबर ने प्रिया पर बदनाम करने का आरोप लगाते हुए FIR दर्ज करवाई थी। हालांकि दो दिन बाद यानी 17 अक्टूबर 2018 को अकबर को केंद्रीय मंत्री पद से इस्तीफा देना पड़ा था।

रमानी ने वॉग के लिए आर्टिकल लिखा था
2017 में जर्नलिस्ट प्रिया रमानी ने मैगजीन ‘वॉग’ के लिए एक आर्टिकल लिखा था। इसमें उन्होंने करीब 20 साल पहले नौकरी के लिए इंटरव्यू के दौरान बॉस पर यौन उत्पीड़न का आरोप लगाया। 2018 में जब देश में मीटू कैम्पेन शुरू हुआ, तब रमानी ने खुलासा किया कि उत्पीड़न करने वाले व्यक्ति एमजे अकबर थे। तब वे सियासत में नहीं आए थे और जर्नलिस्ट थे। जब रमानी ने यह खुलासा किया, तब अकबर मोदी सरकार में मंत्री थे। 17 अक्टूबर 2018 को अकबर को मंत्री पद छोड़ना पड़ा। अकबर ने इसके बाद रमानी के खिलाफ मानहानि का मुकदमा दायर किया। पटियाला हाउस कोर्ट में ट्रायल 2019 में शुरू हुआ।

अकबर ने रमानी के आरोपों को काल्पनिक बताया था
ट्रायल के दौरान अकबर ने अदालत को बताया कि रमानी के आरोप काल्पनिक थे। इससे उनकी छवि को नुकसान पहुंचा है। दूसरी ओर, रमानी अपने दावों पर टिकी रहीं। एडिशनल चीफ मेट्रोपॉलिटन मजिस्ट्रेट रवींद्र कुमार पांडे ने 1 फरवरी को दलीलें सुनने के बाद फैसला सुरक्षित रख लिया था।

तनुश्री दत्ता ने नाना पर आरोप लगाए और भारत में मीटू कैम्पेन शुरू हुआ
2008 में मूवी ‘हॉर्न ओके प्लीज’ के सेट पर तनुश्री दत्ता के साथ कुछ घटना हुई थी। तनुश्री ने नाना पाटेकर और कोरियोग्राफर गणेश आचार्य पर आरोप लगाए थे। तब मामले ने इतना तूल नहीं पकड़ा। 10 साल बाद 2018 में तनुश्री भारत लौटीं और एक इंटरव्यू दिया। इसमें उन्होंने उस घटना का दोबारा जिक्र किया। कुछ लोगों ने इसे #MeToo से जोड़ दिया। इसके बाद अभिनेता आलोक नाथ, केंद्रीय मंत्री एमजे अकबर, CPI-M केरल के विधायक माधवन मुकेश और डायरेक्टर विकास बहल भी यौन उत्पीड़न के आरोपों के घेरे में आ गए।



Source link

By Raj

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *