10 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक

90 के दशक में फरेब और मेहंदी जैसी फिल्मों के एक्टर रहे फराज खान इन दिनों काफी बुरे दौर से गुजर रहे हैं। ब्रेन इंफेक्शन के चलते 46 साल के फराज का इलाज बेंगलुरु के विक्रम अस्पताल में चल रहा है। फराज वेंटिलेटर पर हैं। वह जिंदगी और मौत की जंग लड़ रहे हैं।

पैसों की तंगी के चलते उनके इलाज में परेशानी आ रही थी जिसके बाद उनके परिवार के सदस्यों ने एक फंडरेजिंग वेबसाइट पर मदद की गुहार लगाई। परिवार को फराज के इलाज के लिए 25 लाख रुपए की जरूरत है।

फंडरेजिंग वेबसाइट पर मदद मांगते ही कई लोग परिवार की मदद के लिए आगे आए हैं। अस्पताल में मौत से जूझ रहे फराज के इलाज के लिए फैन्स ने अब तक तकरीबन 15 लाख रुपए की मदद कर दी है। इस बात की जानकारी एक्ट्रेस पूजा भट्ट ने सोशल मीडिया पर दी।

पूजा ने लिखा, ”उन सभी का आभार जिन्होंने फराज खान के मेडिकल ट्रीटमेंट के लिए परिवार को अब तक 25 लाख रुपए में से 14,46,048 तक की मदद कर दी है। इसे आगे बढ़ाते रहिए।”

इससे पहले भी पूजा ने फराज के इलाज में आर्थिक मदद करने की गुहार लगाई थी। उन्होंने लिखा था, ”प्लीज इस पोस्ट को शेयर करें और हो सके तो मदद करें। मैं कर रही हूं। अगर आप सब भी करेंगे तो मैं आपकी आभारी रहूंगी।” देखते ही देखते ये पोस्ट वायरल हो गई थी और फिर सुपरस्टार सलमान खान भी मदद के लिए आगे आए थे। उन्होंने फराज के मेडिकल बिल्स चुकाने के लिए परिवार को आर्थिक मदद दी थी।

मुंबई मिरर से बातचीत में फराज के छोटे भाई फहमान ने कहा था, ”हम ताउम्र सलमान खान के आभारी रहेंगे। भगवान उन्हें खुश रखे और उन्हें लंबी उम्र दें।” फराज के इलाज के लिए आलिया भट्ट की मां सोनी राजदान ने भी पैसे दिए हैं।

एक साल से फराज की तबियत खराब

फंडरेजिंग वेबसाइट पर फराज की बीमारी को लेकर जानकारी दी गई है और बताया गया है कि उनका स्वास्थ्य पिछले एक साल से खराब चल रहा है। फराज को कफ की शिकायत थी जिसके बाद उन्हें सीने में इंफेक्शन हो गया। डॉक्टर ने उन्हें अस्पताल में भर्ती होने की सलाह दी लेकिन तब तक इंफेक्शन बहुत ज्यादा बढ़ गया था। सीने से होता हुआ हर्पीस इंफेक्शन फराज के ब्रेन तक पहुंच गया और तब से उनकी स्थिति बेहद गंभीर बनी हुई है।

कैरेक्टर आर्टिस्ट युसूफ खान के बेटे हैं फराज

फराज खान गुजरे जमाने के कैरेक्टर आर्टिस्ट यूसुफ खान (‘अमर अकबर एंथोनी’ फेम जेबिसको) के बेटे हैं। उन्होंने रानी मुखर्जी स्टारर ‘मेहंदी’ (1998) में लीड रोल किया था। इसके अलावा, उन्होंने ‘फरेब’ (1996), ‘पृथ्वी’ (1997) और ‘दिल ने फिर याद किया’ (2001) जैसी फिल्मों में काम किया है।





Source link

By Raj

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *