इतिहास में आज: उस मुगल बादशाह का जन्म, जिसने दुनिया के लिए प्रेम का प्रतीक बनाया


  • Hindi News
  • National
  • Today History: Aaj Ka Itihas India World 4 January Update | GSAT 14 Deployed Successfully, Mughal Emperor Shah Jahan Interesting Facts

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

13 दिन पहले

  • कॉपी लिंक

पांच जनवरी 1592 को जुमेरात (गुरुवार) के दिन जहांगीर की बेगम ने एक बेटे को जन्म दिया। जहांगीर ने अपने पिता अकबर से उसके बेटे का नाम रखने की इच्छा जताई। अकबर ने उसे खुर्रम बुलाया। फारसी में खुर्रम का मतलब होता है खुशी। पैदाइश के छठवें दिन खुर्रम को अकबर की बेगम रुकैया के हवाले कर दिया गया। क्योंकि बेगम रुकैया की कोई संतान नहीं थी, इसलिए उसने खुर्रम को गोद ले लिया।

अकबर खुर्रम के दादा थे। खुद अनपढ़ थे, लेकिन उन्होंने खुर्रम को तालीम दिलवाने में कोई कसर नहीं छोड़ी। साथ ही बढ़िया उस्तादों से उसे जंग के सबक भी सिखवाए। अकबर का खुर्रम से इतना लगाव हो गया था कि वो जंग में खुर्रम को भी साथ ले जाने लगा। यहीं से सफर शुरू हुआ खुर्रम के ‘शाहजहां’ बनने का।

फिर तख्त पर आया शाहजहां
1627 में जहांगीर की मौत हो गई। उसकी मौत के बाद 1628 में खुर्रम ने तख्त संभाला। तख्त संभालने के बाद खुर्रम का नाम शाहजहां हो गया। शाहजहां यानी दुनिया का राजा। शाहजहां ने उत्तर दिशा में कंधार तक अपना राज्य फैला दिया और दक्षिण भारत का ज्यादातर हिस्सा जीत लिया। शाहजहां ने 1658 तक राज किया और इन 30 सालों के राज में उसने काफी कुछ हासिल किया।

मुमताज से मोहब्बत
जहांगीर के दौर में वजीर थे एतमाउद्दौला। इन्हीं एतमाउद्दौला के बेटे थे अबु हसन आसफ खान। और इन्हीं अबु हसन आसफ खान की बेटी थीं अर्जुमंद बानो। अर्जुमंद बानो जिन्हें बाद में मुमताज के नाम से जाना गया। मुमताज शाहजहां की तीसरी पत्नी थी। उनसे पहले शाहजहां की दो और बेगम थीं।

अप्रैल 1607 में 14 साल की अर्जुमंद और 15 साल के खुर्रम की सगाई हुई। फिर 10 मई 1612 को सगाई के करीब 5 साल बाद दोनों का निकाह हुआ। अर्जुमंद से सगाई और निकाह के बीच खुर्रम ने दो और शादियां की थीं।

कहते हैं कि मुमताज और शाहजहां के बीच बहुत ज्यादा मोहब्बत थी। दोनों के 13 बच्चे हुए। निकाह से लेकर मौत तक मुमताज करीब हर साल गर्भवती रहीं। जून 1631 में 14वें बच्चे को जन्म देने के दौरान मुमताज की मौत हो गई। ऐसा बताया जाता है कि मुमताज की मौत के दो साल बाद तक शाहजहां ने भोग विलास के सारे सुख छोड़ दिए थे। उनके बाल-दाढ़ी बढ़ गए थे।

मुमताज की याद में बनाया ताजमहल
शाहजहां को वास्तुकार का राजा भी कहा जाता है। उसने अपने शासनकाल में बहुत सी इमारतें बनवाईं। इन्हीं इमारतों में से एक ताजमहल है। 1631 में जब मुमताज की मौत हो गई, तो शाहजहां ने उसके मकबरे के लिए ताजमहल बनवाया।

ताजमहल के चीफ आर्किटेक्ट थे उस्ताद ईशा खान, जो उस समय के मशहूर आर्किटेक्ट थे। ताजमहल बनाने में फारस और तुर्की के अलावा भारत के 20 हजार मजदूरों ने काम किया। एक हजार हाथी तो सिर्फ माल ढोने के लिए लगे थे।

ताजमहल को बनाने में 22 साल का वक्त लगा। 1631 में शुरू हुआ इसका निर्माण कार्य 1653 में पूरा हुआ। ताजमहल के पीछे शाहजहां काला ताज भी बनाना चाहते थे, लेकिन अपने बेटे औरंगजेब के साथ उनका टकराव शुरू हो गया। 22 जनवरी 1966 को आगरा में शाहजहां की मौत हो गई।

भारत और दुनिया में 5 जनवरी की महत्वपूर्ण घटनाएं :

  • 2014: भारतीय संचार उपग्रह जीसैट-14 को सफलतापूर्वक कक्षा में स्थापित किया गया।
  • 2009: नेशनल कांफ्रेंस के अध्यक्ष उमर अब्दुल्ला ने जम्मू-कश्मीर के मुख्यमंत्री पद की शपथ ली।
  • 2003: अल्जीरिया में विद्रोहियों के हमले में 43 सैनिक मरे।
  • 2000: अंतरराष्ट्रीय फुटबाल एवं सांख्यिकी महासंघ ने ‘पेले’ को शताब्दी का सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ी घोषित किया।
  • 1993: करीब 85,000 टन कच्चा तेल ले जा रहा एक तेल टैंकर शेटलैंड द्वीप के पास दुर्घटनाग्रस्त हो गया।
  • 1970: चीन के यून्नान प्रांत में रिक्टर पैमाने पर 7.7 तीव्रता वाले भूकंप से 15000 लोगों की मौत।
  • 1971: क्रिकेट इतिहास का पहला वनडे खेला गया था। मेलबर्न में खेले गए इस मैच में ऑस्ट्रेलिया ने इंग्लैंड को 5 विकेट से हराया था। इंग्लैंड ने टॉस हारकर पहले बल्लेबाजी करते हुए 190 रन बनाए थे। ऑस्ट्रेलिया ने 5 विकेट गंवाकर 191 रन बनाते हुए मैच जीत लिया था।
  • 1955: पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी का कलकत्ता (अब कोलकाता) में जन्म।
  • 1941: क्रिकेटर मंसूर अली खान पटौदी का भोपाल में जन्म।
  • 1934: भारतीय जनता पार्टी के नेता मुरली मनोहर जोशी का जन्म।
  • 1671: छत्रपति शिवाजी महाराज ने मुगलों से सल्हर क्षेत्र को अपने कब्जे में किया।
  • 1659: खाजवाह की लड़ाई में औरंगजेब ने शाह शुजा को हराया।



Source link

By Raj

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *