10 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक

लॉकडाउन में हजारों प्रवासी मजदूरों के लिए बसों का अरेंजमेंट करने वाले सोनू सूद अब लड़कियों को साइकिल बांटने जा रहे हैं। दरअसल, संतोष चौहान नाम के एक ट्विटर यूजर ने सोनू का ध्यान उत्तर प्रदेश के मिर्जापुर और सोनभद्र जिले की ऐसी हजारों लड़कियों की ओर केंद्रित किया, जिन्हें 5वीं कक्षा के बाद मजबूरन पढ़ाई छोड़नी पड़ती है। क्योंकि लड़कियों को आगे की पढ़ाई के लिए पैदल 8-15 किमी. का जंगल पार कर जाना होता है, जो काफी असुरक्षित है। ट्वीट देखने के बाद सोनू ने बिना देरी किए आश्वासन दिया कि वे गांव की हर लड़की तक साइकिल पहुंचा रहे हैं।

संतोष चौहान का ट्वीट और सोनू सूद का रिप्लाई

सोनू की मदद से बच्ची की जान बची

शनिवार सुबह पीटर फर्नांडीज नाम के ट्विटर यूजर ने एक बच्ची की फोटो साझा कर सोनू सूद को बताया था कि उनकी मदद से बच्ची एक दम ठीक हो गई है। जवाब में सोनू ने लिखा था कि बच्ची की मुस्कान ने उनके दिन की शुरुआत कमाल की कर दी।

दरअसल, मुंबई की रहने वाली 10 साल की इस बच्ची की रीढ़ की हड्डी में क्रैक था और गरीब परिवार की होने की वजह से उसका इलाज नहीं हो पा रहा था। जब सोनू को इस बात की जानकारी मिली तो उन्होंने आर्थिक मदद पहुंचा दी। 28 अक्टूबर को बच्ची की सर्जरी हुई थी।

सोनू का संदेश- दिवाली पर किसी का चूल्हा जलाओ

एक ट्विटर यूजर ने सोनू सूद को भैया कहते हुए उनसे पटाखे की मांग की। जवाब में अभिनेता ने निवेदन करते हुए लिखा, “इस बार सब दिवाली पटाखे जलाकर नहीं, किसी का चूल्हा जलाकर बनाओ।”

मसीहा पर उठे सवाल:यूजर ने सोनू सूद की मदद को बताया पीआर स्टंट, सुबूत शेयर कर सोनू बोले- ये इरादों की बात है, लेकिन तुम नहीं समझोगे

बायोपिक पर राय:सोनू सूद अपनी बायोपिक में खुद ही निभाना चाहते हैं अपना रोल, सोनू ने कहा- लेकिन अभी बहुत जल्दबाजी होगी





Source link

By Raj

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *