लोन नहीं चुका पाया तो खा ली जहर: लॉकडाउन में पति की नौकरी छूटी तो पत्नी ने कर्ज लेकर घर संभाला, लोन नहीं चुका पाया तो जहर खाकर दे दी जान


Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

बांका3 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक
फाइल फोटो। - Dainik Bhaskar

फाइल फोटो।

  • 3 SHG से बिजनेस खोलने के लिए पत्नी ने लिया था लोन
  • लोन चुकता करने के लिए दंपति में अक्सर होता था झगड़ा

बांका में एक युवक लोन नहीं चुका पाया तो उसने जहर खाकर अपनी जान दे दी। लॉकडाउन में नौकरी छूटी तो पत्नी ने SHG से जुड़कर घर को संभाला। 3 अलग-अलग स्वयं सहायता समूह से लोन लेकर अपना व्यवसाय शुरू किया। अब जब लोन चुकाने की बारी आई तो पति पर दबाव बनने लगा। इसी बात को लेकर पति-पत्नी बीच अक्सर झगड़े होने लगे। शुक्रवार की रात भी दोनों के बीच लड़ाई हुई, जिसके बाद उसने जहर खाकर ईहलीला समाप्त कर ली। मृतक की पहचान दुधारी गांव निवासी बिंदेश्वरी बंजा के पुत्र बच्चन कुमार (28 साल) के रूप में की गई है।
लॉकडाउन ने नौकरी छीन ली
बच्चन कुमार राजकोट के लेथ में काम करता था। लॉकडाउन में नौकरी छूट गई, जिसके बाद वह अपने गांव दुधारी आ गया था। गांव में ही रहकर वह मजदूरी करने लगा था। कभी काम मिलता तो कभी घर पर ही बैठा रह जाता था। इससे घर की माली हालत ठीक नहीं रही। पत्नी सुनीता देवी ने घर की स्थिति सुधारने के लिए 3 अलग-अलग SHG से लोन ले लिया। स्थिति तो सुधरी लेकिन लोन चुकाने का दबाव सिर पर आ गया। इसी बात को लेकर सुनीता बच्चन पर दबाव बनाने लगी। दोनों में लोन चुकता करने को लेकर रोज लड़ाई होने लगी।

जहर खाकर दी जान

शुक्रवार की रात को भी झगड़ा हुआ। बच्चन कुमार ने झगड़े से तनावग्रस्त होकर जहर खा लिया। जहर खाते ही परिवार में कोहराम मच गया। आस-पड़ोस वाले आननफानन में उसे बांका अस्पताल ले गए। गंभीर स्थिति को देखते हुए डॉक्टरों ने उसे मायागंज अस्पताल रेफर कर दिया। इलाज के दौरान ही उसकी मौत हो गई। बच्चन और सुनीता की तीन संतान है। विवेक (6साल), यश (3 साल) और स्नेहा (ढाई साल) का रो-रोकर बुरा हाल है।



Source link

By Raj

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *