Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

24 दिन पहले

  • कॉपी लिंक

इंडस्ट्री में जारी बायोपिक के चलन में अब तक कई बेहतरीन एक्टर्स की जिंदगी के उतार चढ़ाव भी दिखाए जा चुके हैं। जहां एक तरह लाइमलाइट में रहने वाले सितारों के बारे में जानने की फैंस को उत्सुकता रहती है वहीं इन फिल्मों ने एक्टर्स के संघर्ष, करियर और बनते बिगड़ते रिश्तों को गहराई से दिखाया गया है। आइए जानते हैं कौन सी फिल्में दिखाती हैं सेलेब्स की अनसुनी कहानियां-

संजू

साल 2018 में आई फिल्म संजू बॉलीवुड एक्टर संजय दत्त की असल कहानी पर आधारित है। फिल्म में दिखाया गया है कि कैसे संजय दत्त करियर की शुरुआत में ही ड्रग एडिक्ट हो गए थे और कैसे उनका नाम आतंकवादियों के साथ जुड़ गया था। संजय दत्त ने जिंदगी में चल रहीं परेशानियों के चलते सुसाइड करने का भी प्रयास किया था जिसे फिल्म में दिखाया गया है। ये फिल्म संजय की बिगड़ी छवि सुधारने में भी काफी फायदेमंद साबित हुई। राजकुमार हीरानी के निर्देशन में बनी इस फिल्म ने बॉक्स ऑफिस में जबरदस्त प्रदर्शन किया।

द डर्टी पिक्चर

साल 2011 में रिलीज हुई फिल्म द डर्टी पिक्चर साउथ सिनेमा की मशहूर एक्ट्रेस सिल्क स्मिता की असल कहानी दर्शाती है। सिल्क स्मिता का असली नाम रेशमा था। फिल्म में विद्या बालन ने एक्ट्रेस का बेहतरीन किरदार निभाया। नसीरुद्दीन शाह, इमरान हाशमी और तुषार कपूर भी इस फिल्म में अहम किरदारों में थे। फिल्म को स्मिता की बर्थ डेट 2 दिसम्बर को ही रिलीज किया था हालांकि मेकर्स का कहना है कि ये फिल्म सिर्फ उन्हीं की जिंदगी पर आधारित नहीं है। महज 18 करोड़ रुपए की लागत में बनी फिल्म ने 117 करोड़ रुपए का बॉक्स ऑफिस कलेक्शन किया था। फिल्म में दिखाया गया है कि कैसे सिल्क ने ग्लैमर वर्ल्ड में कदम रखा और कैसे उन्हें अपने करियर के लिए समझौता करना पड़ा।

महन्ती

तेलुगू फिल्म महन्ती साउथ सिनेमा की लिजेंड्री एक्ट्रेस सावित्री की कहानी है। कई लोगों की नजर में सावित्री इंडियन सिनेमा की पहली फीमेल सुपरस्टार थीं। नाग अश्विन के निर्देशन में बनी फिल्म में कीर्ति सुरेश ने सावित्री और दलकेर सलमान ने जेमिनी का किरदार निभाया था। तमिल और तेलुगू सिनेमा में बतौर डांसर काम करने के बाद सावित्री को कई लोगों की सराहना मिली और उनके एक्टिंग करियर की शुरुआत हुई। एक्ट्रेस को पहली बार 1952 में तमिल फिल्म पेल्लू चेसी चुड़ू से पहचान मिली थी। चिवारकु मिवीलेडी फिल्म के लिए एक्ट्रेस को राष्ट्रपति पुरस्कार से भी नवाजा गया था। 19 महीने कोमा में रहने के बाद एक्ट्रेस ने महज 45 साल की उम्र में 1981 में दम तोड़ दिया था।

एक अलबेला

साल 2016 की फिल्म एक अलबेला पॉपुलर एक्टर भगवान दादा की कहानी पर आधारित है। फिल्म भगवान दादा के आम आदमी से भारतीय सिनेमा का जाना माना चेहरा बनने तक की कहानी दिखाती है। जहां फिल्म में मंगेश देसाई ने भगवान दादा की किरदार निभाया वहीं विद्या बालन ने गीता बाली का रोल अदा किया है।

इरूवर

मणि रत्नम के निर्देशन में बनी फिल्म इरूवर साल 1997 में रिलीज हुई थी जो साउथ सिनेमा के पॉपुलर एक्टर और तमिलनाडु के पूर्व मुख्य मंत्री एम जी रामा चंद्रन (एमजीआर) और एम करुणानिधि की जिंदगी पर आधारित है। फिल्म में सिनेमा जगत और राजनीति के बीच का तालमेल है। इसमें मोहनलाल, प्रकाश राज, ऐश्वर्या राय और तबू जैसे कई सितारे अहम किरदारों में थे।

भूमिका

श्याम बेनेगल के निर्देशन में बनी फिल्म भूमिका साल 1977 में रिलीज हुई थी जिसे भारतीय सिनेमा की स्टेज एक्ट्रेस हंसा वाडकर की कहानी पर बनाया गया है। फिल्म में स्मिता पाटिल ने हंसा का किरदार निभाया है। इस फिल्म ने दो नेशनल अवॉर्ड और फिल्मफेयर अवॉर्ड जीते।



Source link

By Raj

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *