• Hindi News
  • Business
  • LIC IPO News: Life Insurance Corporation Initial Public Offering Valuation To Be Completed In 6 Months

मुंबईएक मिनट पहलेलेखक: अजीत सिंह

  • कॉपी लिंक
  • LIC का आईपीओ देश का सबसे बड़ा आईपीओ होगा जिससे 80 हजार करोड़ रुपए जुटाने की उम्मीद है
  • LIC सालाना आधार पर 4 लाख करोड़ रुपए से ज्यादा का निवेश करती है। यह निवेश डेट और इक्विटी बाजार में होता है

देश की सबसे बड़ी बीमा कंपनी और इन्वेस्टर भारतीय जीवन बीमा निगम (LIC) का IPO इस साल नहीं आएगा। यह अगले फाइनेंशियल ईयर की दूसरी या तीसरी तिमाही तक आ सकता है। इसका वैल्यूएशन शुरू हो चुका है, जो अगले 6 महीने में पूरा किया जाएगा। यह देश का सबसे बड़ा IPO होगा। इसके जरिए सरकार 80 हजार करोड़ रुपए पहले चरण में जुटाएगी।

तीन सालों में घटानी होगी हिस्सेदारी

सेबी के नियमों के मुताबिक, IPO आने के बाद तीन सालों में सरकार को इसमें हिस्सेदारी घटाकर 75% करनी होगी। इस तरह से इसमें तीन सालों में 25% की हिस्सेदारी बिकेगी। इससे सरकार को 2 लाख करोड़ रुपए मिल सकते हैं।

LIC की लिस्टिंग से पॉलिसी होल्डर्स के लिए ट्रांसपरेंसी बढ़ेगी

इंश्योरेंस एक्सपर्ट्स के मुताबिक, LIC की लिस्टिंग से पॉलिसी होल्डर्स को सीधा फायदा नहीं होगा। इनडायरेक्ट फायदा यह होगा कि फंड मैनेजमेंट बेहतर होगा। मैनेजमेंट में बेहतरीन लोग होंगे, क्योंकि लिस्टिंग के बाद बोर्ड में LIC खुद लोगों को रख सकेगी। अभी इन लोगों को सरकार तय करती है। कॉर्पोरेट गवर्नेंस बढ़ेगा। ट्रांसपरेंसी बढ़ेगी। साथ ही जो भी बाजार के रेगुलेटर्स के फायदे या नियम हैं, वे लागू होंगे। सबसे बड़ा फायदा यह होगा कि कंपनी को हर बात का खुलासा करना होगा। इससे पॉलिसी होल्डर्स को ज्यादा जानकारी मिल पाएगी।

LIC का कारोबार

अगर LIC के कारोबार पर हम नजर डालें तो इसकी सालाना रिपोर्ट में काफी बड़ा आंकड़ा है। LIC 18 हजार करोड़ से लेकर 25 हजार करोड़ रुपए के प्रॉफिट में रही है। इसी तरह 2018-19 में 2.5 लाख करोड़ डेट में और 68 हजार करोड़ इक्विटी में निवेश किया गया था। 23 हजार करोड़ का फायदा कमाया था। 2019-20 में 3.75 लाख करोड़ डेट में और 60 हजार करोड़ इक्विटी में निवेश किया गया था।18 हजार करोड़ का फायदा कमाया था।

2020-21 के पहले 6 महीनों में डेट में 2.10 लाख करोड़ और इक्विटी में 50 हजार करोड़ का निवेश हुआ है। इन 6 महीनों के दौरान एलआईसी ने 18 हजार करोड़ का फायदा कमाया है।

LIC की इनकम 5 लाख करोड़ से ज्यादा

LIC का कुल प्रीमियम 2016-17 में 3.04 लाख करोड़ रुपए था, जबकि इनकम 4.92 लाख करोड़ रुपए थी। 2017-18 में कुल प्रीमियम 3.18 लाख करोड़ और इनकम 5.23 लाख करोड़ रुपए थी। 2018-19 में इसका कुल प्रीमियम 3.37 लाख करोड़ और इनकम 5.60 लाख करोड़ रुपए थी। LIC ने 2017-18 में एजेंट को 19,311 करोड़ रुपए, जबकि 2018-19 में 18,227 करोड़ रुपए कमीशन दिया था। इसकी 32 करोड़ पॉलिसीज हैं।

इसी दौरान इसका कुल निवेश 29.84 लाख करोड़ रुपए रहा है। इसमें से सिक्योरिटीज में 28.32 लाख करोड़ रुपए, जबकि अन्य निवेश 34,849 करोड़ रुपए रहा है। इसने भारत के बाहर भी 3,906 करोड़ रुपए का निवेश किया है।

ये भी पढ़ें- मेगा IPO पर असर:इस वित्त वर्ष में नहीं आएगा LIC का IPO, एक्ट में बदलाव और तमाम दिक्कतें हैं कारण

LIC की लिस्टिंग का असर

LIC की लिस्टिंग से वैश्विक इक्विटी बाजारों में देश के स्टॉक बाजार का बड़े पैमाने पर वेटेज बदल सकता है। सरकार इस IPO में बड़े पैमाने पर रिटेल निवेशकों की भागीदारी देख सकती है। यह कर्मचारियों और यूनिट होल्डर्स को शेयर जारी करेगी। यह शेयर डिस्काउंट पर होगा और इसकी वजह से नए निवेशक बाजार में आएंगे। इससे अनुमान है कि 20 करोड़ नए डीमैट खाते खुल सकते हैं। इसके पास सवा लाख कर्मचारी हैं। इसके आईपीओ से कम से कम 4 करोड़ रिटेल डीमैट खाते बढ़ सकते हैं।

रिटेल को मिल सकता है 25 हजार करोड़ का हिस्सा

अब तक के सबसे बड़े IPO में अगर हम कोल इंडिया के IPO को देखें तो इसमें रिटेल का हिस्सा 2.1 गुना था। यह 15 हजार करोड़ का IPO था। LIC 80 हजार करोड़ रुपए जुटाएगी और इसे 35% रिटेल का हिस्सा मानें तो करीबन 25 से 28 हजार करोड़ रिटेल के हिस्से में जाएगा। यह कोल इंडिया के IPO के रिटेल हिस्से से ढाई गुना ज्यादा होगा। ब्रांड फाइनेंस की रिपोर्ट के मुताबिक, दुनिया भर में जीवन बीमा कंपनियों में LIC 10 वें नंबर पर है। पहले नंबर पर पोस्टे इटैलियन है।



Source link

By Raj

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *