नई दिल्ली14 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक

जीएसटीआर-9 एक वार्षिक रिटर्न है, जो करदाताओं द्वारा जीएसटी शासन के तहत दाखिल किया जाता है।

  • केंद्र सरकार ने वित्त वर्ष 2018-19 के लिए जीएसटी वार्षिक रिटर्न और ऑडिट रिपोर्ट दाखिल करने की समयसीमा को 31 अक्टूबर 2020 तक कर दिया है।

केंद्र सरकार ने वित्त वर्ष 2018-19 के लिए जीएसटी वार्षिक रिटर्न और ऑडिट रिपोर्ट दाखिल करने की समय सीमा को बढ़ा दिया है। नई समय सीमा एक महीने बढ़कर 31 अक्टूबर 2020 तक कर दी गई है।

जानिए क्या कहा CBIC ने ?

केंद्रीय अप्रत्यक्ष कर और सीमा शुल्क बोर्ड ने ट्वीट कर कहा है कि आदर्श आचार संहिता के मद्देनजर चुनाव आयोग से उचित मंजूरी हासिल करने के बाद सरकार ने जीएसटीआर-9 और जीएसटीआर 9सी के तहत वार्षिक रिटर्न दाखिल करने की नियत तारीख को 30 सितंबर 2020 से बढ़ाकर 31 अक्टूबर 2020 तक कर दिया है। बता दें कि इससे पहले सरकार ने मई में 2018-19 के लिए वार्षिक जीएसटी रिटर्न दाखिल करने की अंतिम तिथि को सितंबर 2020 तक तीन महीने के लिए बढ़ाया था।

क्या है जीएसटीआर-9

जीएसटीआर-9 एक वार्षिक रिटर्न है, जो करदाताओं द्वारा वस्तु एवं सेवा कर (जीएसटी) शासन के तहत दाखिल किया जाता है। इसके तहत साल भर की कारोबारी गतिविधियों की पूरी जानकारी देनी होती है। GSTR-9C एक तरह का ऑडिट फॉर्म होता है, जिसे GSTR-9 और ऑडिट किए गए वार्षिक वित्तीय विवरण के बीच एक सामंजस्य की घोषणा माना जाता है।

जीएसटी काउंसिल की बैठक

गौरतलब है कि सितंबर महीने के जीएसटी कलेक्शन के आंकड़े जारी होने वाले हैं। इसके अलावा 5 अक्टूबर को जीएसटी काउंसिल की बैठक भी होने वाली है। इस बैठक में एक बार फिर राज्यों के मुआवजे के मुद्दे पर चर्चा होने की संभावना है। अगस्त माह में हुए जीएसटी काउंसिल की 41वीं बैठक में वित्त मंत्री ने राज्यों को उधार लेकर अपना काम चलाने के दो विकल्प दिये थे। हालांकि, विपक्षी दलों द्वारा शासित राज्य सरकार इस विकल्प को मानने को तैयार नहीं हैं।





Source link

By Raj

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *