मौसम से निपटने में काम आई हेल्थ स्ट्रैटेजी: पूर्वी लद्दाख में चीनी सेना की चुनौती से बड़ा दुश्मन है मौसम, सेना ने ग्राउंड लेवल पर बनाई रणनीति


  • Hindi News
  • National
  • Weather Is A Bigger Enemy Than Chinese Army Challenge In East Ladakh, Army Formulated Strategy At Ground Level

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

नई दिल्ली34 मिनट पहलेलेखक: मुकेश कौशिक

  • कॉपी लिंक
जीरो वेदर कैजुअल्टी का लक्ष्य तय कर भारतीय सेना ने लद्दाख में मौसम से पार पा लिया। - Dainik Bhaskar

जीरो वेदर कैजुअल्टी का लक्ष्य तय कर भारतीय सेना ने लद्दाख में मौसम से पार पा लिया।

पूर्वी लद्दाख में सेनाओं की वापसी का फैसला जिस 9वें दौर की बैठक में हुआ, उसमें चीनी कमांडर के मुंह से यह बात फिसल गई कि अब मामला खत्म करते हैं। हम मानसिक और शारीरिक रूप से तंग आ गए हैं। बातचीत की बारीकियां जानने वाले सेना के एक सूत्र ने कहा कि भारतीय सेना के सामने ऐसी स्थिति नहीं थी और इसकी वजह सैनिकों को 100 फीसदी फिट रखने के लिए अपनाई गई खास रणनीति थी।

पूर्वी लद्दाख में देपसांग से लेकर पैंगोंग त्सो के उत्तरी छोर और इसके दक्षिण में कैलाश रेंज की चोटियों पर भारतीय सेना ने दस महीने तक सैनिकों की तैनाती की। सेनाएं अब वहां से लौट रही हैं लेकिन मौजूदा ऑपरेशन कई अच्छे सबक देकर गया है।

सेना के अधिकारियों ने बताया कि डॉक्टरों, फिजिशियनों, ट्रेनर्स और ग्राउंड कमांडरों ने इस पूरी रणनीति का खाका तैयार किया था और जीरो वेदर कैजुअल्टी का लक्ष्य तय किया था। इसे शत-प्रतिशत हासिल कर लिया गया। ऐसे मौसम की तैनाती में चुनौती ऑक्सीजन की कमी की थी। एक अधिकारी ने बताया कि सबसे अहम प्रोटोकॉल यह था कि स्वास्थ्य में 1% भी गिरावट होने पर सैनिक को कम ऊंचाई वाली चोटी पर लाया जाता था।

मौसम को हराने के ये थे 4 हथियार

फुट बाथ: सैनिकों को अपने पांवों को एकदम ड्राई रखना था। पंजों को नियमित रूप से तौलिये से साफ रखने और मॉश्चराइजर लगाने का प्रोटोकाॅल अपनाया।

वॉटर परेड: डिहाइड्रेशन से बचाने के लिए हर दो घंटे में वॉटर परेड हो रही थी। जवान कतारबद्ध होते और 1 लीटर पानी की पूरी बोतल पी जाते थे।

टाॅवल परेड: नहाने के बजाए गर्म तौलिये से स्पंजिंग को विकल्प बनाया। इसमें हर सैनिक अपने संगी साथी के बदन को गर्म तौलिये से पोंछता था।

मेडिकल परेड: हर सैनिक का नियमित ब्लड प्रेशर और अन्य जरूरी वाइटल्स जैसे तापमान व फेफड़े की स्थिति पर पैनी नजर रखी गई।

खबरें और भी हैं…



Source link

By Raj

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *