टॉप न्यूज़


  • Hindi News
  • National
  • Buddha Air Plane | Buddha Air Plane Flew In Wrong Direction | Visual Flight Rules, Buddha Airlines, Nepal Flights

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

नई दिल्ली/काठमांडू5 मिनट पहले

नेपाल में 21 सितंबर को विमानों की आवाजाही शुरू हुई है और अब करीब-करीब पूरी क्षमता के साथ उड़ान भर रहे हैं। (फाइल फोटो)

आपने शायद ही कभी सुना हो कि कोई बस या ट्रेन गलत स्टेशन के लिए रवाना हो गई, पर नेपाल में एक विमान ने गलत शहर के लिए उड़ान भर दी। नेपाल की निजी एयरलाइन बुद्ध एयर का एक विमान में जनकपुर जाने के लिए पैसेंजर्स सवार हुए, लेकिन पहुंच गए पोखारा। यानी ओरिजिनल डेस्टिनेशन से 255 किलोमीटर दूर।

नेपाल के अखबार काठमांडू टाइम्स ने जब एयरलाइन से बात की तो बुद्ध एयरलाइन कहा कि उनकी तरफ से बड़ी गलती हुई है। एयरलाइन के मैनेजिंग डायरेक्टर बीरेंद्र बहादुर बसंत ने कहा कि हमने इस मामले की जांच के लिए कमेटी बनाई है। नेपाल में कोरोना की वजह से करीब 6 महीने तक एयर ट्रैफिक बंद रहा था। 21 सितंबर को विमानों की आवाजाही शुरू हुई है और अब करीब-करीब पूरी क्षमता के साथ उड़ान भर रहे हैं।

उड़ान से पहले फ्लाइट नंबर चेंज किए गए
घटना की शुरुआती रिपोर्ट के मुताबिक, मौसम की परेशानियों के चलते पोखरा जाने वाली फ्लाइट को विजुअल फ्लाइट रूल्स (VFR) के चलते 3 बजे तक उड़ान की मंजूरी दी गई थी। मौसम के चलते फ्लाइट्स के ऑपरेशन में वैसे ही देरी हो रही थी, ऐसे में बुद्ध एयर के अधिकारियों ने पहले पोखरा के लिए फ्लाइट रवाना करने का फैसला किया। इसी के तहत फ्लाइट्स के नंबर चेंज कर दिए गए थे। जनकपुर और पोखरा की तरफ जाने वाले उड़ानों में 15-20 मिनट का अंतर था।

डेस्टिनेशन बदलने की जानकारी पायलट को नहीं मिली
फ्लाइट नंबर चेंज करने की वजह से ही गड़बड़ी हुई थी। ग्राउंड स्टाफ ने ऑन पेपर तो पोखरा जाने वाले 69 पैसेंजर्स की लिस्ट फ्लाइट U4505 से बदलकर फ्लाइट U4607 कर दी, लेकिन इस स्टाफ ने इस बारे में फ्लाइट कैप्टन और को-पायलट को जानकारी न देने की गलती कर दी। फ्लाइट अटेंडेंट ने भी प्लेन में अनाउंसमेंट किया कि फ्लाइट जनकपुर के लिए उड़ान भर रही है। ऐसे में पैसेंजर्स कुछ नहीं कर सकते थे और विमान भी उड़ान भर चुका था।

एयरलाइन ने कहा कि ग्राउंड स्टाफ और पायलट के बीच कम्युनिकेशन गैप था। पायलट्स ने भी पैसेंजर्स को नहीं देखा। उड़ान भरने के बाद पायलटों से बात करने की कोशिश की गई, पर ये नहीं हो पाया, क्योंकि कंपनी के नियमों के चलते उन्हें बात करने की इजाजत नहीं थी।



Source link

By Raj

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *