किसान आंदोलन में एक और सुसाइड: बठिंडा में 22 साल के किसान ने जहर खाकर जान दी, दो दिन पहले दिल्ली बॉर्डर से लौटा था


  • Hindi News
  • Local
  • Punjab
  • 22 year old Youth Consumed Poison In Rampura Phool Of Bathinda, Gurlabh Singh Returned From Delhi Front 2 Days Ago

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

बठिंडा6 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

बठिंडा में 22 साल के किसान गुरलाभ सिंह ने रविवार को जहर की गोलियां खाकर जान दी। वह छोटे स्तर का किसान था और उस पर 6 लाख रुपए का कर्ज भी था।

  • 16 नवंबर को संत राम सिंह ने किसान आंदोलन के समर्थन में गोली मारकर खुदकुशी कर ली थी
  • पिछले 25 दिन से जारी किसान आंदोलन के दौरान अब तक 20 से ज्यादा किसानों की मौत हुई

किसान आंदोलन में एक और सुसाइड की खबर सामने आई है। बठिंडा में 22 साल के किसान गुरलाभ सिंह ने रविवार को खुदकुशी कर ली। वह दो दिन पहले ही कृषि कानूनों के खिलाफ जारी आंदोलन से लौटा था। इससे पहले, 16 नवंबर को 65 साल के संत बाबा राम सिंह ने खुदकुशी कर ली थी। उन्होंने गुरुमुखी में लिखे सुसाइड नोट में कहा था कि यह जुल्म के खिलाफ एक आवाज है।

बठिंडा के कस्बा रामपुरा फूल के दयालपुरा में रहने वाला गुरलाभ 18 दिसंबर को ही अपने घर लौटा था। वह हरियाणा के बहादुरगढ़ से सटे दिल्ली के टीकरी बॉर्डर पर धरने में शामिल था। उसने रविवार को जहर की गोलियां खाकर जान दे दी। शुरुआती जांच में पता चला है कि गुरलाभ सिंह छोटे स्तर का किसान था और उस पर करीब 6 लाख रुपए का कर्ज था।

संत राम सिंह ने कोंडली बॉर्डर पर सुसाइड किया था

संत राम सिंह ने कोंडली बॉर्डर पर खुदकुशी की थी। लोग उन्हें पानीपत के पॉर्क अस्पताल लेकर गये थे। यहां डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया था। बाबा राम सिंह करनाल के सिंघरा गांव के रहने वाले थे। वे सिंघरा के ही गुरुद्वारा साहिब नानकसर के ग्रंथी थे। उनके अनुयाइयों की तादाद लाखों में बताई जा रही है।

संत राम सिंह ने किसान आंदोलन के समर्थन में 16 नवंबर को खुदकुशी की थी, सुसाइड नोट में उन्होंने लिखा था- यह जुल्म के खिलाफ आवाज है।

संत राम सिंह ने किसान आंदोलन के समर्थन में 16 नवंबर को खुदकुशी की थी, सुसाइड नोट में उन्होंने लिखा था- यह जुल्म के खिलाफ आवाज है।

आंदोलन के दौरान अब तक 20 से ज्यादा किसानों की मौत

कृषि कानूनों का विरोध कर रहे किसान दिल्ली बॉर्डर पर पिछले 25 दिन से आंदोलन कर रहे हैं। कड़ाके की ठंड में भी उनका प्रदर्शन जारी है। आंदोलन के दौरान अब तक अलग-अलग वजहों से 20 से ज्यादा किसानों की माैत हो चुकी है।



Source link

By Raj

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *