पंजाब-हरियाणा के CM आमने-सामने: कैप्टन बोले- मनोहर लाल ने मुझे फोन नहीं किया, जवाब में खट्टर के सेक्रेटरी ने कॉल हिस्ट्री शेयर कर दी


  • Hindi News
  • National
  • Farmers’ Agitation | Amarinder Khattar Tussle | Political Attack | Amrinder Said Khattar Did Not Call Me, In Response, Khattar’s Secretary Shared The Call History Latest News And Updates Today

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

चंडीगढ़एक घंटा पहले

  • कॉपी लिंक

एक तरफ पंजाब और हरियाणा के किसान दिल्ली बॉर्डर पर प्रदर्शन कर रहे हैं, वहीं दूसरी तरफ आंदोलन को लेकर सियासी बयानबाजी भी जारी है। हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहरलाल खट्टर और पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह के बीच शनिवार को एक बार फिर बयानबाजी हुई। कैप्टन ने मनोहर लाल को झूठा तक कह दिया। इस पर हरियाणा सीएम के पर्सनल सेक्रेटरी अभिमन्यु सिंह ने सोशल मीडिया पर कॉल रिकॉर्ड पोस्ट कर दिया।

बता दें कि पंजाब के CM कैप्टन अमरिंदर सिंह ने शनिवार दोपहर हरियाणा के CM मनोहर लाल खट्टर पर फोन लगाए जाने के मामले में झूठ बोलने का आरोप लगाया था।

क्या है पूरा विवाद?
किसानों के आंदोलन में पुलिस की सख्ती को लेकर हरियाणा सरकार पर सवाल उठाए जा रहे हैं। इसको लेकर मनोहर लाल ने कहा था कि उन्होंने पंजाब के सीएम अमरिंदर सिंह से चर्चा करने के लिए कई बार उन्हें फोन लगाया था। लेकिन, वहां से कोई जवाब नहीं मिला।

इस पर अमरिंदर ने कहा था- हरियाणा के सीएम झूठ बोल रहे हैं कि उन्होंने कॉल किया और मैंने उन्हें जवाब नहीं दिया। उन्होंने हमारे किसानों के साथ ठीक नहीं किया। उन्हें माफी मांगनी चाहिए। अब अगर वे 10 बार भी कॉल करेंगे, तो मैं उनसे बात नहीं करूंगा।

मनोहर लाल के सेक्रेटरी ने कहा- स्टाफ आपको जानकारी नहीं देता

इस मामले में नया मोड़ तब आया, जब हरियाणा के सीएम खट्टर के पर्सनल सेक्रेटरी ने सोशल मीडिया पर फोन कॉल का रिकॉर्ड ही जारी कर दिया। अभिमन्यु ने लिखा- शायद आपका पर्सनल स्टाफ आपको ऑफिशियल कॉल्स की जानकारी नहीं देता।

दिल्ली के बॉर्डर पर जमे हैं किसान

उधर, आंदोलन कर रहे किसान दिल्ली बॉर्डर (सिंघु और टीकरी) पर डटे हैं। सिंघु पर शुक्रवार को हुए संघर्ष के बाद सरकार ने किसानों को दिल्ली में एंट्री की इजाजत दे दी। दिल्ली सरकार ने कहा कि किसान बुराड़ी के निरंकारी ग्राउंड पर प्रदर्शन कर सकते हैं। सरकार की इजाजत के बाद भी किसानों ने दिल्ली में एंट्री से इनकार कर दिया।

किसानों का कहना है कि वे दिल्ली को घेरने आए हैं, न कि दिल्ली में घिर जाने के लिए। एक किसान ने कहा कि हमारे पास 6 महीने का राशन है। किसानों के खिलाफ बने काले कृषि कानूनों से मुक्ति के बाद ही वापस जाएंगे।





Source link

By Raj

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *