टॉप न्यूज़


  • Hindi News
  • National
  • Anna Hazare Hunger Strike Update | Social Activist Anna Hazare Hunger Strike Warning To Narendra Modi Govt Over Farmers Protest

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

पुणेएक महीने पहले

सामाजिक कार्यकर्ता अन्ना हजारे ने 8 दिसंबर को नए कृषि कानूनों के खिलाफ किसानों के भारत बंद का व्रत रखकर समर्थन किया था। (फाइल फोटो)

सोशल एक्टिविस्ट अन्ना हजारे ने केंद्र सरकार को एक बार फिर आंदोलन करने की चेतावनी दी है। उन्होंने कहा कि अगर किसानों से जुड़ी उनकी मांगें जनवरी तक पूरी नहीं हुईं, तो वह सरकार के खिलाफ आंदोलन शुरू कर देंगे। उन्होंने यह भी कहा कि यह उनका आखिरी आंदोलन भी हो सकता है।

महाराष्ट्र के अहमदनगर में सिद्धी गांव में रिपोर्टर्स से बात करते हुए उन्होंने कहा कि मैं किसानों के लिए पिछले 3 साल से आवाज उठा रहा हूं, लेकिन सरकार ने अब तक इसके समाधान के लिए कुछ भी नहीं किया।

मुझे सरकार पर भरोसा नहीं रहा : अन्ना
उन्होंने कहा कि सरकार सिर्फ कोरे वादे ही करती है, इसलिए अब मुझे सरकार पर भरोसा नहीं कर सकता। देखते हैं कि सरकार मेरी मांगों पर क्या फैसला करती है। सरकार ने मुझसे एक महीने का समय मांगा था, इसलिए मैंने उन्हें जनवरी तक का समय दिया है। अगर मेरी मांगे पूरी नहीं होती, तो मैं भूख हड़ताल शुरू करूंगा। यह मेरा आखिरी आंदोलन हो सकता है।

इन मांगों पर अड़े अन्ना
14 दिसंबर को अन्ना ने सरकार को खत लिखा था। केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर को लिखे खत में उन्होंने कहा था कि अगर एमएस स्वामीनाथन कमेटी की सिफारश और कमिशन फॉर एग्रीकल्चर कॉस्ट्स एंड प्राइजेज को स्वतंत्रता की उनकी मांग को नहीं माना गया, तो वे सरकार के खिलाफ आंदोलन शुरू कर देंगे।

बॉर्डर पर बैठे किसानों के लिए व्रत रखा था
अन्ना ने 8 दिसंबर को दिल्ली बॉर्डर पर कृषि कानूनों के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे किसानों के भारत बंद समर्थन में व्रत रखा था। इसके बाद सीनियर भाजपा लीडर और महाराष्ट्र के पूर्व विधानसभा अध्यक्ष हरिभाऊ बागड़े उनके पास पहुंचे थे और उन्हें तीनों कृषि कानूनों के बारे में बताया था।



Source link

By Raj

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *