कोरोना देश में: वैक्सीनेशन से पहले स्वास्थ्य मंत्रालय ने राज्यों से कहा- वैक्सीन के साइड इफेक्ट भी होंगे, इसके लिए तैयारी करें


  • Hindi News
  • National
  • Coronavirus Outbreak India Cases LIVE Updates; Maharashtra Pune Madhya Pradesh Indore Rajasthan Uttar Pradesh Haryana Punjab Bihar Novel Corona (COVID 19) Death Toll India Today Mumbai Delhi Coronavirus News

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

नई दिल्ली6 मिनट पहले

फोटो दिल्ली की है। यहां वॉल पेंटिंग के जरिए लोगों को मास्क पहनने के लिए जागरूक किया जा रहा है। दिल्ली में अब तक 5.20 लाख से ज्यादा लोग संक्रमण की चपेट में आ चुके हैं।

देश में कोरोना के बढ़ते मामलों के बीच अच्छी खबर आई है। अगले दो से तीन महीनों में देश को असरदार वैक्सीन मिल सकती है। केंद्र सरकार ने वैक्सीनेशन की प्रक्रिया पर फोकस करना शुरू कर दिया है। सरकार ने सोमवार को सभी राज्यों को इसके लिए पत्र भेजा है।

स्वास्थ्य मंत्रालय के अतिरिक्त सचिव डॉ. मनोहर अगनानी ने राज्यों से कहा कि वैक्सीनेशन के कुछ साइड इफेक्ट हो सकते हैं। इससे निपटने के लिए सभी राज्य सरकारें अपने यहां तैयारियां करें। मंत्रालय ने साइड इफेक्ट्स से बचने के लिए कई अहम जानकारियां भी दी हैं। इसमें कहा गया है कि एडवर्स इवेंट्स फॉलोविंग इम्यूनाइजेशन (AEFI) सर्विलांस सिस्टम को और मजबूत बनाने पर काम किया जाए ताकि वैक्सीनेशन समय पर हो सके।

सभी राज्य और केंद्र शासित राज्यों को क्या करना होगा?

  • मेडिकल स्पेशलिस्ट और पीडियाट्रिशियन को जिला स्तर के AEFI कमेटी में शामिल करें।
  • AEFI कमेटी में न्यूरोलॉजिस्ट, कार्डियोलॉजिस्ट, सांस रोग के एक्सपर्ट को शामिल करें।
  • वैक्सीन सबसे पहले बुजुर्गों को दी जानी है। जिनमें स्ट्रोक, हर्ट अटैक, सांस जैसी अन्य बीमारियां पहले से हैं।
  • सभी राज्य को अपने यहां अलग-अलग मेडिकल कॉलेज का चयन करना होगा, जिनके टेक्निकल सपोर्ट से वैक्सीनेशन का काम होगा।
  • स्वास्थ्यकर्मियों को ट्रेनिंग देने के लिए AEFI कमेटी को तैयार करना होगा।
  • देशभर में 300 मेडिकल कॉलेज और टेरिटरी केयर हॉस्पिटल हैं, जहां वैक्सीन के ड्रग रिएक्शन मॉनिटरिंग सिस्टम है। इन सेंटर्स से संपर्क करना होगा।

एक्टिव केस के मामले में भारत अब 7वें नंबर पर

देश के कई राज्यों में कोरोना की रफ्तार तेज हो रही है, लेकिन एक अच्छी खबर भी है। एक्टिव केस के मामले में भारत 6वें अब 7वें नंबर पर पहुंच गया है। एक्टिव केस का मतलब ऐसे मरीजों की संख्या जिनका इलाज चल रहा है। बीते 53 दिन में तीन बार ही एक्टिव केस बढ़े हैं, बाकी दिनों में इनमें गिरावट आई है।

देश में अब 4.78% मरीज ही ऐसे बचे हैं, जिनका इलाज चल रहा है। बाकी 93.74% लोग ठीक हो चुके हैं। कुल संक्रमितों में से 1.46% लोग जान गंवा चुके हैं। दुनिया के 10 सबसे संक्रमित देश में भारत का रिकवरी रेट सबसे बेहतर है।

अमेरिका में सबसे ज्यादा एक्टिव केस, रिकवरी में बेल्जियम-फ्रांस फेल
अमेरिका में अब सबसे ज्यादा 48.73 लाख एक्टिव केस हैं। दूसरे नंबर पर फ्रांस है, जहां 19.41 लाख मरीजों का इलाज चल रहा है। रिकवरी के मामले में देखें तो बेल्जियम और फ्रांस का रिकॉर्ड सबसे खराब है। बेल्जियम में 6.48% लोग, जबकि फ्रांस में अब तक 6.98% मरीज ठीक हुए हैं।

एक्टिव केस 4.37 लाख हुए, यह 22 जुलाई के बाद सबसे कम

देश में सोमवार को कोरोना के 37 हजार 441 नए मरीज मिले, 42 हजार 195 ठीक हुए और 481 की मौत हो गई। ऐसे में एक्टिव केस में 5 हजार 251 की कमी आई। यह बीते छह दिन में सबसे बड़ी गिरावट है। इससे पहले 17 नवंबर को 6 हजार 6854 एक्टिव केस कम हुए थे।

देश में अब तक 91.77 लाख केस आ चुके हैं। इनमें से 86.03 लाख मरीज ठीक हो चुके हैं और 1.34 लाख की मौत हो चुकी है। 4.37 लाख मरीजों का इलाज चल रहा है। एक्टिव केस का यह आंकड़ा 22 जुलाई के बाद सबसे कम है। ये आंकड़े covid19india.org से लिए गए हैं।

कोरोना अपडेट्स

  • मध्यप्रदेश सरकार ने कोरोना के बढ़ते मामलों को देखते हुए 4000 कैदियों की पैरोल 60 दिन और बढ़ाने का फैसला किया है। राज्य के गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने यह जानकारी मंगलवार को दी।
  • महाराष्ट्र में कोरोना की दूसरी लहर ने दस्तक दे दी है। सोमवार को लगातार तीसरे दिन एक्टिव केस में इजाफा हुआ है। राज्य सरकार की ओर से जारी आंकड़ों के मुताबिक, पिछले 24 घंटे के अंदर 4153 नए केस मिले। 3729 लोग ठीक हुए और 30 की मौत हो गई। 394 एक्टिव केस बढ़े। इससे पहले रविवार को 1639 और शनिवार को 1601 एक्टिव केस बढ़े थे।
  • हिमाचल प्रदेश में 24 नवंबर से 15 दिसंबर तक शिमला, मंडी, कुल्लू और कांगड़ा जिलों में रात आठ बजे से सुबह छह बजे तक कर्फ्यू लागू रहेगा। मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर की अध्यक्षता में हुई कैबिनेट की बैठक में ये फैसला लिया गया।
  • हिमाचल प्रदेश में 12 फरवरी तक एजुकेशनल इंस्टीट्यूट्स बंद रहेंगे। 31 दिसंबर तक कोरोना के कारण स्कूल बंद किए गए हैं। इसके बाद 1 जनवरी से 12 फरवरी तक सर्दी की छुट्टियां रहेंगी। आदेश के तहत राज्य में बिना मास्क बाहर निकलने वालों पर एक हजार रुपए जुर्माना लगाया जाएगा।
  • केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह और केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने सोमवार को राजधानी दिल्ली में मोबाइल वैन RT-PCR लैब की शुरुआत की। ICMR की यह मोबाइल वैन लैब कंटेनमेंट जोन के पास लगाई जाएगी। यहां कोई भी 499 रुपए देकर कोरोना की जांच करा सकेगा। इसकी रिपोर्ट भी महज 6 घंटे के अंदर आ जाएगी।

5 राज्यों का हाल

1. दिल्ली

राजधानी दिल्ली में सोमवार को 4454 लोग संक्रमित पाए गए। 7216 लोग रिकवर हुए और 121 की मौत हो गई। अब तक 5 लाख 34 हजार 317 लोग यहां संक्रमण की चपेट में आ चुके हैं। इनमें 37 हजार 329 मरीजों का इलाज चल रहा है, जबकि 4 लाख 88 हजार 476 लोग ठीक हो चुके हैं। संक्रमण से मरने वालों की संख्या अब 8512 हो गई है।

2. मध्यप्रदेश

राज्य में सोमवार को 1701 लोग संक्रमित पाए गए। 1120 लोग रिकवर हुए और 10 की मौत हो गई। अब तक 1 लाख 94 हजार 745 लोग संक्रमित हो चुके हैं। इनमें 12 हजार 336 मरीजों का इलाज चल रहा है, जबकि 1 लाख 79 हजार 237 लोग ठीक हो चुके हैं। संक्रमण से जान गंवाने वालों की संख्या अब 3172 हो गई है।

3. गुजरात

राज्य में सोमवार को 1487 लोग संक्रमित पाए गए। 1234 लोग रिकवर हुए और 17 की मौत हो गई। अब तक प्रदेश के 1 लाख 98 हजार 899 लोग संक्रमण की चपेट में आ चुके हैं। इनमें 13 हजार 736 मरीजों का इलाज चल रहा है, जबकि 1 लाख 81 हजार 287 लोग ठीक हो चुके हैं। संक्रमण से जान गंवाने वालों की संख्या अब 3876 हो गई है।

4. महाराष्ट्र

राज्य में सोमवार को 4153 नए मामले सामने आए। 3729 लोग रिकवर हुए और 30 की मौत हो गई। इसी के साथ संक्रमितों का आंकड़ा बढ़कर अब 17 लाख 84 हजार 361 हो गया है। इनमें 81 हजार 902 मरीजों का इलाज चल रहा है, जबकि 16 लाख 54 हजार 793 लोग ठीक हो चुके हैं। संक्रमण से जान गंवाने वालों की संख्या अब 46 हजार 653 हो गई है।

5. राजस्थान

राज्य में सोमवार को 3232 लोगों की कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आई। 2288 लोग रिकवर हुए और 18 की मौत हो गई। अब तक 2 लाख 47 हजार 168 लोग संक्रमण की चपेट में आ चुके हैं। इनमें 24 हजार 116 मरीजों का इलाज चल रहा है, जबकि 2 लाख 20 हजार 871 लोग ठीक हो चुके हैं। 2181 मरीजों की अब तक मौत हो चुकी है।



Source link

By Raj

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *