फेक TRP केस: अब ED ने भी मनी लॉन्ड्रिंग की जांच शुरू की, 12 लोगों की हो चुकी है गिरफ्तारी


  • Hindi News
  • Local
  • Maharashtra
  • Republic TV: TV Ratings Scam News Update | Enforcement Directorate (ED) Files Money Laundering Complaint In Fake TV Ratings Scam

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

मुंबई12 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

TRP केस में क्राइम इंटेलिजेंस यूनिट रिपब्लिक टीवी चैनल के टॉप रैंक के 6 से ज्यादा लोगों को पूछताछ के लिए बुला चुकी है। -फाइल फोटो

प्रवर्तन निदेशालय (ED) ने फेक TRP मामले में प्रिवेंशन ऑफ मनी लॉन्ड्रिंग एक्ट (PMLA) के तहत केस दर्ज कर जांच शुरू कर दी है। सूत्रों के मुताबिक, मुंबई पुलिस ने ही ED से इस मामले की जांच करने का आग्रह किया था। मुंबई पुलिस ने कई चैनलों के वित्तीय लेनदेन से जुड़े दस्तावेज भी ED को सौंपे हैं। मुंबई पुलिस की क्राइम इंटेलिजेंस यूनिट (CIU) अब तक इस मामले में 12 लोगों को गिरफ्तार किया है। इनमें रिपब्लिक टीवी चैनल के डिस्ट्रीब्यूशन हेड घनश्याम सिंह भी शामिल हैं।

यह मामला बॉम्बे हाईकोर्ट में भी लंबित है। दो हफ्ते पहले बॉम्बे हाई कोर्ट ने इसी केस में महाराष्ट्र सरकार, मुंबई के पुलिस कमिश्नर परमबीर सिंह और अन्य पुलिस अधिकारियों से भी एक याचिका के संबंध में जवाब मांगा था।

रिपब्लिक टीवी के 12 से ज्यादा लोगों से हुई है पूछताछ
घनश्याम सिंह से इससे पहले भी कई बार पूछताछ हो चुकी है। क्राइम ब्रांच सूत्रों के अनुसार, सिंह रिपब्लिक मीडिया नेटवर्क के सिर्फ डिस्ट्रीब्यूशन हेड ही नहीं, असिस्टेंट वाइस प्रेसिडेंट भी हैं। सिर्फ घनश्याम सिंह ही नहीं, TRP केस में CIU रिपब्लिक टीवी चैनल में टॉप रैंक के 6 से ज्यादा लोगों को पूछताछ के लिए बुला चुकी है।

कुछ और चैनलों के कर्मचारी जांच के घेरे में
पिछले महीने CIU ने कुछ आरोपियों की रिमांड एप्लिकेशन में जिन चैनलों के मालिकों/चालकों को वॉन्टेड दिखाया था, उनमें रिपब्लिक चैनल का भी नाम था। रिपब्लिक के अलावा न्यूज नेशन, WOW, फख्त मराठी, बॉक्स सिनेमा और महा मूवी चैनल चैनल से जुड़े लोग भी जांच के घेरे में हैं।

दो लोग अब तक बन चुके हैं अप्रूवर
इस केस में अब तक कुल 12 लोग अरेस्ट हो चुके हैं। इनमें से दो आरोपी, उमेश मिश्रा और आशीष चौधरी, CIU के अप्रूवर भी बन चुके हैं। CIU ने अब तक कई गवाहों के बयान लिए हैं। कई गवाहों के CrPC के सेक्शन 164 के तहत मजिस्ट्रेट के सामने बयान लिए गए हैं, ताकि केस के दौरान वे कोर्ट में मुकर न सकें। जिनके घर TRP मीटर लगाए गए थे, उनमें से भी कुछ के बयान दर्ज किए गए हैं।

कैसे चल रहा था फेक TRP का खेल?
मुंबई पुलिस के कमिश्नर परमबीर सिंह ने कुछ दिनों पहले इस मामले का खुलासा करते हुए बताया था कि जांच के दौरान ऐसे घर मिले हैं जहां TRP का मीटर लगा होता था। इन घरों के लोगों को पैसे देकर दिनभर एक ही चैनल चलवाया जाता था, ताकि चैनल की TRP बढ़े। उन्होंने यह भी बताया था कि कुछ घर तो ऐसे पता चले हैं, जो बंद थे, उसके बावजूद अंदर टीवी चलता था। एक सवाल के जवाब में कमिश्नर ने यह भी कहा था कि इन घर वालों को चैनल या एजेंसी की तरफ से रोजाना 500 रुपए तक दिए जाते थे।

मुंबई में पीपुल्स मीटर लगाने का काम हंसा नाम की एजेंसी को दिया हुआ था। इस एजेंसी के कुछ लोगों ने चैनल के साथ मिलकर यह खेल किया। जांच के दौरान हंसा के पूर्व कर्मचारियों ने गोपनीय घरेलू डेटा शेयर किया।



Source link

By Raj

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *