• Hindi News
  • Business
  • Quick Loan App Scam, Instant Loan Mobile Apps; Hyderabad Telangana Police Arrested 16 People

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

मुंबई3 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

RBI ने कहा कि लोग ऐसे डिजिटल प्लेटफॉर्म्स और मोबाइल ऐप से लोन लेने से बचें। लोन देने वाली ऐसी कंपनियों के बारे में अगला-पिछला जरूर चेक कर लें

  • मोबाइल एप्स के जरिए फटाफट लोन लेने वाले तीन लोगों ने आत्महत्या कर ली थी
  • लोन देने वालों ने इन कर्जदारों को जमकर परेशान किया और धमकाया भी
  • 3 कॉल सेंटर में हजारों लोग काम कर रहे थे। 423 करोड़ रुपए बैंक में मिले

अगर आप अवैध तरीके से चल रहे ऑन लाइन और मोबाइल एप्स से लोन ले रहे हैं तो सावधान हो जाइए। आपको इस लोन के कारण आत्महत्या तक करना पड़ सकता है। ऐसे ही एक मामले में तेलंगाना पुलिस ने 16 लोगों को गिरफ्तार किया है। ये लोग इसी तरह के लोन का धंधा चलाते थे।

हैदराबाद का है मामला

बता दें कि हैदराबाद में आत्महत्या का तीन मामला सामने आया था। भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) की मंजूरी के बिना 30 मोबाइल ऐप्स से लोगों को 35% की ब्याज दर पर लोन दिया जाता था। मतलब तीन महीने में पैसा दोगुना हो जाता था। लोन की किस्त समय पर नहीं चुकाने पर ये मोबाइल ऐप्स कर्जदारों को डराते-धमकाते थे। इन धमकियों और उत्पीड़न से परेशान होकर जब तीन लोगों ने हैदराबाद में आत्महत्या कर ली, तब यह मामला सामने आया।

75 बैंक खाते फ्रीज, 423 करोड़ जमा

इस मामले में हैदराबाद पुलिस ने अब तक 75 बैंक अकाउंट को फ्रीज किया है। इनमें 423 करोड़ रुपए जमा हैं। तेलंगाना पुलिस ने अब तक 16 लोगों को गिरफ्तार किया है। साइबराबाद पुलिस इस मामले की जांच कर कर रही है। उसने मोबाइल ऐप्स के जरिये अवैध तरीके से लोन देने का धंधा चलाने वाले रैकेट के मालिक सरथ चंद्र को गिरफ्तार किया है।

अमेरिका से किया है पढ़ाई

सरथ चंद्र अमेरिका से इंजीनियरिंग की पढ़ाई की है। दो कंपनियों के जरिये यह लोगों को पैसा उधारी देता था। उसकी कंपनी ओनियन क्रेडिट प्राइवेट लिमिटेड और क्रेड फॉक्स टेक्नोलॉजीज बेंगलुरु में कंपनियों को लोन एप्लीकेशन बेचती थी। इस फर्जी काम के लिए दोनों फर्म ने हैदराबाद और गुरुग्राम में कॉल सेंटर बनाया था। हाल में जब तीन लोगों ने आत्महत्या की तो इसके बाद यह मामला खुला। हैदराबाद और गुरुग्राम में छापेमारी की गई।

इन ऐप्स के जरिये कर्ज देने के लिए 3 कॉल सेंटरों में करीब एक हजार लोगों को नौकरी पर रखा गया था। इसमें ज्यादातर कॉलेज ग्रेजुएट थे।

आरबीआई ने कल ही दी थी चेतावनी

RBI ने बुधवार को ही उन सभी लोगों को चेतावनी जारी की है, जो अवैध डिजिटल प्लेटफॉर्म के जरिए या फिर मोबाइल ऐप से लोन के लिए अप्लाई किया है। RBI ने कहा कि ऐसा देखा जा रहा है कि लोग फटाफट लोन पाने के चक्कर में डिजिटल फर्जीवाड़े का शिकार हो रहे हैं। रिजर्व बैंक ने कहा कि लोग सावधान हो जाएं। क्योंकि डॉक्यूमेंट्स के साथ फर्जीवाड़ा किया जा सकता है।

डिजिटल प्लेटफॉर्म से रहें सावधान

RBI ने कहा कि लोग ऐसे डिजिटल प्लेटफॉर्म्स और मोबाइल ऐप से लोन लेने से बचें। लोन देने वाली ऐसी कंपनियों के बारे में अगला-पिछला जरूर चेक कर लें। ऐसी कंपनियां ग्राहकों से ज्यादा ब्याज वसूलती हैं, साथ ही इनमें कई तरह के छिपे हुआ चार्ज होते हैं, जो ग्राहकों को शुरू में पता नहीं होते। फोन के जरिए आपके पर्सनल डाटा का गलत इस्तेमाल किया जा सकता है। इस https://sachet.rbi.org.in/ पर जाकर भी शिकायत कर सकते हैं।



Source link

By Raj

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *