धरती पर रहने वाला हर 250वां व्यक्ति संक्रमित, इस हफ्ते 5 लाख एक्टिव केस बढ़े, 37 हजार से ज्यादा मौतें हुईं; दुनिया में अब तक 3.28 करोड़ केस


  • Hindi News
  • International
  • Coronavirus Novel Corona Covid 19 26 Sept | Coronavirus Novel Corona Covid 19 News World Cases Novel Corona Covid 19

वॉशिंगटन13 मिनट पहले

फोटो फ्रांस के मार्सिले में ओल्ड पोर्ट की है। लोग कोरोनावायरस के चलते मास्क पहने नजर आ रहे हैं। इस देश में संक्रमितों की संख्या 5 लाख से ज्यादा हो गई है। -फाइल फोटो

  • दुनिया में 9.92 लाख से ज्यादा लोगों की मौत, 2.41 करोड़ से ज्यादा लोग अब स्वस्थ
  • अमेरिका में 71.85 लाख लोग संक्रमित, 2.07 लाख से ज्यादा लोग जान गंवा चुके हैं

दुनिया में संक्रमितों का आंकड़ा 3.28 करोड़ से ज्यादा हो गया है। ठीक होने वाले मरीजों की संख्या 2 करोड़ 41 लाख 99 हजार 330 से ज्यादा हो चुकी है। अब तक 9 लाख 94 हजार 311 मौतें हो चुकी हैं। ये आंकड़े www.worldometers.info/coronavirus के मुताबिक हैं।

कोरोनावायरस मामलों की संख्या पृथ्वी की कुल जनसंख्या का 0.4% (3.24 करोड़) से ज्यादा हो गई है। इसका मतलब यह है कि लगभग हर 250वां व्यक्ति पहले से ही कोरोनावायरस से संक्रमित है।​​​​ वर्ल्डो मीटर के मुताबिक, संयुक्त राष्ट्र के सबसे हालिया अनुमान के अनुसार, फिलहाल दुनिया की आबादी (सितंबर 2020 तक) 780 करोड़ (7.8 बिलियन) है।

एक्टिव मामलों की संख्या भी तेजी से बढ़ रही है। इस हफ्ते लगभग 5 लाख एक्टिव केस बढ़े, जो अब कुल मामलों का 23.3% है। न्यूज एजेंसी टास ने शनिवार को बताया कि पिछले सात दिनों में करीब 37,000 मौतें हुईं हैं। वहीं, अब तक 9,83,000 लोगों की मौत हो चुकी है।

इन 10 देशों में कोरोना का असर सबसे ज्यादा

देश

संक्रमित मौतें ठीक हुए
अमेरिका 72,45,533 2,08,483 44,81,029
भारत 59,08,748 93,440 48,49,584
ब्राजील 46,92,579 1,40,709 40,40,949
रूस 11,43,571 20,225 9,40,150
कोलंबिया 7,98,317 25,103 6,87,477
पेरू 7,94,584 32,037 6,50,948
स्पेन 7,35,198 31,232 उपलब्ध नहीं
मैक्सिको 7,20,858 75,844 5,18,204
अर्जेंटीना 6,91,235 15,208 5,46,924
साउथ अफ्रीका 6,68,529 16,312 5,99,149

जॉनसन एंड जॉनसन भी कोरोना वैक्सीन डेवलप कर रही

अमेरिकी फार्मास्युटिकल कंपनी जॉनसन एंड जॉनसन भी कोरोना वैक्सीन डेवलप कर रही है। फिलहाल, इसके ट्रायल्स चल रहे हैं। एक रिपोर्ट के मुताबिक, इसके सिंगल डोज के नतीजे काफी अच्छे रहे हैं और इससे इम्यून सिस्टम मजबूत हुआ है।

रिपोर्ट में कहा गया है- सेफ्टी प्रोफाइल और इम्यून सिस्टम को मजबूत करने के लिहाज से सिंगल डोज के टेस्ट किए गए। इससे अगले क्लीनिकल ट्रायल्स में मदद मिलेगी। इस वैक्सीन का नाम Ad26.COV2.S है। यह कोविड संक्रमण से बचाने में कारगर साबित होगी।

Ad26.COV2.S अमेरिका में तैयार हो रही चौथी ऐसी वैक्सीन है, जिसके क्लीनिकल ट्रायल्स चल रहे हैं। राष्ट्रपति ट्रम्प वादा कर चुके हैं कि साल के आखिरी तक अमेरिका में 10 करोड़ वैक्सीन उपलब्ध होंगे। उनका कहना है कि 3 नवंबर को होने वाले राष्ट्रपति चुनाव से पहले वैक्सीन बाजार में उपलब्ध होगा।

रूस: 7523 नए मामले मिले

रूस में 24 घंटे में संक्रमण के 7523 नए मामले मिले। न्यूज एजेंसी टास के मुताबिक, 22 जून के बाद एक दिन में मिलने वाला यह सबसे बड़ा आंकड़ा है। देश में 11 लाख 43 हजार 571 केस सामने आ चुके हैं। शनिवार को 169 मौतें भी हुईं। इसके साथ ही देश में मरने वालों की संख्या 20,225 हो गई है।

ब्राजील: रियो कार्निवाल टला

ब्राजील और दुनिया में मशहूर रियो डि जेनेरियो को फिलहाल टाल दिया गया है। 100 साल में यह पहला मौका है जब रियो कार्निवाल टला है। हालांकि, इस बात की संभावना बेहद कम है कि इसे इस साल आयोजित किया जा सकेगा। ब्राजील में करीब 46 लाख लोग संक्रमित हैं जबकि मौतों का आंकड़ा एक लाख 40 हजार से ज्यादा हो चुका है।

रियो कार्निवाल का आयोजन सांबा स्कूल करता है। उसने एक बयान जारी कर कहा- हम कोविड-19 की वजह से यह आयोजन टाल रहे हैं। इस बात की संभावना काफी कम है कि वैक्सीन आने के पहले इसका आयोजन किया जा सकेगा।

ब्राजील की राजधानी रियो में हर साल होने वाला रियो कार्निवाल इस साल नहीं होगा। इसका ऑर्गेनाइजर सांबा स्कूल ने कहा- 100 साल में पहली बार रियो कार्निवाल टाला जा रहा है। जब तक वैक्सीन नहीं आ जाती, तब तक आयोजन संभव नहीं है। (फाइल फोटो)

ब्राजील की राजधानी रियो में हर साल होने वाला रियो कार्निवाल इस साल नहीं होगा। इसका ऑर्गेनाइजर सांबा स्कूल ने कहा- 100 साल में पहली बार रियो कार्निवाल टाला जा रहा है। जब तक वैक्सीन नहीं आ जाती, तब तक आयोजन संभव नहीं है। (फाइल फोटो)

पेरू: इमरजेंसी 31 अक्टूबर तक बढ़ी
संक्रमण की दूसरी लहर को लेकर लैटिन अमेरिकी देश पेरू ने सख्त रवैया अपनाया है। यहां राष्ट्रीय आपातकाल 31 अक्टूबर तक के लिए बढ़ा दिया गया है। प्रेसिडेंट मार्टिन विजकारा ने कहा- इस बात की संभावना है कि यह इमरजेंसी साल के आखिर तक बनी रहे। फिलहाल, हम इसे 31 अक्टूबर तक बढ़ा रहे हैं।

पेरू की हेल्थ मिनिस्ट्री ने एक बयान में कहा- हम जानते हैं कि लोगों को कुछ प्रतिबंधों से काफी परेशान होना पड़ रहा है। लेकिन, कोविड-19 से बचने का फिलहाल यही उपाय है कि हम हर सावधानी बरतें। मास्क और सैनिटाइजेशन का खास ध्यान रखें।

पेरू में राष्ट्रपति ने हेल्थ इमरजेंसी 31 अक्टूबर तक बढ़ा दी है। साथ ही ये भी कहा है कि इसे साल के आखिर तक बढ़ाया जा सकता है। (फाइल फोटो)

पेरू में राष्ट्रपति ने हेल्थ इमरजेंसी 31 अक्टूबर तक बढ़ा दी है। साथ ही ये भी कहा है कि इसे साल के आखिर तक बढ़ाया जा सकता है। (फाइल फोटो)

ऑस्ट्रेलिया: एक और इस्तीफा
विक्टोरिया प्रांत के हेल्थ मिनिस्टर जेनी मिकाकोस ने इस्तीफा दे दिया है। जेनी पर आरोप था कि उन्होंने क्वारैंटाइन फैसिलिटीज के लिए होटलों को कॉन्ट्रैक्ट दिए। लेकिन, इसमें कई स्तरों पर धांधली हुई। इसके अलावा इन्फेक्शन कंट्रोल के मामले में उनकी नाकामयाबी को मीडिया ने लगातार उजागर किया।

ऑस्ट्रेलिया इस वक्त संक्रमण की दूसरी लहर का सामना कर रहा है। सरकार ने साफ कर दिया है कि फिलहाल प्रतिबंधों में किसी तरह की ढील नहीं दी जाएगी।

ऑस्ट्रेलिया में संक्रमण की दूसरी लहर जारी है। प्रतिबंधों का विरोध हुआ तो सरकार ने सुरक्षाबल तैनात किए। विक्टोरिया के हेल्थ मिनिस्टर ने इस्तीफा दिया है।(फाइल फोटो)

ऑस्ट्रेलिया में संक्रमण की दूसरी लहर जारी है। प्रतिबंधों का विरोध हुआ तो सरकार ने सुरक्षाबल तैनात किए। विक्टोरिया के हेल्थ मिनिस्टर ने इस्तीफा दिया है।(फाइल फोटो)

फिनलैंड में संक्रमितों की पहचान की नई कोशिश
हेलसिंके एयरपोर्ट पर फिनलैंड सरकार ने संक्रमितों की पहचान के लिए स्निफर डॉग्स तैनात कर दिए हैं। इसके लिए इस डॉग यूनिट को स्पेशल मेडिकल ट्रेनिंग दी गई है। जानकारी के मुताबिक, ये स्निफर डॉग यूनिट 10 मिनट में 100 फीसदी सही तरीके से संक्रमितों की पहचान कर सकेगी।

फिलहाल, इस यूनिट को यूनिवर्सिटी ऑफ हेलसिंके की देखरेख में ट्रायल के तौर पर तैनात किया गया। कुछ दिनों बाद इसकी समीक्षा की जाएगी। अगर नतीजे सही रहे तो यह प्रॉसेस जारी रहेगा। बता दें कि इसके पहले ये स्निफर डॉग यूनिट मलेरिया और कैंसर जैसी बीमारियों से ग्रस्त लोगों की पहचान कर चुकी है।

एयरपोर्ट पर आने वाले यात्रियों को एक कपड़ा दिया जाएगा। इससे वे अपना गला और चेहरा पोछेंगे। कपड़े को एक बॉक्स में रखा जाएगा। एक अलग बूथ में डॉग हैंडलर इस बॉक्स को कई अन्य बॉक्स के साथ रखेगा। डॉग इसमें से कोरोनावायरस वाले बॉक्स की पहचान करेगा। एक बार में एक डॉग एक बॉक्स की पहचान करेगा।



Source link

By Raj

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *