इकोनॉमी में तेजी लाने के लिए वित्त मंत्री ने की 4 बड़ी घोषणाएं, समझिए इन घोषणाओं से फेस्टिव सीजन में बाजार पर कैसे असर पड़ेगा?


  • Hindi News
  • Business
  • 4 Big Announcements Of The Finance Minister Nirmala Sitharaman Will Create Demand Of Over 1 Lakh Crore

नई दिल्ली4 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा चारों योजनाओं के तहत अर्थव्यवस्था में 1 लाख करोड़ रुपए से ज्यादा की अतिरिक्त मांग पैदा होगी

कोरोनावायरस महामारी के कारण सुस्ती से जूझ रही अर्थव्यवस्था में तेजी लाने के लिए वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने सोमवार को चार बड़ी घोषणाएं कीं। सरकार के मुताबिक, इन योजनाओं से अर्थव्यवस्था में 1 लाख करोड़ रुपए की एडिशनल डिमांड पैदा होगी। सीतारमण ने कहा कि इन चारों पैकेज से अगर डिमांड बढ़ती है, तो कोरोनावायरस महामारी से प्रभावित अर्थव्यवस्था को इसका लाभ मिलेगा और कारोबार को जारी रखने के लिए बाजार में मांग का इंतजार करने वालों को राहत मिलेगी। आइए समझते हैं कि इन घोषणाओं के तहत किन्हें क्या-क्या मिलेगा और अर्थव्यवस्था में कैसे तेजी आएगी…

1.05 लाख करोड़ रुपए की मांग बढ़ाने वाली 4 चार घोषणाएं

1. उपभोक्ता मांग बढ़ाने के लिए 68,000 करोड़ रुपए का पैकेज

  • केंद्रीय कर्मचारियों 10,000 रुपए का वन टाइम स्पेशल फेस्टिवल लोन : बाजार में 12,000 करोड़ रुपए की मांग बढ़ सकती है।
  • एलटीसी कैश वाउचर स्कीम के तहत 12 फीसदी या इससे ज्यादा टैक्स वाले किसी भी सामान की खरीदारी और टैक्स में भी छूट: 56,000 करोड़ रुपए की मांग बढ़ सकती है।

2. कैपिटल एक्सपेंडीचर बढ़ाने के लिए 37,000 करोड़ रुपए का पैकेज

  • राज्य सरकारों को अगले 50 साल के लिए 12,000 करोड़ रुपए का ब्याज मुक्त लोन
  • केंद्र सरकार के कैपेक्स बजट में 25,000 करोड़ रुपए की बढ़ोतरी

एक्सपर्ट कोट : नीति आयोग के वाइस-चेयरमैन राजीव कुमार ने कहा कि त्योहारों से पहले राहत पैकेज के लिए यह बिल्कुल सही समय है, जब आर्थिक रिकवरी के मजबूत संकेत दिख रहे हैं। यह पैकेज जितनी रकम का है जमीन पर उसका असर उसके मुकाबले कई गुना ज्यादा होगा।

वन टाइम स्पेशल फेस्टिवल लोन

क्या मिलेगा: केंद्र सरकार के सभी कर्मचारियों को 10,000 रुपए का वन टाइम ब्याज मुक्त लोन।

कितने लोगों को मिलेगा: एक करोड़ केंद्रीय कर्मचारियों को लाभ मिलेगा। राज्य सरकारें लागू करेंगी, तो और भी ज्यादा लोग फायदे में रहेंगे।

कैसे मिलेगा: प्रीपेड रूपे कार्ड के रूप में दिया जाएगा।

लोन की कैसे होगी वापसी: 10 किस्तों में होगी लोन की वापसी।

क्या है शर्त: 10,000 रुपए 31 मार्च 2021 तक खर्च करने होंगे। इस रकम से कोई भी सामान किसी भी दुकान से खरीदा जा सकता है।

इकोनॉमी को कितना लाभ मिलेगा: बाजार में कुल 12,000 करोड़ रुपए की मांग बढ़ सकती है। केंद्रीय कर्मचारियों पर कुल 4,000 करोड़ रुपए खर्च होंगे। यदि राज्य सरकारें भी योजना लागू करेंगी, तो 8,000 करोड़ रुपए की अतिरिक्त मांग पैदा होगी।

लीव ट्रैवल कंपंसेशन (एलटीसी) कैश वाउचर स्कीम

क्या है योजना: कोरोनावायरस महामारी के कारण जो लोग यात्रा नहीं करना चाहते हैं, वे एलटीसी का पैसा ले सकेंगे। इस रकम से अपनी पसंद के सामान खरीद सकेंगे। इसके तहत लीव इनकैशमेंट भी मिलेगा और यात्रा अलाउंस के तीन गुने तक की खरीदारी कर सकेंगे।

पहली शर्त: वे सामान ही खरीदे जा सकेंगे, जिन पर 12 फीसदी या ज्यादा की जीएसटी लगती है।

दूसरी शर्त: 31 मार्च 2021 से पहले करनी होगी खरीदारी।

तीसरी शर्त: सिर्फ डिजिटल मोड में ही करनी होगी खरीदारी।

चौथी शर्त: जीएसटी रजिस्टर्ड विक्रेता से ही कर सकेंगे खरीदारी।

5वीं शर्त: खरीदारी का जीएसटी एनवॉयस लेना जरूरी होगा।

क्या है लाभ: खरीदारी पर टैक्स नहीं लगेगा।

कैसे लेंगे लाभ: कंपंसेशन लेने के लिए जीएसटी एनवॉयस दिखाना होगा।

क्यों है फायदेमंद: 2021 में खत्म होने वाले 4 साल के ब्लॉक में यदि एलटीसी का फायदा नहीं उठाया जाता है, तो यह लैप्स कर जाएगा। कैश वाउचर स्कीम से सरकारी कर्मचारी एलटीसी का लाभ उठाकर अपने परिवार के लिए सामान खरीदने को प्रोत्साहित होंगे।

किन्हें मिलेगा फायदा: केंद्रीय कर्मचारी, सरकारी बैंक के कर्मचारी और केंद्र सरकार की कंपनियों के कर्मचारी।

इकोनॉमी को कितना लाभ मिलेगा: अर्थव्यवस्था में करीब 56,000 करोड़ रुपए की डिमांड पैदा हो सकती है। केंद्रीय कर्मचारियों पर 5,675 करोड़ रुपए खर्च होंगे। सरकारी बैंकों (पीएसबी) और सरकारी कंपनियों (पीएसई) के कर्मचारियों पर 1,900 करोड़ रुपए खर्च होंगे। वित्त मंत्री ने कहा कि केंद्र सरकार, पीएसबी और पीएसई की ओर से इस योजना के तहत इकोनॉमी में कुल करीब 19,000 करोड़ रुपए की मांग पैदा होगी। राज्य सरकारें और प्राइवेट सेक्टर भी कर्मचारियों को इस योजना को लागू कर सकते हैं। राज्य सरकारों के कर्मचारियों की ओर से इकोनॉमी में 9,000 करोड़ रुपए की मांग पैदा हो सकती है। प्राइवेट सेक्टर की ओर से इकोनॉमी में कम से कम 28,000 करोड़ रुपए की मांग पैदा हो सकती है।

एक्सपर्ट कोर्ट : फेडरेशन ऑफ एसोसिएशंस इन इंडियन टूरिज्म एंड हॉस्पिटैलिटी ने कहा कि एलटीसी पैकेज से उपभोक्ता बाजार में खरीदारी बढ़ेगी लेकिन ट्रैवल बाजार में खर्च घट जाएगा। इस पैकेज से टूरिज्म ट्रैवल और हॉस्पिटैलिटी उद्योग में भरोसा घटेगा, जो अनलॉक के बाद वापस अपने पांव पर खड़ा होने की कोशिश कर रहा है। एलटीसी 4 साल के ब्लॉक की योजना है, इसलिए 2021 में एलटीसी ब्लॉक खत्म होने के बाद अगले वर्षों में भी ट्रैवल की डिमांड प्रभावित होगी। रिटेलर्स एसोसिएशन ऑफ इंडिया के सीईओ कुमार राजगोपालन ने कहा महामारी के कारण हुए नुकसान के बाद रिटेल उद्योग ने फेस्टिव शॉपिंग से काफी उम्मीद लगा रखी थी। वित्त मंत्री के पैकेज से अर्थव्यवस्था में मांग बढ़ेगी। एलटीसी कैश वाउचर योजना से अपैरल्स, कंप्यूटर्स, कंज्यूमर ड्यूरेबल्स, स्मार्टफोन, होम अप्लायंसेज, फर्नीचर और होम फर्नीशिंग्स, ब्यूटी एंड पर्सनल केयर उत्पादों की बिक्री बढ़ेगी।

राज्य सरकारों को कैपेक्स बढ़ाने के लिए ब्याज मुक्त लोन

क्या है घोषणा: राज्यों को 12,000 करोड़ रुपए का ब्याज मुक्त लोन मिलेगा।

कब तक चुकाने की सुविधा: 50 साल में।

किसे क्या मिलेगा: पूर्वोत्तर के 8 राज्यों में से हर एक को 200 करोड़ रुपए। उत्तराखंड और हिमाचल प्रदेश को 450 करोड़ रुपए। वित्त आयोग के डिवॉल्यूश शेयर के मुताबिक, बाकी राज्यों को कुल 7,500 करोड़ रुपए। आत्मनिर्भर पैकेज में बताए गए 4 में से 3 सुधारों को लागू करने वाले राज्यों को 2,000 करोड़ रुपए अतिरिक्त दिए जाएंगे।

शर्त: 31 मार्च 2021 तक खर्च करना होगा लोन।

समय सीमा: शुरू में 50 फीसदी लोन दिए जाएंगे। इसका उपयोग होने के बाद बची हुई 50 फीसदी राशि भी दे दी जाएगी।

केंद्र सरकार के कैपेक्स बजट में 25,000 करोड़ रुपए की बढ़ोतरी

क्या मिलेगा: केंद्र सरकार के 4.13 लाख करोड़ रुपए के कैपिटल एक्सपेंडीचर बजट में 25,000 करोड़ रुपए की बढ़ोतरी।

कहां खर्च होगी यह रकम: सड़क, रक्षा, पानी की सप्लाई, शहरी विकास और देश में बने कैपिटल इक्विपमेंट पर खर्च होगी यह रकम।

क्या होगा फायदा: आर्थिक विकास होगा। डोमेस्टिक मैन्यूफैक्चरिंग को मिलेगा बढ़ावा।



Source link

By Raj

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *