Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

4 घंटे पहलेलेखक: किरण जैन

सिंगर शान जल्द ही रियलिटी शो ‘इंडियन प्रो म्यूज़िक लीग’ में बतौर कप्तान नज़र आएंगे। हाल ही में दैनिक भास्कर से बातचीत के दौरान, शान ने कई मुद्दों पर बात की।

उन्होंने कहा, ‘सोशल मीडिया एक अलग दुनिया है। ये वायरल दुनिया 12 से 24 साल के लोगों की है। कई लोग मुझसे कहते हैं कि अब सिंगर्स पहले जैसा नहीं गाते। सच्चाई ये हैं कि इन दिनों, आपका गाना 15 साल की लड़की या लड़का जज कर रहे हैं। ऐसे में सिंगर को उनकी सोच, समझ, एंटरटेनमेंट और मैच्योरिटी को ध्यान में रखकर गाना पड़ता हैं। मैं ज़बरदस्ती अगर उस उम्र के ब्रैकेट में गाऊंगा तो लोग मुझे एक्सेप्ट नहीं करेंगे। मैं अब 15 साल के बच्चे को मेरी आवाज़ पसंद करने पर मज़बूर नहीं कर सकता।’

बतौर कंपोजर काफी एक्सपेरिमेंट कर रहा हूं

इंडिपेंडेंट एल्बम का ट्रेंड फिर से शुरू हो गया हैं और मेरे लिए मानो ये दौर फुल-सर्किल जैसा है। मैंने अपना करियर बतौर इंडी-पॉप आर्टिस्ट शुरू किया था। बॉलीवुड में आने के बाद भी मैंने कुछ एल्बम रिलीज किए लेकिन फिर दौर बदल गया। अब जब फिर से टेलीविज़न और रेडियो का इंडी-पॉप का साथ मिला तो मैं भी इस ट्रेंड में शामिल हो गया। मानो लौट के बुद्धू घर को आए। मैं बतौर कंपोजर काफी एक्सपेरिमेंट कर रहा हूं।

बॉलीवुड में अब मौके नहीं मिल रहे हैं

बॉलीवुड में अब गाने के लिए पहले जैसे मौके नहीं मिल रहे है। अब कई नए सिंगर्स आ चुके हैं जो काफी अच्छा कर रहे है। सिंगर्स के साथ हमेशा ऐसा होता है कि एक्टर्स, कम्पोज़र्स, प्रोडक्शन हाउस को लगता है कि सिंगर का स्टाइल पुराना हो चुका है जो कि गलत है। इसमें कोई सच्चाई नहीं। सिंगर को भी खुद को अपडेट रखना होगा। मैंने हमेशा कोशिश की हैं कि खुद को बदलता रहूं और अलग-अलग जॉनर के गाने गाकर लोगों को एंटरटेन करूं।

खबरें और भी हैं…



Source link

By Raj

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *