धोखे ने ली किसान की जान: वादे के बावजूद व्यापारी ने फसल नहीं खरीदी तो किसान ने लगाई फांसी; सदमे में भाई की भी मौत


Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

मुंबईएक घंटा पहले

  • कॉपी लिंक

किसान द्वारा महाराष्ट्र सरकार के मंत्री बच्चू कडू को लिखा पत्र (बाएं), मृतक किसान अशोक भूयार (दाएं)।

दिल्ली बॉर्डर पर किसान नए कृषि कानूनों का विरोध कर रहे हैं। इस बीच महाराष्ट्र के अमरावती में एक संतरा किसान ने आत्महत्या कर ली। परिवार का आरोप है कि संतरे की बोली लगाने वाले व्यापारी ने ऐन वक्त पर फसल लेने से इनकार कर दिया था। जब किसान ने इसका विरोध किया, तो व्यापारी ने उसकी पिटाई कर दी। इससे दुखी किसान ने फांसी लगा ली। इस सदमे से किसान के छोटे भाई को हार्टअटैक आ गया, जिससे उसकी भी मौत हो गई।

अमरावती पुलिस के मुताबिक, किसान अशोक भूयार ने घर में लगे पंखे से फांसी लगाई थी। परिवार के मुताबिक, आत्महत्या से पहले अशोक ने शिक्षा राज्यमंत्री बच्चू कडू को एक चिट्ठी लिखी थी, जिसमें मदद की गुहार लगाई गई थी। राज्य से बाहर होने के कारण कडू किसान की मदद नहीं कर सके। आखिरकार उसने मंगलवार को आत्महत्या कर ली।

किसान ने पैसे मांगे, तो व्यापारी ने पीटा
परिवार के मुताबिक, किसान ने संतरे की फसल बेचने के लिए व्यापारी अमीन शेख और गफूर शेख से करार किया था। मंगलवार को अशोक भुयार व्यापारी से पैसे मांगने गया था। लेकिन, व्यापारी ने संतरे की फसल खरीदने से इनकार कर दिया। जब किसान ने इसका विरोध किया, व्यापारी ने उसकी पिटाई कर दी।

शिकायत करने थाने गया, तो थानेदार ने पीटा
अशोक ने अपने साथ हुई मारपीट की शिकायत पुलिस से भी की थी। परिवार का आरोप था कि जब किसान पुलिस स्टेशन में शिकायत करने गया, तो मदद करने की बजाय थानेदार ने भी उसकी पिटाई की। इसके बाद किसान ने आत्महत्या कर ली। अशोक की मौत के बाद उसके रिश्तेदारों ने पुलिस स्टेशन पहुंच जमकर हंगामा किया। वे इंस्पेक्टर और बीट कांस्टेबल पर कार्रवाई की मांग कर रहे हैं।



Source link

By Raj

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *