12 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक

करीब महीने भर बाद रिया चक्रवर्ती 7 अक्टूबर को भायखला जेल से रिहा हुईं हैं। लेकिन रिहाई के समय रिया की गाड़ी के कांच न्यूजपेपर्स से कवर कर दिए गए थे। जिससे उनकी कोई भी फोटो नहीं मिल सकी थी। गुरुवार को रिया हाईकोर्ट के आदेश पर सांताक्रूज पुलिस स्टेशन में हाजिरी देने पहुंचीं। जहां करीब 30 दिन बाद उनकी फोटो सामने आई।

रिया को जमानत की शर्तों के आधार पर 10 दिन तक नजदीकी पुलिस स्टेशन में हाजिरी देने का आदेश दिया गया है।

रिया की रिहाई की शर्तें

रिया चक्रवर्ती को करीब 9 शर्तों के आधार पर रिहाई दी गई है। जिनमें उन्हें हर महीने में एक बार एनसीबी के दफ्तर में हाजिरी भी देनी है। यह सिलसिला अगले 6 महीने तक चलेगा। वे केवल पुलिस की अनुमति के बाद ही शहर छोड़ सकती हैं। इतना ही पुलिस के पास उनका पासपोर्ट रहेगा। कोर्ट की अनुमति के बिना विदेश यात्रा नहीं कर सकेंगी। इनके अलावा इस केस से जुड़े किसी भी गवाह से मिलने की अनुमति रिया को नहीं होगी।

अदालत की हर सुनवाई पर रिया को हर हाल में मौजूद रहना होगा।वे किसी भी तरह से जांच प्रक्रिया को प्रभावित करने का प्रयास नहीं करेंगी।

जेल में योग सिखाती थीं रिया

रिया के वकील सतीश मानशिंदे ने एक इंटरव्यू में बताया है कि जेल में रिया ने अपने दिन कैसे काटे। मानशिंदे ने एनडीटीवी को दिए इंटरव्यू में कहा कि रिया ने जेल में रहने के दौरान खुद को पॉजिटिव रखने की भरपूर कोशिश की। उन्होंने कहा, ”मैं पर्सनली कई सालों बाद अपने किसी क्लाइंट को देखने के लिए जेल पहुंचा था। मैं देखना चाहता था कि वो किस अवस्था में है। मैंने देखा कि वो ठीक थीं। उन्होंने जेल में अपना ख्याल रखा। वह जेल में बाकी कैदियों को योग सिखाकर अपना समय काटती थीं।



Source link

By Raj

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *