गुजरात पहुंचा नया कोरोना: ब्रिटेन से लौटे 4 लोगों में नया स्ट्रेन मिला, देशभर में नए कोरोना के अब तक 29 मामले


Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

अहमदाबाद18 दिन पहले

  • कॉपी लिंक
हेल्थ मिनिस्ट्री के मुताबिक, 9 से 22 दिसंबर के बीच भारत आए इंटरनेशनल पैसेंजर्स, जो सिंप्टोमैटिक या संक्रमित पाए गए हैं, उनकी जीनोम सीक्वेंसिंग अनिवार्य होगी। (फाइल फोटो) - Dainik Bhaskar

हेल्थ मिनिस्ट्री के मुताबिक, 9 से 22 दिसंबर के बीच भारत आए इंटरनेशनल पैसेंजर्स, जो सिंप्टोमैटिक या संक्रमित पाए गए हैं, उनकी जीनोम सीक्वेंसिंग अनिवार्य होगी। (फाइल फोटो)

  • 23 दिसंबर को UK से गुजरात आए इन लोगों की एयरपोर्ट पर ही स्कैनिंग की गई थी

ब्रिटेन में दहशत मचाने वाला कोरोना का नया खतरनाक स्ट्रेन अब गुजरात पहुंच गया है। हाल ही में ब्रिटेन से आए 4 व्यक्तियों में यह स्ट्रेन पाया गया है। चारों मरीजों को अस्पताल में भर्ती कराया गया है। मामले की गंभीरता को देखते हुए मुख्यमंत्री विजय रूपाणी कोर कमेटी की मीटिंग कर रहे हैं। नए स्ट्रेन के भारत में फिलहाल 29 मामले हो गए हैं।

23 दिसंबर को UK से अहमदाबाद आए इन लोगों की एयरपोर्ट पर ही स्कैनिंग की गई थी। इनमें से 15 की रिपोर्ट पॉजिटिव आई और नए स्ट्रेन की जांच के लिए सैंपल पुणे भेजे गए थे। इनमें से 4 व्यक्तियों के सैंपल में नए स्ट्रेन की पुष्टि हुई है। 5 की रिपोर्ट सामान्य है। 6 व्यक्तियों के सैंपल आने बाकी हैं।

किस लैब की जांच में, कितने मरीजों में नया स्ट्रेन मिला

लैब कितनों में नया स्ट्रेन मिला
NCDC (दिल्ली) 8
NIMHANS (बेंगलुरु) 10
CCMB (हैदराबाद) 3
NIV (पुणे) 5
NIBG (कल्याणी) 1
GIB (दिल्ली) 2

ब्रिटेन से आने वाली उड़ानों पर रोक
सरकार ने ब्रिटेन जाने-आने वाली उड़ानों पर रोक 7 जनवरी तक बढ़ा दी है। पहले 22 दिसंबर की आधी रात से 31 दिसंबर तक यह रोक लगाई गई थी। इसके अलावा सरकार ने सभी इंटरनेशनल कमर्शियल फ्लाइट्स पर लगा प्रतिबंध 31 जनवरी तक बढ़ा दिया है। ये आदेश विशेष फ्लाइट्स और कार्गो की उड़ानों पर नहीं लागू होगा।

आइसोलेशन सेंटर से भागी महिला में नया स्ट्रेन मिला
ब्रिटेन से लौटी आंध्र प्रदेश की एक महिला में कोरोना का नया स्ट्रेन मिला था। 21 दिसंबर को दिल्ली एयरपोर्ट पर उतरने के बाद उसे आइसोलेशन सेंटर भेजा गया था। वहां से भागकर वह स्पेशल ट्रेन से अपने घर राजमुंदरी पहुंची थी। महिला के साथ उसका बेटा भी था। हालांकि, बेटे की रिपोर्ट निगेटिव आई।

9 से 22 दिसंबर के बीच देश लौटे संक्रमितों की जीनोम सीक्वेंसिंग जरूरी
नए स्ट्रेन के मामले सामने आने के बाद केंद्र सरकार अलर्ट मोड में आ गई है। हेल्थ मिनिस्ट्री के मुताबिक, 9 से 22 दिसंबर के बीच भारत आए इंटरनेशनल पैसेंजर्स, जो सिंप्टोमैटिक या संक्रमित पाए गए हैं, उनकी जीनोम सीक्वेंसिंग अनिवार्य होगी।

33 हजार मरीज हाल ही में ब्रिटेन से आए
25 नवंबर से 22 दिसंबर के बीच ब्रिटेन से लगभग 33 हजार यात्री भारत आए। इनमें से अब तक 114 लोग कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं। ये केरल, आंध्र, गोवा, गुजरात, कर्नाटक, तेलंगाना, हिमाचल और पंजाब में हैं। सभी आइसोलेशन में हैं। इधर, मध्यप्रदेश में ब्रिटेन से लौटे 372 यात्रियों के सैंपल लिए गए हैं। इनमें से पांच सैंपल दिल्ली भेजे गए। ये सैंपल भोपाल के एक, इंदौर के दो और ग्वालियर-जबलपुर के एक-एक पॉजिटिव यात्रियों के हैं।

क्या है जीनोम सीक्वेंसिंग?
जीनोम सीक्वेंसिंग किसी वायरस की पूरी जानकारी है, जिसमें वायरस का पूरा डेटा होता है। वायरस कैसा है? कैसा दिखता है? इसकी जानकारी जीनोम में मिलती है। वायरस के बड़े ग्रुप को जीनोम कहा जाता है। वायरस के बारे में जानने की प्रोसेस को जीनोम सीक्वेंसिंग कहा जाता है। इसी के जरिए कोरोना के नए स्ट्रेन के बारे में पता लगाया जा रहा है।



Source link

By Raj

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *